Thursday, January 28, 2021
Home देश-समाज 'सरहद का सुल्तान' और कॉन्ग्रेसी रहनुमा गाज़ी फ़क़ीर, जिस पर हाथ डालते ट्रांसफर हो...

‘सरहद का सुल्तान’ और कॉन्ग्रेसी रहनुमा गाज़ी फ़क़ीर, जिस पर हाथ डालते ट्रांसफर हो जाते हैं अधिकारी

गाज़ी के बारे में सबसे बड़ी बात श्रीकांत घोष की पुस्तक 'Pakistan's ISI: Network of Terror in India' में कही गई थी। इस पुस्तक में बताया गया है कि कैसे वह भारत में रह कर पाकिस्तान का कार्य करता आया है।

राजस्थान का एक ऐसा नेता या एक मौलवी कह लीजिए, जिसके सामने अधिकारियों की एक नहीं चलती। भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव का भी उस पर कोई असर नहीं पड़ता क्योंकि उसकी सत्ता सरहद के इस पार भी चलती है और उस पार भी। मजहब विशेष के सिंधी उसे रहनुमा के रूप में देखते हैं। अपने इलाक़े में कॉन्ग्रेस का झंडा बुलंद करने वाले फ़क़ीर के रसूख का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि आपराधिक रिकॉर्ड-बुक खोलने वाला कोई भी अधिकारी इलाक़े में नहीं टिकता। एक और ख़ास बात यह कि अशोक गहलोत की सरकार आते ही उसका प्रभाव बढ़ जाता है। उसके परिवार और रिश्तेदारी में दर्जनों लोग अलग-अलग महत्वपूर्ण पदों पर काबिज़ हैं। जैसलमेर स्थित उसके गाँव से लेकर अजमेर जिला परिषद और राज्य मंत्रिमंडल तक हर जगह उसके लोग हैं।

मुख्यमंत्री गहलोत के साथ गाज़ी फ़क़ीर

आगे बढ़ने से पहले बता दें कि गाज़ी फ़क़ीर का बेटा सालेह मोहम्मद अभी राजस्थान सरकार में मंत्री है। वह पिछले 66 वर्षों में जैसलमेर जिले से मंत्री बनने वाला पहला व्यक्ति है। यह गाज़ी का ही प्रभाव था कि उसने अपने बेटे को 23 वर्ष की उम्र में ही पंचायत समिति का प्रधान बनवा दिया था। इसके बाद जिला प्रमुख से विधायक और फिर मंत्री तक के सफर में सालेह ने अपने पिता के हाथ को मजबूत किया। आज हम गाज़ी फ़क़ीर की बात इसीलिए कर रहे हैं क्योंकि इससे जुड़ी एक बड़ी ख़बर आई है। उसके इतिहास और भूगोल को समझने से पहले हमें आईपीएस अधिकारी पंकज चौधरी के केस को समझना पड़ेगा, जिन्हें आज गुरुवार (मार्च 7, 2019) को बर्ख़ास्त कर दिया गया। इसीलिए पहले इस ख़बर को जानते हैं।

पंकज चौधरी को आज इसीलिए बर्ख़ास्त किया गया क्योंकि उनकी एक पत्नी के होते हुए दूसरी शादी करने का दोषी पाया गया। लेकिन, कुछ लोगों का मानना है कि भ्रष्टाचार व नेताओं के ख़िलाफ़ मुखर रहने के कारण उन पर गाज गिरती आई है। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारी राजीव दावोस पर सार्वजनिक रूप से भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा है कि वे इस आदेश को चुनौती देंगे। पंकज पहली बार तब चर्चा में आए थे जब जैसलमेर से उनका तबादला करा दिया गया था। उनका अपराध बस इतना था कि उन्होंने तथाकथित डॉन गाज़ी फ़क़ीर की हिस्ट्रीशीट खोल दी थी। साढ़े पाँच दशकों से अपराध, राजनीति और वर्चस्व की दुनिया का माहिर खिलाड़ी गाज़ी साठ के दशक से ही अपराध की दुनिया में सक्रिय है।

मंत्री बनने के बाद पिता गाज़ी से मिलने पहुँचा बेटा सालेह

पोखरण पर राज करने वाले गाज़ी फ़क़ीर के बारे में पंकज चौधरी ने कई सनसनीखेज ख़ुलासे किए थे। देशद्रोह सहित कई मामलों में आरोपित गाज़ी कई वर्षों से भारतीय एजेंसियों के पकड़ में नहीं आ पाया क्योंकि उसके ख़िलाफ़ सबूत ही नहीं होते हैं। पुलिस हिस्ट्रीशीट में उसका नाम 1965 से ही आता रहा है लेकिन कॉन्ग्रेस में उसके वर्चस्व के कारण कोई उसका बाल भी बाँका नहीं कर सका। पंकज चौधरी ने कहा था कि उनके पूर्ववर्तियों ने गाज़ी के बारे में फाइल्स में कई भयानक बातें लिख रखी थी। उन्होंने उसका अधिक विवरण देने से इनकार कर दिया था लेकिन उनके इस बयान से स्थिति की गंभीरता को समझा जा सकता है। उसके ख़िलाफ़ जुलाई 1965 के एक तस्करी वाले मामले को फिर से खोला गया था।

स्थानीय प्रशासन में उसकी पकड़ इतनी मजबूत थी कि ऊपर से आदेश के बावजूद उसको छुआ तक नहीं जा सका। उसके ख़िलाफ़ तैयार की गई फाइल 1984 में गायब हो गई। उस समय राज्य में कॉन्ग्रेस की सरकार थी। 1990 में एक एसपी आए जिन्होंने गाज़ी पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया। एसपी सुधीर प्रताप सिंह को राजस्थान सरकार ने चुपचाप ट्रांसफर कर दिया। 2011 में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार ने फिर से उस हिस्ट्रीशीट को बंद करवा दिया। इसके बाद दृश्य में पंकज चौधरी की एंट्री हुई जिन्होंने गाज़ी पर नकेल कसी। लेकिन अफ़सोस, उनका कार्य भी अधूरा रह गया और इससे पहले कि वे किसी नतीजे पर पहुँच पाते, उनका भी ट्रांसफर करवा दिया गया। आज उन्हें सेवा से बर्ख़ास्त ही कर दिया गया। ऐसे में, इस सिक्के के कई पहलू हो सकते हैं।

राजस्थान में फिर से कॉन्ग्रेस की सरकार है। अशोक गहलोत ही मुख्यमंत्री हैं। गाज़ी का बेटा उनके मंत्रिमंडल का अहम हिस्सा है। ऐसे में गाज़ी का वर्चस्व फिर से सर चढ़ कर बोलने लगा है। हालाँकि, 80 से भी अधिक के उम्र में उसकी सक्रियता ज़रूर कम हो गई है, लेकिन उसका प्रभाव अभी भी उतना ही है। गाज़ी के बारे में सबसे बड़ी बात श्रीकांत घोष की पुस्तक ‘Pakistan’s ISI: Network of Terror in India‘ में कही गई थी। इस पुस्तक के पृष्ठ संख्या 55 पर गाज़ी फ़क़ीर का जिक्र किया गया है और बताया गया है कि कैसे वह भारत में रह कर पाकिस्तान का कार्य करता आया है। घोष इस पुस्तक में लिखते हैं कि पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई राजस्थान में काफ़ी सक्रिया हो चली है और सरकार समय रहते जागृत नहीं हुई तो राज्य की हरेक गली में आईएसआई के आदमी होंगे।

एसपी पंकज चौधरी के ट्रांसफर के बाद CNN-IBN पर न्यूज़

घोष लिखते हैं कि भारतीय क्षेत्रों में इस्लामी कट्टरवाद को बढ़ावा देना पाकिस्तान का एकमात्र लक्ष्य है। राज्य सरकारों ने वोट्स के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा पर ध्यान नहीं दिया। उन्होंने एक बहुत बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि राजस्थान में स्थित मदरसों में आईएसआई एजेंट किसी न किसी रूप में घुसते रहे हैं और हज़ार किलोमीटर से भी अधिक की राजस्थान-पाकिस्तान सीमा से अवैध घुसपैठ कर पाकिस्तानी एजेंटों को भारतीय मदरसों में स्थापित किया जाता है। उन्होंने सीमा क्षेत्र में सक्रिय एक इस्लामी संस्था तबलीग-ए-जमात का जिक्र करते हुए लिखा है कि इलाक़े में सैयाद शाह मर्दान शाह-II यानी पीर पगारो का प्रभाव पढ़ रहा है। पीर पगारो पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एफ) का अध्यक्ष है।

इसके आगे श्रीकांत घोष ने जो लिखा है, वो आपको गाज़ी फ़क़ीर के बारे में बहुत कुछ साफ़ कर देगा। उन्होंने लिखा है कि गाज़ी फ़क़ीर पाकिस्तान के इसी अभियान का एक हिस्सा है जो पीर पगारो का भारतीय एजेंट है। जैसलमेर निवासी गाज़ी फ़क़ीर पाकिस्तान की सीमा पर की जा रही आतंकी गतिविधियों में उसकी मदद करता है। इसके अलावा वह पाकिस्तानी एजेंटों को भारतीय सीमा पर स्थित गाँवों में बसाने में मदद करता है। राज्य में भले ही कॉन्ग्रेस की सरकार हो लेकिन अजमेर, जैसलमेर सहित अन्य सीमावर्ती जिलों में गाज़ी ही सरकार होता है।

लगभग यही बात पंकज चौधरी ने भी कही। चौधरी ने बताया था कि कॉन्ग्रेस नेता सालेह मोहम्मद (गाज़ी का बेटा) के पेट्रोल पंप से एक पाकिस्तानी जासूस को गिरफ़्तार किया गया था। वह भारतीय वायु सेना के ‘ऑपरेशन फिस्ट वॉर एक्सरसाइज’ के बारे में पाकिस्तान को जानकारियाँ भेज रहा था। चौधरी ने कहा था कि राजनीतिक रसूख के कारण उसके पेट्रोल पंप से पाकिस्तानी जासूस के गिरफ़्तार होने के बावजूद उसके ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी। एक एसपी का 1990 में हिस्ट्रीशीट खोलने के 28 दिन बाद तो दूसरे का 2013 में 48 घंटे बाद ट्रांसफर करवा दिया गया।

2013 में राजस्थान पुलिस के एक कॉन्स्टेबल ने अपना तबादला कराने की माँग की थी। जैसलमेर में तैनात कॉन्स्टेबल को अपनी जान का डर सताने लगा था। पप्पू राम ने यहाँ तक कहा था कि गाज़ी के बेटे ने (जो उस समय विधायक था) उसे पेट्रोल छिड़क कर जान से मार देने की धमकी दी थी। अपने और परिवार की सुरक्षा को लेकर चिंतित पप्पू राम ने सरकार से कहा था कि उसे कहीं भी भेज दिया जाए, सिवाय जैसलमेर के। गाज़ी के बारे में यह जान कर आप दंग रह जाएँगे कि 2011 में तत्कालीन एसपी की अनुमति लिए बिना एक ASP रैंक के पुलिस अधिकारी ने उसकी फाइल बंद कर डाली थी। तत्कालीन अपराध सहायक ने इसका विरोध भी किया था। नियमानुसार एसपी ही फाइल बंद कर सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

योगेन्द्र यादव, राकेश टिकैत सहित 37 किसान नेताओं पर FIR: गिरफ्तारी पर कोई बात नहीं

राजधानी में हुई हिंसा के बाद एक्शन मोड में आई दिल्ली पुलिस ने 37 नेताओं पर एफआईआर दर्ज की है। इनमें राकेश टिकैत, डाॅ दर्शनपाल, जोगिंदर सिंह, बूटा, बलवीर सिंह राजेवाल और राजेंद्र सिंह के नाम शामिल हैं।

डर के मारे पड़ी फूट या समझदारी: दो ‘किसान’ संगठन हुए आंदोलन से अलग

भारतीय किसान यूनियन 'भानु' के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह और राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के वीएम सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना आंदोलन खत्म करने का एलान किया है।

प्रचलित ख़बरें

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।
- विज्ञापन -

 

किसान नहीं बल्कि पुलिस हुई थी हिंसक: दिग्विजय सिंह ने दिल्ली पुलिस को ही ठहराया दंगों का दोषी

कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि दिल्ली में किसान उग्र नहीं हुए थे बल्कि दिल्ली पुलिस उग्र हुई थी।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद ट्विटर ने किया 550 अकाउंट्स सस्पेंड, रखी जा रही है सबपर पैनी नजर

ट्विटर की ओर से कहा गया है कि इसने उन ट्वीट्स पर लेबल लगाए हैं जो मीडिया पॉलिसी का उल्लंघन करते हुए पाए गए। इन अकाउंट्स पर पैनी नजर रखी जा रही है।

वीडियो: खालिस्तान जिंदाबाद कहते हुए तिरंगा जलाया, किसानों के ‘आतंक’ से परेशान बीमार बुजुर्ग धरने पर बैठे

वीडियो में बुजुर्ग आदमी सड़क पर बैठे हैं और वहाँ से उठते हुए कहते हैं, "ये बोलते है आगे जाओगे तो मारूँगा। अरे क्या गुनाह किया है? हम यहाँ से निकले नहीं? हमारे रास्ते में आ गए।"

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

बिहार में टेंपो में सवार 2-3 लोगों ने दिनदहाड़े बीजेपी प्रवक्ता को मारी दो गोली: स्थिति नाजुक

कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य ललन प्रसाद सिंह से प्रभार को लेकर डॉ शम्शी का विवाद चल रहा था। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है।

महाराष्ट्र-कर्नाटक के बीच मराठी भाषी क्षेत्र घोषित हो केंद्र शासित प्रदेश: उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा कि कर्नाटक के कब्जे वाले मराठी-भाषी क्षेत्रों को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाना चाहिए, जब तक कि सुप्रीम कोर्ट अपना अंतिम फैसला नहीं दे देता।

हिंदू लड़की ने माता-पिता पर लगाया जबरन ईसाई बनाने का आरोप: 9 लोग गिरफ्तार, 2 की तलाश जारी

इंदौर से एक बेहद ही सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है, जहाँ एक लड़की ने अपने ही माता-पिता के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है कि वे उसका जबरन धर्मांतरण करवा रहे थे।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe