Friday, February 26, 2021
Home राजनीति जो शीला दीक्षित से लेना चाहते थे बदला, उनके गले लगकर भी दिन नहीं...

जो शीला दीक्षित से लेना चाहते थे बदला, उनके गले लगकर भी दिन नहीं बदल पाई कॉन्ग्रेस

शीला दीक्षित के विरोधी पीसी चाको जिस कीर्ति आजाद को लेकर आए उनकी पत्नी को इस चुनाव में मिले हैं कुल 2,604 वोट। ये वही कीर्ति आजाद हैं जिनका दिल्ली की सियासत से बोरिया बिस्तर शीला दीक्षित के कारण बॅंधा था और उसके बाद कभी वे प्रदेश की राजनीति में पॉंव नहीं जमा पाए।

11 फरवरी 2020। 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आए। जोरदार तरीके से आप ने सत्ता में वापसी की। कॉन्ग्रेस ने जो 66 उम्मीदवार उतारे थे उनमें से 63 अपनी जमानत ही नहीं बचा पाए। आप की जीत और भाजपा की हार के चर्चे के बीच कॉन्ग्रेस को सुर्खियॉं हाथ लगनी नहीं थी। इसलिए, उसके हाई प्रोफाइल उम्मीदवारों के दयनीय प्रदर्शन की भी चर्चा नहीं हुई। फिर भी आपको संगम विहार सीट का हाल सुनाता हूॅं। यहॉं से कॉन्ग्रेस की उम्मीदवार पूनम आजाद को कुल 2,604 वोट मिले हैं। जितने वोट पड़े उसका केवल 2.23 फीसदी। वे कॉन्ग्रेस की प्रचार समिति के अध्यक्ष कीर्ति आजाद की पत्नी हैं।

यहॉं पूनम आजाद की विशेष तौर पर चर्चा की वजह शीला दीक्षित के नाम पर कॉन्ग्रेस में मचा घमासान है। इस कहानी को समझने के लिए आपको 2003 में जाना होगा। उस साल अचानक से दिल्ली के राजनीतिक सर्कल में एक महिला का नाम चर्चा में आया। यह महिला थीं, पूनम आजाद। बिहार के मुख्यमंत्री रहे भागवत झा आजाद की बहू और 1983 की वर्ल्ड चैंपियन क्रिकेट टीम के सदस्य तथा आज के दिल्ली प्रदेश कॉन्ग्रेस की चुनाव प्रचार समिति के चेयरमैन कीर्ति आजाद की पत्नी। उस समय कीर्ति बीजेपी में हुआ करते थे।

चर्चा चली कि दिल्ली की हाई प्रोफाइल गोल मार्केट विधानसभा सीट से तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के खिलाफ बीजेपी पूनम को मैदान में उतार सकती है। इस चर्चा से सबसे ज्यादा हैरानी दिल्ली भाजपा के नेताओं को ही हुई। उन्होंने पूनम आजाद का न तो नाम सुना था और न कभी उन्हें पार्टी गतिविधियों में शामिल होते देखा था। उस समय कीर्ति आजाद ने कहा था कि यदि बीजेपी उनकी पत्नी को टिकट देती है तो यह उनके लिए अपनी हार का बदला लेने का मौका होगा। बीजेपी ने उस साल हुए विधानसभा चुनाव में गोल मार्केट से पूनम आजाद को ही लड़ाया। लेकिन, न शीला दीक्षित हारीं और न पत्नी के जरिए प्रतिशोध की कीर्ति की मुराद पूरी हो पाई।

असल में, कीर्ति आजाद और शीला दीक्षित की राजनीतिक अदावत 1998 में ही शुरू हो गई थी। कॉन्ग्रेसी पिता के क्रिकेटर बेटे कीर्ति आजाद ने राजनीतिक पारी की शुरुआत बीजेपी से की। 1993 में पहली बार चुनावी राजनीति के मैदान में उतरे। गोल मार्केट की पिच पर ऐसा झंडा गाड़ा कि दिल्ली विधानसभा पहुॅंच गए। लेकिन, पॉंच साल बाद ही उन्हें चुनावी हार का स्वाद चखना पड़ा। कॉन्ग्रेस की शीला दीक्षित ने न केवल उन्हें चुनाव में पटखनी दी, बल्कि दिल्ली के राजनीति से कीर्ति का बोरिया-बिस्तर बॅंध गया।

साल भर बाद हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें बिहार के दरभंगा से चुनाव लड़ने भेज दिया। दरभंगा कीर्ति का ससुराल भी है और यहॉं ब्राह्मण मतदाता प्रभावी भी हैं। इस सीट से कीर्ति तीन बार लोकसभा भी पहुॅंचे। लेकिन, दिल्ली की राजनीतिक पिच पर जमने का दूसरा मौका वे तलाशते रहे। कभी पत्नी पूनम के चेहरे को आगे कर तो कभी डीडीसीए में पैर जमाने की कोशिश कर। इस कोशिश में पूनम बीजेपी से भाया आप होते हुए साल 2017 में कॉन्ग्रेस में आ गईं। वहीं, दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) को लेकर पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ उनका विवाद आखिरकार बीजेपी से उनकी विदाई का कारण बना।

बीते साल आम चुनावों से पहले कीर्ति आजाद कॉन्ग्रेस में आए थे। उस समय पार्टी अध्यक्ष रहे राहुल गॉंधी ने खुद उनका इस्तकबाल किया था। यह दूसरी बात थी कि बिहार में कॉन्ग्रेस उनके लिए सहयोगियों से न दरभंगा की सीट ले पाई और न राज्य में दूसरा कोई सीट तलाश पाई। आखिरकार, उन्हें चुनावी भट्ठी में पार्टी ने झारखंड की धनबाद सीट से झोंक दिया। चमत्कार होना न था और कीर्ति हार गए।

इस चुनावी पराजय के बाद कीर्ति राजनीति के नेपथ्य में चले गए। फिर अक्टूबर 2019 में अचानक से चर्चा में आए। कहा गया कि उनका दिल्ली प्रदेश कॉन्ग्रेस अध्यक्ष बनना तय है और कभी भी नाम का ऐलान हो सकता है। लेकिन, जब नाम का ऐलान हुआ तो कीर्ति के हिस्से चुनाव प्रचार समिति आई। उस समय ऐसा दावा किया गया था कि कीर्ति के हाथ से अध्यक्ष की कुर्सी पार्टी के प्रदेश प्रभारी पीसी चाको और शीला दीक्षित के पूर्व सांसद बेटे संदीप दीक्षित के बीच की लड़ाई के कारण फिसली है। शीला दीक्षित का बीते साल 20 जुलाई को निधन हुआ था। उनके चाको से मतभेद जगजाहिर थे। संदीप ने इसे अपनी माँ की मौत का कारण बताया था। चाको चाहते थे कि शीला की जगह प्रदेश की कमान कीर्ति को मिले।

ऐसे में सोनिया ने बीच का रास्ता चुना। लेकिन, विडंबना देखिए सोनिया के नेतृत्व में जिस शख्स का दिल्ली की राजनीति से शीला ने बोरिया-बिस्तर बॅंधवाया था, दो दशक बाद सोनिया ने शीला की मौत के 94 दिन के बाद उसे ही मोर्चे पर लगा दिया। इस उम्मीद में कि शीला जैसा कमाल कर दिखाएँ। इसके पीछे कॉन्ग्रेस की दो दशक पुरानी वही रणनीति है जिसके बलबूते उसे 1998 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में जीत मिली और फिर अगले डेढ़ दशक तक वह राज्य की सत्ता में बनी रही। पंजाबी और पूर्वांचल मतदाताओं को एक साथ साधना। उस समय भी पार्टी के अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ही थे, जिन्हें एक बार फिर से अध्यक्ष बनाया गया है। पार्टी का चेहरा थीं शीला दीक्षित, जो उत्तर प्रदेश के कद्दावर नेता रहे उमाशंकर दीक्षित की बहू थीं।

लेकिन, शायद सोनिया यह भूल गईं थी कि वह साल दूसरा था, यह साल दूसरा है। इस बीच यमुना में काफी पानी बहा। उसका ही असर था कि इस बार चुनाव में पहले कॉन्ग्रेस के नेतृत्व ने सरेंडर किया फिर उम्मीदवार पॉंच फीसदी वोट भी नहीं ला पाए। लगातार दूसरे विधानसभा चुनाव में पार्टी का खाता नहीं खुला। नतीजों के बाद पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले सुभाष चोपड़ा की बेटी भी जमानत नहीं बचा पाई। ​आखिर में रही-सही कसर चाको ने हार की जिम्मेदार दिवंगत दीक्षित के मत्थे मढ़ कर पूरी कर दी है। जबकि सच्चाई यही है कि दिल्ली की सत्ता में वापसी के लिए सोनिया ने हर उस शख्स को गले लगाया जिससे पूर्व मुख्यमंत्री के मतभेद थे, जो उनसे कभी बदला लेना चाहता था।

अल्लाह मेहरबान तो PK पहलवान: मिलिए, चुनावी कैंपेन की दुनिया के ‘रामविलास’ से

दिल्ली में क्यों नहीं खिल पाया कमल, क्या सचमुच विकास ही था मुद्दा?: ऑपइंडिया का वीडियो विश्लेषण

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

कुरान की आयतें करती हैं सीमित परिवार की पैरवी: पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त कुरैशी ने बताया इस्लाम को परिवार नियोजन का समर्थक

“1,400 साल पहले, जब दुनिया में कहीं भी जनसंख्या का दबाव नहीं था, कुरान में नियोजित परिवारों के बारे में बात हो रही थी"

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

‘लियाकत और रियासत के रिश्तेदार अब भी देते हैं जान से मारने की धमकी’: दिल्ली दंगा में भारी तबाही झेलने वाले ने सुनाया अपना...

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि चाँदबाग में स्थित दंगा का प्रमुख केंद्र ताहिर हुसैन के घर को सील कर दिया गया था, लेकिन 5-6 महीने पहले ही उसका सील खोला जा चुका है।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,849FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe