Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीति'India, That Is Bharat - ये संविधान में भी लिखा है': 'भारत' का विरोध...

‘India, That Is Bharat – ये संविधान में भी लिखा है’: ‘भारत’ का विरोध कर रहे विपक्षी दलों को विदेश मंत्री S जयशंकर का जवाब, कहा – पढ़ने के लिए करूँगा आमंत्रित

"देखिए, जब आप 'भारत' शब्द के संदर्भ में बात करते हैं तो उसे समझने के लिए एक ही अर्थ होता है जो उसके साथ ही आता है और वह हमारे संविधान में भी प्रतिबिंबित होता है।"

केंद्रीय सूचना व प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर के बाद अब विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी जी-20 निमंत्रण पत्र पर देश का नाम ‘भारत’ लिखे जाने पर विपक्षी दलों की टिप्पणी का करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि संविधान में ‘इंडिया दैट इज भारत’ का जिक्र है। उन्होंने ये बातें ANI के साथ एक इंटरव्यू में कही।

उन्होंने कहा कि ‘भारत’ शब्द के अर्थ की झलक संविधान में भी दिखती है। दरअसल राष्ट्रपति भवन ने ‘भारत के राष्ट्रपति’ की तरफ से 9 सितंबर को G20 रात्रिभोज के लिए निमंत्रण भेजा था। इसमें ‘प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया’ की जगह ‘प्रेसिडेंट ऑफ भारत’ लिखा था। इस पर ही विपक्षी पार्टियाँ लामबंद होने लगी और इंडिया की जगह भारत शब्द पर एतराज जताने लगी।

S जयशंकर ने विपक्षी दलों पर तंज कसते हुए कहा, “इंडिया, दैट इज़ भारत, यह संविधान में है। मैं सभी को इसे पढ़ने के लिए आमंत्रित करूँगा।” विदेश मंत्री से जब विपक्षी दलों की प्रतिक्रिया के बारे में पूछा गया कि क्या सरकार G20 शिखर सम्मेलन के साथ इंडिया को भारत के रूप में प्रतिस्थापित करने जा रही है, इस पर उन्होंने कहा, “देखिए, जब आप ‘भारत’ शब्द के संदर्भ में बात करते हैं तो उसे समझने के लिए एक ही अर्थ होता है जो उसके साथ ही आता है और वह हमारे संविधान में भी प्रतिबिंबित होता है।”

जहाँ एक तरफ विपक्षी दलों ने आरोप लगाया है कि सरकार इस शब्द को लेकर इसीलिए ‘ड्रामा’ कर रही है, क्योंकि उन्होंने एकजुट होकर अपने गुट को ‘भारत’ कहा है। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी नेताओं ने सरकार के इस कदम का पुरजोर समर्थन किया है।

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने विपक्षी दलों से ही उलटा सवाल कर लिया कि देश का राष्ट्रपति भारत का ही राष्ट्रपति होता है तो भारत लिखने में आपत्ति क्यों है? उन्होंने कहा, “मैं भारत सरकार में मंत्री हूँ। इसमें नया कुछ भी नहीं है। G20-2023 (ब्रांडिंग, लोगो) पर भारत और इंडिया दोनों लिखा होगा। तो फिर भारत नाम पर आपत्ति क्यों? भारत से किसी को आपत्ति क्यों है? इससे उनकी मानसिकता का पता चलता है कि वे दिल से इंडिया या भारत के खिलाफ हैं।”

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ‘एक्स (ट्विटर)’ पर राष्ट्रपति की ओर से रात्रिभोज के निमंत्रण की एक तस्वीर पोस्ट की और राष्ट्रगान की कुछ पंक्तियाँ लिखीं। उन्होंने लिखा, “यह पहले ही हो जाना चाहिए था। इससे मन को बहुत संतुष्टि मिलती है। ‘भारत’ हमारा परिचय है। हमें इस पर गर्व है। राष्ट्रपति ने ‘भारत’ को प्राथमिकता दी है। यह औपनिवेशिक मानसिकता से बाहर आने वाला सबसे बड़ा बयान है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -