Sunday, September 19, 2021
Homeराजनीति'5 लाख बंगाली हिंदुओं को मिलेगी नागरिकता' - जिन्हें NRC से मिली थी निराशा,...

‘5 लाख बंगाली हिंदुओं को मिलेगी नागरिकता’ – जिन्हें NRC से मिली थी निराशा, CAB ने जगाई आशा!

"एनआरसी में 5,04,800 बंगाली हिंदुओं को रिजेक्ट किया गया था, जिनमें से 3 से 4 लाख लोग संशोधित कानून के अंतर्गत नागरिकता के लिए आवेदन करेंगे। इसके अतिरिक्त..."

अगर आज यानी बुधवार (दिसंबर 11, 2019) को राज्यसभा में बिना किसी अड़ंगे के नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB, कैब) पास हो जाता है, तो बांग्लादेश से आए 5 लाख से ज्यादा बंगाली हिंदू जिन्हें एनआरसी की अंतिम सूची में जगह नहीं मिल पाई थी, उन्हें नागरिकता मिल जाएगी

इस संबंध में असम के वित्त मंत्री हिमंत बिस्वा शर्मा ने भी मंगलवार को अपना बयान जारी किया है। उन्होंने बताया है कि इन लोगों को पहले आवेदन करना होगा। जिसके बाद इन्हें नागरिकता देने से पहले इनके आवेदन की जाँच होगी और फिर तय प्रक्रिया को पूरा करके अगले विधानसभा चुनाव (2021) से पहले इन्हें नागरिकता दी जाएगी

गौरतलब है कि 31 अगस्त को आई एनआरसी की अंतिम सूची में 19 लाख लोगों को जगह नहीं मिल पाई थी। लेकिन कैब के पास हो जाने के बाद 5 लाख लोगों की नागरिकता सुनिश्चित होगी और बाकी बचे 13 लाख लोगों को भारतीय नागरिकता के लिए फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल में संपर्क करना होगा। बता दें इन शेष 13 लाख लोगों में 7 लाख समुदाय विशेष के लोग हैं।

शर्मा ने विधेयक पर बात करते हुए कहा कि कैब कार्यकर्ताओं के हिसाब से एनआरसी में 5,04,800 बंगाली हिंदुओं को रिजेक्ट किया गया था, जिनमें से 3 से 4 लाख लोग संशोधित कानून के अंतर्गत नागरिकता के लिए आवेदन करेंगे। इसके अतिरिक्त, चूँकि इन लोगों में 1 लाख बंगाली हिंदू ऐसे भी हैं, जिन्होंने एनआरसी के लिए आवेदन ही नहीं किया था। इसलिए इन लोगों की कुल संख्या को 5 लाख समझकर चला जा रहा है।

राज्य के वित्त मंत्री ने इस बातचीत में स्पष्ट किया है कि राज्य के कामरुप और होजई जिले में करीब 60,000 बंगाली हिंदू हैं, जिनकी संख्या अन्य जिलों से ज्यादा है। बता दें कि होजई वही जिला है, जहाँ रह रहे 60,000 मुस्लिमों को एनआरसी से बाहर निकाला गया था। जबकि दारंग वो जिला है, जहाँ सबसे अधिक तादाद में मुस्लिमों को NRC की सूची में जगह नहीं मिली थी। वहीं, चारादिऊ, दिमा हसाओ, हामरेन, मजूली जिले से किसी मुस्लिम को सूची से बाहर नहीं किया गया था। बता दें कि चारादिऊ में बंगाली अप्रवासियों की संख्या 2000 के करीब है, दिमा हसाऊ में 1500, हामरेन में 1000 और मजूली में 300।

इस विधेयक पर अपनी राय रखते हुए वित्त मंत्री ने एक ट्वीट भी किया और कहा कि इतिहास में नेहरू द्वारा की गई एक बड़ी भूल इस बिल के माध्यम से सुधरेगी।

गौरतलब है कि लोकसभा में कैब के पास हो जाने के बाद उस पल को ऐतिहासिक क्षण बताते हुए असम के मुख्यमंत्री सरबनंदा सोनोवाल ने इस संबंध में सोमवार को बताया कि उन्होंने 2 लाख बंगाली हिंदुओ की एक लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में वो लोग शामिल हैं, जो फिलहाल राज्य के 34 जिलों में रह रहे हैं और नागरिकता के लिए योग्य हैं।

अपने ट्वीट में कैब की बात करते हुए उन्होंने उसके मूल उद्देश्य को स्पष्ट किया और लिखा कि ये न केवल 3 देशों से आए 6 अल्पसंख्यक समुदाय को राहत पहुँचाएगा बल्कि संवैधानिक रूप से असम के लोगों के लिए मार्ग प्रशस्त करेगा। इस कदम के लिए सोनोवाल ने प्रधानमंत्री, केंद्रीय गृहमंत्री को धन्यवाद भी अदा किया है औऱ कहा है कि अपने वादे के प्रति प्रतिबद्धता और सबको साथ लेकर अपने लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आभार।

बता दें कि असम मुख्यमंत्री द्वारा कैब को समर्थन दिए जाने पर उनके राज्य के कुछ लोग उनसे बेहद नाराज हैं। आसु (ऑल असम स्टुडेंट यूनियन) के राष्ट्रीय सचिव लुरिनज्योति गोगोई ने कहा है कि इस बार जदयू, शिवसेना, बीजेदी से ज्यादा उन्हें उनके अपने मुख्यमंत्री ने शर्मिंदा किया है। क्योंकि वे और उनके पार्टी नेता कैब के समर्थन में जाकर असम के लोगों के विरुद्ध जा रहे हैं।

जिसने किया भारत पर सबसे पहला हमला, उसी संग नेहरू ने किया समझौता: इसी कारण बनी CAB

लोकसभा में हाँ, राज्यसभा में ना: नागरिकता संशोधन विधेयक पर शिव सेना का ‘पेंडुलम हिंदुत्व’

नागरिकता विधेयक पर वामपंथी फैला रहे प्रपंच, ये रहे आपके कुछ सवालों के जवाब

भोला जहाँ 8-70 साल की 200 हिंदू महिलाओं का रेप हुआ, अमित शाह को क्यूँ याद आई वह बर्बरता

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिब्बल की राह पर थरूर, कॉन्ग्रेसी आलाकमान पर साधा निशाना, कहा – ‘पार्टी को तुरंत नए नेतृत्व की जरूरत’

"सोनिया गाँधी के खिलाफ किसी ने एक शब्द नहीं कहा, लेकिन वह खुद से ही पद छोड़ना चाहती हैं। नए नेतृत्व को जल्द से जल्द पद सँभाल लेना चाहिए।"

पंजाब के बाद राजस्थान में फँसी कॉन्ग्रेस: सचिन पायलट दिल्ली में, CM अशोक गहलोत के OSD का इस्तीफा

इस्तीफे की वजह लोकेश शर्मा द्वारा किया गया एक ट्वीट बताया जा रहा है जिसके बाद कयासों का नया दौर शुरू हो गया था और उनके ट्वीट को पंजाब के घटनाक्रम के साथ भी जोड़कर देखा जाने लगा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,150FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe