Friday, June 25, 2021
Home राजनीति जिसने किया भारत पर सबसे पहला हमला, उसी संग नेहरू ने किया समझौता: इसी...

जिसने किया भारत पर सबसे पहला हमला, उसी संग नेहरू ने किया समझौता: इसी कारण बनी CAB

लियाकत अली खान विभाजन और आजादी से पूर्व भारत में एक अस्थायी और कम समय की सरकार में पंडित जवाहर लाल नेहरू के मंत्रिमंडल सहयोगी रहे थे। उन्हीं के कार्यकाल में भारत पर पाकिस्तान की ओर से पहला सैन्य हमला किया गया था।

लोकसभा में सोमवार (दिसंबर 9, 2019) को नागरिकता संशोधन बिल 2019 की बहस के दौरान सदन में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नेहरू-लियाकत समझौते को नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) की वजह बताई। साथ ही उन्होंने 1950 में लागू हुए इस समझौते के बारे में उन्होंने कई सवाल भी उठाए। विधेयक पेश करने के दौरान विपक्षियों ने इसे मजहब विशेष के खिलाफ भेदभाव बताया था, मगर अमित शाह ने नेहरू-लियाकत समझौते का उल्लेख करते हुए नए कानून को सही ठहराया।

उन्होंने कहा कि नेहरू-लियाकत समझौता विफल रहा। इसलिए यह बिल लाने की आवश्कता पड़ी। यदि पाकिस्तान द्वारा संधि का पालन किया गया होता, तो इस विधेयक को लाने की कोई आवश्यकता नहीं होती। असम के मंत्री हेमंत विस्व शर्मा ने भी लोगों को नेहरू लियाकत समझौता की याद दिलाई। विस्व शर्मा ने ट्वीट कर कहा कि यह बिल नेहरू-लियाकत समझौता की ऐतिहासिक भूलों को ठीक करने वाला है।

क्या है नेहरू-लियाकत समझौता

ये वो दौर था जब भारत और पाकिस्तान विभाजन का दंश झेल रहे थे। स्वतंत्र भारत और नए बने पाकिस्तान बँटवारे के बाद हुए भीषण दंगों से लोग पीड़ित थे। सैकड़ों दंगा पीड़ित लोग इस सीमा से उस सीमा को पार करते रहते थे। इसी पृष्ठभूमि में 1950 में इस समझौते पर दिल्ली के गवर्मेंट हाउस में दोनों देशों के पहले प्रधानमंत्री पंड़ित जवाहरलाल नेहरू और लियाकत अली खान ने दस्तखत किए थे। समझौते के तहत दोनों देशों ने अपने-अपने देश में अल्पसंख्यक आयोग गठित किए थे। इस समझौते के लिए दोनों देशों के अधिकारियों के बीच दिल्ली में 6 दिनों तक बातचीत हुई थी। इसे दिल्ली पैक्ट (Delhi Pact) के नाम से भी जाना जाता है।

तात्कालिक चिंता पूर्वी पाकिस्तान के हिंदुओं और पश्चिम बंगाल के मुस्लिमों का पलायन था। भारत और पाकिस्तान के बीच पहले ही जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की घुसपैठ के की वजह से संबंध तनावपूर्ण बन गए थे। भारत और पाकिस्तान के बीच दिसंबर 1949 तक आर्थिक संबंध टूट गए थे। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदुओं, सिखों, जैन और बौद्धों के पलायन और भारत में मजहब विशेष को गंभीर शरणार्थी संकट का सामना करना पड़ा।

समझौते की मुख्य बातें:-

1. प्रवासियों को ट्रांजिट के दौरान सुरक्षा दी जाएगी। वे अपनी बची हुई संपत्ति को बेचने के लिए सुरक्षित वापस आ-जा सकते हैं।

2. जिन औरतों का अपहरण किया गया है, उन्हें वापस परिवार के पास भेजा जाएगा। अवैध तरीके से कब्जाई गई अल्पसंख्यकों की संपत्ति उन्हें लौटाई जाएगी।

3. जबरदस्ती धर्म परिवर्तन अवैध होगा, अल्पसंख्यकों को बराबरी और सुरक्षा के अधिकार दिए जाएँगे। दोनों देशों में अल्पसंख्यकों के खिलाफ किसी भी तरह का कुप्रचार नहीं चलाने दिया जाएगा।

4. दोनों देश, युद्ध को भड़ाकाने वाले और किसी देश की अखंडता पर सवाल खड़ा करने वाले प्रचार को बढ़ावा नहीं देंगे।

समझौते के समय गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल भी मौजूद थे। इस समझौते का विरोध करते हुए नेहरू सरकार के उद्योगमंत्री श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने इस्तीफा दे दिया था। मुखर्जी तब हिंदू महासभा के नेता थे। उन्होंने पैक्ट को मुस्लिम तुष्टिकरण करने वाला करार दिया था।

बता दें कि लियाकत अली खान विभाजन और आजादी से पूर्व भारत में एक अस्थायी और कम समय की सरकार में पंडित जवाहर लाल नेहरू के मंत्रिमंडल सहयोगी रहे थे। वित्त मामलों को देखने की जिम्मेदारी को तरीके से नहीं निभाने के कारण लियाकत काफी विवादित रहे। AMU से पढ़े लियाकत बाद में पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री बने। उन्हीं के कार्यकाल में भारत पर पाकिस्तान की ओर से पहला सैन्य हमला किया गया।

मोहम्मद अली जिन्ना से राजनीति सीखने वाले लियाकत ने अपना पहला चुनाव मुजफ्फरनगर (यूनाइटेड प्रोविंसेज) से लड़ा था। पाक के प्रधानमंत्री के तौर उनकी एकमात्र बड़ी उपलब्धि 1949 में नेशनल बैंक ऑफ पाकिस्तान बनाने का है। 16 अक्टूबर 1951 को रावलपिंडी के कंपनी बाग में लियाकत अली खान की गोली मारकर हत्या कर दी गई। लियाकत की हत्या के बाद पहले दशक में ही पाकिस्तान में लगातार रहने वाले सैन्य शासन की शुरुआत हो गई।

आखिर क्यों पड़ी नागरिकता संशोधन बिल (CAB) लाने की जरूरत

लोकसभा में विपक्ष को जवाब देते हुए अमित शाह ने कहा कि इस देश का विभाजन धर्म के आधार पर नहीं होता, तो इस बिल को लेकर आने की जरूरत ही नहीं पड़ती। बिल पर शाह ने कहा कि 1950 में नेहरू-लियाकत एक समझौता हुआ। उस समझौते के तहत ये निश्चित किया गया कि दोनों देश अपने-अपने अल्पसंख्यकों का ध्यान रखेगा। बाद में बांग्लादेश बना। भारत-पाक दोनों देशों के सरकार ने ये विश्वास दिलाया था कि पाकिस्तान के अंदर जो हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन और पारसी हैं, उनका पाकिस्तान ध्यान रखेगा और भारत में जो माइनॉरिटी है उसका हिंदुस्तान ध्यान रखेगा। मगर ऐसा नहीं हुआ। भारत ने तो उसका अनुसरण किया, लेकिन पाकिस्तान में 1950 का नेहरू-लियाकत समझौता धरा का धरा रह गया।

इसी का परिणाम है कि 1947 में पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की आबादी 23 फीसदी थी, लेकिन 2011 में 3.7 फीसदी हो गई। इसी तरह बांग्लादेश में 1947 में 22 प्रतिशत अल्पसंख्यक आबादी थी, लेकिन 2011 में यह 7.8 पर्सेंट हो गई। अफगानिस्तान में 1992 से पहले दो लाख से अधिक हिंदू और सिख थे, जिनकी संख्या 500 से कम बची है। आखिर ये लोग कहाँ चले गए? या तो मार दिए गए या भगा दिए गए या फिर इनका धर्मांतरण करा दिया गया। आखिर उनका क्या दोष था? हम चाहते हैं कि इन लोगों का सम्मान बना रहे। इसलिए इस बिल को लाने की आवश्यकता पड़ी।

लोकसभा में हाँ, राज्यसभा में ना: नागरिकता संशोधन विधेयक पर शिव सेना का ‘पेंडुलम हिंदुत्व’

कॉन्ग्रेस को आधी रात में शिवसेना का झटका, CAB पर 18 सांसदों ने दिया अमित शाह का साथ

‘इंदिरा ने बांग्लादेशियों को नागरिकता दी तो Pak प्रताड़ितों को क्यों नहीं?’ – 311 Vs 80 से पास हुआ बिल

भोला जहाँ 8-70 साल की 200 हिंदू महिलाओं का रेप हुआ, अमित शाह को क्यूँ याद आई वह बर्बरता

नागरिकता विधेयक पर वामपंथी फैला रहे प्रपंच, ये रहे आपके कुछ सवालों के जवाब


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तंग कोठरी, पेशाबघर के नाम पर छेद और वो चीखें जो वाजपेयी ने सुनी थी: प्रताड़ना ऐसी की रूह काँप जाए

नाम था, स्नेहलता रेड्डी। कन्नड़ अभिनेत्री। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता। लेकिन उसे घोर यातनाएँ दी गई क्योंकि उसने इंदिरा के सामने घुटने टेकने से इनकार कर दिया था।

केजरीवाल की सरकार, महामारी में भी नहीं आई बाज: ऑक्सीजन ऑडिट रिपोर्ट से वेंटिलेटर पर AAP 

मुख्यधारा की मीडिया केजरीवाल सरकार से सवाल नहीं पूछती। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि अब अदालत क्या रूख अख्तियार करती है।

बाड़ी के पटुआ तीत: मात्र एक दिन में पूरे इजरायल की आबादी से ज्यादा टीका, ‘बुद्धिजीवी’ खोज रहे विदेशी मीडिया की रिपोर्ट

दूसरे शब्दों में कहें तो भारत ने एक दिन में लगभग पूरे इजरायल का टीकाकरण कर दिया। मगर इसे विदेशी मीडिया प्रतिशत में बताएगी और...

भारत के IT मंत्री के ट्विटर अकाउंट पर रोक, देश के बजाय अमेरिकी कानून बना कारण: ट्विटर की मनमानी कब तक?

ट्विटर ने आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद का अकांउट एक घंटे के लिए ब्लॉक कर दिया। ट्विटर ने अमेरिकी कानून का हवाला देते हुए...

SC ऑडिट पैनल की रिपोर्ट: केजरीवाल सरकार के ड्रामे के कारण खड़े रहे ऑक्सीजन टैंकर, दूसरे राज्यों को भी झेलनी पड़ी कमी

दिल्ली के 4 कंटेनर सूरजपुर आईनॉक्स में खड़े थे, क्योंकि आपूर्ति ज्यादा थी और लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन को स्टोर करने की कोई जगह नहीं थी।

ऑपइंडिया इम्पैक्ट: स्कूल में हिंदू बच्चों से नमाज पर एक्शन में NCPCR, फतेहपुर के DM-SP से रिपोर्ट तलब

ऑपइंडिया ने इस स्कूल में अंग्रेजी की टीचर रहीं कल्पना सिंह के हवाले से पूरे प्रकरण को उजागर किया था।

प्रचलित ख़बरें

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

फतेहपुर के अंग्रेजी मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चे पढ़ते थे नमाज: महिला टीचर ने खोली मौलाना उमर गौतम के धर्मांतरण गैंग की पोल

फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में मौलाना उमर के गिरोह की सक्रियता का खुलासा वहाँ की ही एक महिला टीचर ने किया है।

‘अपनी मर्जी से मंतोष सहनी के साथ गई, कोई जबरदस्ती नहीं’ – फजीलत खातून ने मधुबनी अपहरण मामले पर लगाया विराम

मधुबनी जिले के बिस्फी की फजीलत खातून के कथित अपहरण मामले में नया मोड़। फजीलत खातून ने खुद ही सामने आकर बताया कि वो मंतोष सहनी के साथ...

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

मुस्लिम प्रोफेसर के संपर्क में आकर MBA पास ऋचा बनी माहीन अली, लौटकर घर नहीं आई: सैलरी से मस्जिद को देती है ₹75000

इस्लाम अपनाने वाली ऋचा अब ट्रेनर बन गई है। अब वह खुद छात्राओं और महिलाओं को धर्मांतरण के लिए प्रेरित कर रही है।

दुबई एयरपोर्ट पर नौकरी, मोटी सैलरी का लालच: रिटायर्ड फौजी की बेटी रेणु बन गई आयशा अल्वी

उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर शाहजहाँपुर जिले के एक रिटायर फौजी की बेटी से दुबई एयरपोर्ट पर काम का लालच देकर इस्लाम कबूल करवाया गया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,860FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe