ममता को झाँसी की रानी कहना लक्ष्मीबाई के ऊपर गाली होगी, हाँ पूतना हो सकती हैं: गिरिराज सिंह

केंद्रीय मंत्री ने ममता के तानाशाही की तुलना किम जोंग से की है। केंद्रीय मंत्री ने अपने बयान में यह भी कहा कि रोहिंग्या व बंग्लादेशी घुसपैठी को समर्थन देकर कोई रानी लक्ष्मीबाई नहीं हो सकती है।

सीबाआई मामले को लेकर बीजेपी और टीएमसी के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। दोनों ही दलों के नेताओं की तरफ़ से बयानों का दौर पिछले कुछ दिनों से चल रहा है। भाजपा ममता बनर्जी को तानाशाह बता रही है, वहीं दूसरी तरफ़ टीएमसी के नेता ममता को रानी लक्ष्मीबाई के रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं।

मामता बनर्जी को रानी लक्ष्मीबाई कहे जाने पर भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बयान दिया है। गिरिराज सिंह ने अपने बयान में कहा है, “ममता को झाँसी की रानी कहना लक्ष्मीबाई के ऊपर एक तरह से गाली होगा।”

उन्होंने कहा, “ममता बनर्जी लक्ष्मीबाई तो नहीं, हाँ पूतना जरूर हो सकती हैं।” यही नहीं केंद्रीय मंत्री ने ममता के तानाशाही की तुलना किम जोंग से की है। केंद्रीय मंत्री ने अपने बयान में यह भी कहा कि रोहिंग्या व बंग्लादेशी घुसपैठी को समर्थन देकर कोई रानी लक्ष्मीबाई नहीं हो सकती है। गिरिराज सिंह की मानें तो ममता ने पूरे बंगाल को तबाह करके रख दिया है। जो भी ममता के ख़िलाफ़ मुँह खोलता है, उसकी हत्या कर दी जाती है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जानकारी के लिए बता दें कि पिछले दिनों पुरुलिया में ममता बनर्जी सरकार द्वारा हेलिकॉप्‍टर के लैंडिंग की अनुमति नहीं देने पर यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने ट्वीट कर ममता सरकार पर जमकर निशाना साधा था।

सीएम योगी ने ममता के नहीं चाहने के बावजूद पुरूलिया में रैली की। रैली के पहले ट्वीट में योगी ने कहा था “मुझे अत्यंत दुःख है कि गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर की कर्मभूमि, हमारा बंगाल, आज ममता बनर्जी और उनकी सरकार की अराजकता तथा गुंडागर्दी से पीड़ित है।”

उन्होंने आगे यह भी कहा कि अब समय है कि बंगाल को एक सशक्त लोकतांत्रिक आंदोलन के माध्यम से संविधान की रक्षा हेतु इस सरकार से मुक्त किया जाए। इसके साथ ही पुरुलिया सभा में लोगों के बीच ममता के ख़िलाफ़ आंदोलन की ध्वजा लेकर भ्रष्टाचारियों के गठबंधन के लिए चुनौती बनने की बात योगी आदित्यनाथ ने की थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

रामचंद्र गुहा और रवीश कुमार
"अगर कॉन्ग्रेस में शीर्ष नेताओं को कोई अन्य राजनेता उनकी कुर्सी के लिए खतरा लगता है, तो वे उसे दबा देते हैं। कॉन्ग्रेस में बहुत से अच्छे नेता हैं, जिन्हें मैं बहुत अच्छे से जानता हूँ। लेकिन अगर मैंने उनका नाम सार्वजनिक तौर पर लिया तो पार्टी में उन्हें दबा दिया जाएगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,129फैंसलाइक करें
35,293फॉलोवर्सफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: