Thursday, May 6, 2021
Home राजनीति क़र्ज़माफ़ी संभव नहीं, राहुल गाँधी को नहीं करना चाहिए था वादा: दिग्विजय के भाई...

क़र्ज़माफ़ी संभव नहीं, राहुल गाँधी को नहीं करना चाहिए था वादा: दिग्विजय के भाई लक्ष्मण सिंह

"राहुल गाँधी को 10 दिनों के भीतर क़र्ज़माफ़ी का वादा नहीं करना चाहिए था। 45 हज़ार करोड़ की क़र्ज़माफ़ी आसान काम नहीं है। इस वर्ष किसानों की क़र्ज़माफ़ी किसी भी क़ीमत पर नहीं हो सकती।"

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने किसानों की क़र्ज़माफ़ी को लेकर बड़ा बयान दिया है। उनके इस बयान से कॉन्ग्रेस की मुश्किलें बढ़ सकती है, क्योंकि पार्टी ने क़र्ज़माफ़ी को ही मुद्दा बना कर 2018 में हुआ विधानसभा चुनाव लड़ा था और राज्य में सरकार बनाई थी।

5 बार सांसद और 2 बार विधायक रहे लक्ष्मण सिंह ने कहा है कि क़र्ज़माफ़ी किसी भी क़ीमत पर संभव नहीं है। उन्होंने कहा है कि इस वर्ष किसानों की क़र्ज़माफ़ी नहीं हो पाएगी, क्योंकि सरकार इसका आकलन करने में विफल साबित हुई है।

बता दें कि राहुल गाँधी ने चुनाव के दौरान सरकार गठन के 10 दिनों के भीतर किसानों की क़र्ज़माफ़ी करने का ऐलान किया था। अब लक्ष्मण सिंह ने अपनी ही पार्टी के पूर्व अध्यक्ष के बयान पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी को 10 दिनों के भीतर क़र्ज़माफ़ी का वादा नहीं करना चाहिए था। आँकड़े गिनाते हुए कॉन्ग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा कि 45 हज़ार करोड़ की क़र्ज़माफ़ी आसान काम नहीं है। लक्ष्मण सिंह के अनुसार, इस वर्ष किसानों की क़र्ज़माफ़ी किसी भी क़ीमत पर नहीं हो सकती।

लक्ष्मण सिंह का यह बयान अहम है, क्योंकि मध्य प्रदेश के एक मंत्री ने ही उनके भाई दिग्विजय सिंह पर परदे के पीछे से सरकार में दखल देने का आरोप लगाया है। ज्योतिरादित्य सिंधिया को कॉन्ग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के लिए उनके समर्थक लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। फिलहाल कमलनाथ मध्य प्रदेश में सरकार और संगठन, दोनों के मुखिया बने हुए हैं। दिग्विजय, सिंधिया और कमलनाथ के त्रिकोण में उलझी मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस की सियासत में लक्ष्मण सिंह का बयान मायने रखता है।

इस दौरान लक्ष्मण सिंह ने संगठन को लेकर भी बात की। बता दें कि लक्ष्मण 1990 में ही पहली बार विधायक बने थे और लगातार सक्रिय रहने के बावजूद उन्हें कमलनाथ मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली। जब मीडिया ने उनसे इस सम्बन्ध में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि वे पार्टी से ऐसी अपेक्षा रखते हैं कि उनका कहीं भी उपयोग किया जाना चाहिए। अपनी पीठ थपथपाते हुए लक्ष्मण सिंह ने कहा कि उन पर न तो भ्रष्टाचार के कोई आरोप हैं और न ही उनके पास अनुभव की कोई कमी है।

मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस के नए प्रदेश अध्यक्ष को लेकर गुटबाजी चरम पर है और इस सम्बन्ध में कई नेता अपनी पसंद-नापसंद ज़ाहिर कर रहे हैं। प्रदेश अध्यक्ष और राज्य में कॉन्ग्रेस सरकार को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में दिग्विजय सिंह के भाई ने कहा:

“ज्योतिरादित्य सिंधिया एक अनुभवी नेता हैं और वे अध्यक्ष पद के लायक भी हैं। कमलनाथ सरकार पूरे 5 वर्षों तक चलेगी। मुख्यमंत्री कमलनाथ भी काफ़ी अनुभवी नेता हैं। इस सरकार को परदे के पीछे से कोई भी नहीं चला रहा। मुख्यमंत्री कमलनाथ ही यह सरकार चला रहे हैं।”

बता दें कि मध्य प्रदेश के वन मंत्री उमर सिंघार ने कहा था कि दिग्विजय सिंह परदे के पीछे से सरकार चला रहे हैं और यह बात कार्यकर्ताओं से लेकर सभी नेताओं को पता है। उन्होंने कहा था कि अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर मंत्रियों को दिग्विजय के पत्र आते हैं। लक्ष्मण सिंह ने उनके इस बयान पर टिप्पणी करते हुए कहा कि उनके बड़े भाई दिग्विजय और मंत्री उमर सिंघार को आपस में मिल-बैठ कर बात कर लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे विवादों का लाभ भाजपा को मिलता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल हिंसा वाली रिपोर्ट राज्यपाल तक नहीं पहुँचे: CM ममता बनर्जी का ऑफिसरों को आदेश, गवर्नर का आरोप

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने चुनाव परिणाम के बाद हिंसा पर रिपोर्ट देने से...

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

महाराष्ट्र पुलिस में दलाली और उद्धव-पवार का नाम: जिस महिला IPS ने खोले पोल, उनकी गिरफ्तारी पर HC की रोक

IPS अधिकारी रश्मि शुक्ला बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचीं, जहाँ FIR रद्द कर के पुलिस को कोई सख्त कदम उठाने से रोकने का निर्देश देने की दरख़्वास्त की गई।

CM केजरीवाल या उनके वकील – कौन है झूठा? दिल्ली में ऑक्सीजन पर एक ने झूठ बोला है – ये है सबूत

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट को लेकर दिल्ली सरकार से जुड़ी दो विरोधाभासी जानकारी सामने आई। एक खबर में बताया गया कि दिल्ली सरकार ने...

बंगाल में अब दलित RSS कार्यकर्ता की हत्या, CM ममता बनर्जी की घोषणा – मृतकों को मिलेंगे 2-2 लाख रुपए

बंगाल में एक RSS कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई। ईस्ट बर्दवान के केतुग्राम की में 22 वर्षीय बलराम मांझी की हत्या कर दी गई।

बंगाल हिंसा के ये कैसे जख्म: किसी ने नदी में लगाई छलांग तो कोई मॉं का अंतिम संस्कार भी नहीं कर सका

मेघू दास हों या बीजेपी के अनाम बूथ अध्यक्ष या फिर दलित भास्कर मंडल। टीएमसी के गुंडों से प्रताड़ित इनलोगों के जख्म शायद ही भर पाएँ।

प्रचलित ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

नेशनल जूनियर चैंपियन रहे पहलवान की हत्या, ओलंपियन सुशील कुमार को तलाश रही दिल्ली पुलिस

आरोप है कि सुशील कुमार के साथ 5 गाड़ियों में सवार होकर लारेंस बिश्नोई व काला जठेड़ी गिरोह के दर्जन भर से अधिक बदमाश स्टेडियम पहुँचे थे।

बेशुमार दौलत, रहस्यमयी सेक्सुअल लाइफ, तानाशाही और हिंसा: मार्क्स और उसके चेलों के स्थापित किए आदर्श

कार्ल मार्क्स ने अपनी नौकरानी को कभी एक फूटी कौड़ी भी नहीं दी। उससे हुए बेटे को भी नकार दिया। चेले कास्त्रो और माओ इसी राह पर चले।

‘द वायर’ हो या ‘स्क्रॉल’, बंगाल में TMC की हिंसा पर ममता की निंदा की जगह इसे जायज ठहराने में व्यस्त है लिबरल मीडिया

'द वायर' ने बंगाल में हो रही हिंसा की न तो निंदा की है और न ही उसे गलत बताया है। इसका सारा जोर भाजपा द्वारा इसे सांप्रदायिक बताए जाने के आरोपों पर है।

21 साल की कॉलेज स्टूडेंट का रेप-मर्डर: बंगाल में राजनीतिक हिंसा के बीच मेदिनीपुर में महिला समेत 3 गिरफ्तार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हो रही हिंसा के बीच पश्चिम मेदिनीपुर जिले से बलात्कार और हत्या की एक घटना सामने आई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,365FansLike
89,680FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe