Friday, August 6, 2021
Homeराजनीतिममता को झाँसी की रानी कहना लक्ष्मीबाई के ऊपर गाली होगी, हाँ पूतना हो...

ममता को झाँसी की रानी कहना लक्ष्मीबाई के ऊपर गाली होगी, हाँ पूतना हो सकती हैं: गिरिराज सिंह

केंद्रीय मंत्री ने ममता के तानाशाही की तुलना किम जोंग से की है। केंद्रीय मंत्री ने अपने बयान में यह भी कहा कि रोहिंग्या व बंग्लादेशी घुसपैठी को समर्थन देकर कोई रानी लक्ष्मीबाई नहीं हो सकती है।

सीबाआई मामले को लेकर बीजेपी और टीएमसी के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। दोनों ही दलों के नेताओं की तरफ़ से बयानों का दौर पिछले कुछ दिनों से चल रहा है। भाजपा ममता बनर्जी को तानाशाह बता रही है, वहीं दूसरी तरफ़ टीएमसी के नेता ममता को रानी लक्ष्मीबाई के रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं।

मामता बनर्जी को रानी लक्ष्मीबाई कहे जाने पर भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बयान दिया है। गिरिराज सिंह ने अपने बयान में कहा है, “ममता को झाँसी की रानी कहना लक्ष्मीबाई के ऊपर एक तरह से गाली होगा।”

उन्होंने कहा, “ममता बनर्जी लक्ष्मीबाई तो नहीं, हाँ पूतना जरूर हो सकती हैं।” यही नहीं केंद्रीय मंत्री ने ममता के तानाशाही की तुलना किम जोंग से की है। केंद्रीय मंत्री ने अपने बयान में यह भी कहा कि रोहिंग्या व बंग्लादेशी घुसपैठी को समर्थन देकर कोई रानी लक्ष्मीबाई नहीं हो सकती है। गिरिराज सिंह की मानें तो ममता ने पूरे बंगाल को तबाह करके रख दिया है। जो भी ममता के ख़िलाफ़ मुँह खोलता है, उसकी हत्या कर दी जाती है।

जानकारी के लिए बता दें कि पिछले दिनों पुरुलिया में ममता बनर्जी सरकार द्वारा हेलिकॉप्‍टर के लैंडिंग की अनुमति नहीं देने पर यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने ट्वीट कर ममता सरकार पर जमकर निशाना साधा था।

सीएम योगी ने ममता के नहीं चाहने के बावजूद पुरूलिया में रैली की। रैली के पहले ट्वीट में योगी ने कहा था “मुझे अत्यंत दुःख है कि गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर की कर्मभूमि, हमारा बंगाल, आज ममता बनर्जी और उनकी सरकार की अराजकता तथा गुंडागर्दी से पीड़ित है।”

उन्होंने आगे यह भी कहा कि अब समय है कि बंगाल को एक सशक्त लोकतांत्रिक आंदोलन के माध्यम से संविधान की रक्षा हेतु इस सरकार से मुक्त किया जाए। इसके साथ ही पुरुलिया सभा में लोगों के बीच ममता के ख़िलाफ़ आंदोलन की ध्वजा लेकर भ्रष्टाचारियों के गठबंधन के लिए चुनौती बनने की बात योगी आदित्यनाथ ने की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe