Wednesday, August 4, 2021
Homeबड़ी ख़बर'हिल स्टेशंस और बाजारों में बिना मास्क पहने भारी भीड़ का उमड़ना ठीक नहीं':...

‘हिल स्टेशंस और बाजारों में बिना मास्क पहने भारी भीड़ का उमड़ना ठीक नहीं’: PM मोदी ने लोगों को चेताया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेताया, "आज मैं बहुत जोर देकर कहूँगा कि हिल स्टेशंस में, मार्केट्स में बिना मास्क पहने, भारी भीड़ का उमड़ना ठीक नहीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर से कोरोना वायरस संक्रमण, इसके दुष्प्रभाव और इससे बचने की सावधानियों को अपनाने को लेकर लोगों को आगाह किया है। उन्होंने कहा कि ये सही है कि कोरोना की वजह से पर्यटन, व्यापार-कारोबार बहुत प्रभावित हुआ है। लेकिन, साथ ही उन्होंने चेताया, “आज मैं बहुत जोर देकर कहूँगा कि हिल स्टेशंस में, मार्केट्स में बिना मास्क पहने, भारी भीड़ का उमड़ना ठीक नहीं।

बता दें कि देश के विभिन्न पर्यटन स्थलों से पिछले कुछ दिनों में ऐसी कई तस्वीरें सामने आई हैं, जहाँ लोगों को भारी भीड़ जुटाते हुए देखा गया। इस दौरान मास्क लगाने जैसी मेडिकल सलाहों को भी लोगों ने नज़रअंदाज़ किया। खासकर मनाली, नैनीताल और मसूरी जैसे हिल स्टेशंस से इस तरह की तस्वीरें सामने आई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर-पूर्वी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बैठक के दौरान इस बारे में लोगों को जगह किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें टेस्टिंग और ट्रीटमेंट से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार करते हुए आगे चलना है। उन्होंने जानकारी दी कि हाल ही में इसके लिए कैबिनेट ने 23,000 करोड़ रुपए का एक नया पैकेज भी स्वीकृत किया है, जिससे नॉर्थ-ईस्ट के हर राज्य को अपने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मज़बूत करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि हमें कोरोना वायरस के हर वेरिएंट पर भी नज़र रखनी होगी।उन्होंने कहा कि म्यूटेशन के बाद ये कितना परेशान करने वाला होगा, इस बारे में विशेषज्ञ लगातार स्टडी कर रहे हैं। ऐसे में प्रिवेंशन और ट्रीटमेंट बहुत जरूरी है।

ख़बरों में कहा जा रहा है कि जहाँ मनाली जैसे शहरों में पर्यटकों के बड़ी संख्या में आने के कारण वहाँ का व्यापार तो चल पड़ा है लेकिन अधिकतर लोग कोरोना दिशानिर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं। कुल्लू प्रशासन का कहना है कि पर्यटन इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन लगाई जा रही है। पर्यटकों को लगातार जगह किया जा रहा है। मॉनसून में देरी के कारण पर्यटक बड़ी संख्या में निकले हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? मौलाना के दावे का विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,975FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe