Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतितमिलनाडु के रिटायर्ड IAS और चर्चे ओडिशा के अगले CM बनने के, कौन हैं...

तमिलनाडु के रिटायर्ड IAS और चर्चे ओडिशा के अगले CM बनने के, कौन हैं वीके पांडियन जिन्हें बताया जा रहा BJD में नवीन पटनायक का उत्तराधिकारी

48 वर्षीय पांडियन के प्रभाव के चलते उन्हें विपक्ष की आलोचना भी झेलनी पड़ रही थी। नवीन पटनायक के निजी सचिव रहते हुए उनके लोगों से मिलने, रैलियों को संबोधित करने और मुख्यमंत्री का प्रतिनधि बन कर जाने को लेकर कई बार प्रश्न उठे थे।

पूर्व IAS अधिकारी वीके पांडियन ने आधिकारिक तौर पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के बीजू जनता दल की सदस्यता ले ली है। इससे पहले अक्टूबर, 2023 में उन्होंने IAS से त्यागपत्र दे दिया था। वह पटनायक के निजी सचिव थे। वहीं अब उनकी चर्चा ओडिशा के अगले CM और नवीन पटनायक के अगले उत्तराधिकारी के रूप में हो रही है।

वह एक दशक से नवीन पटनायक के साथ काम कर रहे हैं। उन्हें ओडिशा में नवीन पटनायक का दाहिना हाथ समझा जाता है। पांडियन का दबदबा सरकार से लेकर बीजू जनता दल तक रहा है। उन्हें पिछले महीने ओडिशा सरकार के 5T और नबीनओडिशा प्रोग्राम का मुखिया बनाया गया था।

इस काम के लिए उन्हें त्यागपत्र के तुरंत बाद ओडिशा सरकार में कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया था। बता दें कि पांडियन तमिलनाडु मूल के हैं और वर्ष 2000 बैच के ओडिशा कैडर के अफसर हैं। वह 2012 के बाद से नवीन पटनायक के साथ काम कर रहे हैं। उन्हें पटनायक के उत्तराधिकारी के तौर पर भी देखा जा रहा है।

48 वर्षीय पांडियन के प्रभाव के चलते उन्हें विपक्ष की आलोचना भी झेलनी पड़ रही थी। नवीन पटनायक के निजी सचिव रहते हुए उनके लोगों से मिलने, रैलियों को संबोधित करने और मुख्यमंत्री का प्रतिनधि बन कर जाने को लेकर कई बार प्रश्न उठे थे। विपक्ष का कहना था कि क्या कोई सेवायत अफसर एक राजनीतिक व्यक्ति की तरह व्यवहार कर सकता है?

पांडियन ने इन आरोपों के बीच अक्टूबर 2023 में त्यागपत्र दिया था और अब उन्होंने बीजू जनता दल की सदस्यता भी ले ली है। पांडियन के पार्टी की सदस्यता लेते समय मुख्यमंत्री नवीन पटनायक समेत पार्टी के कई बड़े नेता मौजूद रहे।

बता दें कि पांडियन को वर्तमान में ओडिशा की राजनीति में सबसे ताकतवर व्यक्ति समझा जाता है। चूँकि, राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की जनता के बीच काफी कम ही तस्वीरें सामने आती हैं और वह कम ही लोगों से मिलते भी हैं। उनसे मिलने के लिए भी पांडियन से सम्पर्क रखना होता है।

गौरतलब है कि नवीन पटनायक वर्ष 2000 से ओडिशा के मुख्यमंत्री बने हुए हैं। प्रत्येक चुनाव के साथ उनकी पार्टी की स्थिति राज्य में मजबूत होती गई है। 147 सीटों वाली ओडिशा विधानसभा में उनकी पार्टी की 111 सीटें हैं। बता दें कि ओडिशा में अगले विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनावों के साथ ही होंगे।

लोकसभा और राज्य के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पांडियन का अपनी IAS सेवा छोड़ कर सीधे राजनीति में उतरना बड़ा संकेत दे रहा है। यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि यदि राज्य में पुनः पार्टी को जीत मिलती है तो क्या 77 वर्षीय नवीन पटनायक, पांडियन को और बड़ी जिम्मेदारी देंगे?

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Sanghamitra
Sanghamitra
reader, writer, dreamer, no one

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -