Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीतिपूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई जाएँगे राज्यसभा, राष्ट्रपति कोविंद ने किया नामित

पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई जाएँगे राज्यसभा, राष्ट्रपति कोविंद ने किया नामित

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कई ऐतिहासिक फैसले दिए। जिसमें अयोध्या जन्मभूमि विवाद के अलावा असम में एनआरसी, राफेल सौदा, तथा मुख्य न्यायाधीश कार्यालय को सूचना के अधिकार के अंतर्गत लाना शामिल है।

भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई राज्यसभा जाएँगे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने रंजन गोगोई का नाम राज्यसभा के लिए मनोनीत किया है। संसद के उच्च सदन राज्यसभा में 12 सदस्य राष्ट्रपति की ओर से मनोनीत किए जाते हैं। ये सदस्य अलग-अलग क्षेत्रों की जानी मानी हस्तियाँ होती हैं। असम से आने वाले रंजन गोगोई 17 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस पद से रिटायर हुए थे। ये पूर्वोत्तर से देश के सर्वोच्च न्यायिक पद पर पहुँचने वाले पहले शख्स हैं। दीपक मिश्रा के रिटायर होने से बाद रंजन गोगोई देश के मुख्य न्यायाधीश बने थे, इनकी अध्यक्षता में बनी बेंच ने ही रामजन्मभूमि विवाद पर फैसला सुनाया था। जिसमें निर्णय रामलला के पक्ष में गया था। रंजन गोगोई के पिता भी कॉन्ग्रेस पार्टी से असम के मुख्य मंत्री रह चुके हैं।

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कई ऐतिहासिक फैसले दिए। जिसमें अयोध्या जन्मभूमि विवाद के अलावा असम में एनआरसी, राफेल सौदा, तथा मुख्य न्यायाधीश कार्यालय को सूचना के अधिकार के अंतर्गत लाना शामिल है। रंजन गोगोई को तब के मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्रा के काम करने के तरीकों के खिलाफ उन 4 जजों में शामिल होने के लिए भी याद किया जाएगा जिन्होंने इस बावत प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -