Monday, June 24, 2024
Homeराजनीतिजोहार! देश की 15वीं राष्ट्रपति बनीं द्रौपदी मुर्मूः अब तक की सबसे कम उम्र...

जोहार! देश की 15वीं राष्ट्रपति बनीं द्रौपदी मुर्मूः अब तक की सबसे कम उम्र की प्रथम नागरिक, स्वतंत्र भारत में पैदा हुईं पहली महामहिम

कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति, लोकसभा अध्यक्ष, प्रधानमंत्री मोदी, कई प्रदेशों के राज्यपाल, कई मुख्यमंत्री, तीनों सेनाओं के प्रमुख और कई देशों के राजदूत मौजूद रहे। 21 टोपों की सलामी के बाद राष्ट्रपति मुर्मू ने देश को पहली बार संबोधित किया।

देश के 15वें राष्ट्रपति के तौर पर द्रौपदी मुर्मू ने आज (25 जुलाई 2022) सर्वोच्च पद की शपथ ग्रहण की। मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना द्वारा मुर्मू को संसद भवन कें सेंट्रल हॉल में यह शपथ ग्रहण करवाई गई। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उनके भाई भी दिल्ली आए। द्रौपदी देश की पहली जनजाति और दूसरी महिला राष्ट्रपति हैं। वह अब तक की सबसे कम उम्र की प्रथम नागरिक बनी हैं।

कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, प्रधानमंत्री मोदी, कई प्रदेशों के राज्यपाल, कई मुख्यमंत्री, तीनों सेनाओं के प्रमुख और कई देशों के राजदूत मौजूद रहे। 21 टोपों की सलामी के बाद राष्ट्रपति मुर्मू ने देश को पहली बार संबोधित किया। उन्होंने ‘जोहार! नमस्कार!’ के साथ संबोधन आरंभ किया। उन्होंने कहा कि वह देश की पहली ऐसी राष्ट्रपति हैं जिन्होंने आजाद भारत में जन्म लिया।

इसके बाद वह राष्ट्रपति भवन के रवाना हुईं। वहाँ उन्हें एक इंटर सर्विस गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा।

बता दें कि शपथ ग्रहण करने के लिए संसद भवन पहुँचने से पहले द्रौपदी मुर्मू आज राजघाट गई थीं। वहाँ उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद राष्ट्रपति भवन के लिए रवाना हुईं। वहाँ उनका स्वागत निवर्तमान राष्ट्रपति कोविंद और उनकी पत्नी ने गुलदस्ता देकर किया।

गौरतलब है कि निवर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई 2022 को समाप्त हो गया है। उन्होंने कल रात आखिरी बार बतौर राष्ट्रपति देश को संबोधित किया था। उन्होंने संबोधन में देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था का आभार प्रकट करते हुए बताया था कि इन पाँच सालों में उनके सबसे यादगार पल वे थे जब वो राष्ट्रपति बन अपने गाँव गए और बुजुर्ग शिक्षकों के पाँव छुए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चोर औरंगजेब की पिटाई पर चीत्कार, दलित नकुल को चाकू घोंपने की चर्चा तक नहीं: अलीगढ़ में एक ही दिन हुई दोनों घटना, पर...

जिस अलीगढ़ में चोर औरंगज़ेब के लिए नौकरी व मुआवजे की माँग हो रही है। वहीं शहज़ाद की चाकूबाजी में घायल दलित नकुल का परिवार कर्ज लेकर अपना इलाज करवा रहा है।

‘काश निर्भया की जगह तुम होती, एहसान मानो अभी तक जिंदा हो…’: स्वर्ण मंदिर में योग करने वाली लड़की को मिल रही रेप-हत्या की...

स्वर्ण मंदिर के सामने शीर्षासन करने वाली इन्फ्लुएंसर को सोशल मीडिया पर धमकियाँ मिल रही थीं। अब वडोदरा पुलिस ने उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -