Tuesday, June 25, 2024
HomeराजनीतिBJP के हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर की शानदार जीत: कॉन्ग्रेस के जिग्नेश मेवाणी...

BJP के हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर की शानदार जीत: कॉन्ग्रेस के जिग्नेश मेवाणी को मिली कड़ी टक्कर

जिग्नेश मेवाणी कॉन्ग्रेस उम्मीदवार के तौर पर वडगाम से चुनावी मैदान में हैं। मेवाणी का मुकाबला भाजपा के मणिलाल वाघेला से था। इस मुकाबले में मेवाणी को कड़ी टक्कर मिल रही है। साल 2017 में जिग्नेश ने इस सीट को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीता था।

गुजरात विधानसभा चुनावों की मतगणना जारी है। अब तक सामने आए नतीजों में भाजपा एक बार फिर प्रचंड बहुमत हासिल करने जा रही है। हालाँकि, चुनाव में तीन प्रमुख चेहरे भी हैं, जो कभी भाजपा सरकार की विरोध का गुजरात में चेहरा बने थे। इनमें से दो चेहरे भाजपा में शामिल होकर चुनाव जीत गए हैं।

साल 2017 के विधानसभा चुनावों के दौरान तीन चेहरे हीरे बनकर उभरे थे। इन चेहरों को कॉन्ग्रेस सहित विपक्षी दलों का खूब सहयोग मिला था। अब ये तीनों चेहरे खुद मैदान में हैं। ये तीन चेहरे हैं- हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी।

तीनों युवा नेताओं ने मिलकर राज्य में भाजपा के लिए मुसीबत खड़ी कर दी थी। पाटीदारों के लिए आरक्षण का मुद्दा उठाने वाले हार्दिक पटेल ने बड़ा आंदोलन चलाया था। अल्पेश ठाकोर ने पिछड़े वर्ग और जिग्नेश मेवाणी ने दलितों को एकजुट किया था। उस दौरान इन तीनों के कारण भाजपा के कई विधायक हार गए थे।

बाद में तीनों युवा नेता कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए। विधानसभा चुनावों की घोषणा से ठीक पहले हार्दिक पटेल कॉन्ग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा ने उन्हें गृहनगर विरमगाम सीट से मैदान में उतारा है। हार्दिक यहाँ से कॉन्ग्रेस के लाखाभाई भरवाड़ को हराया दिया है।

अल्पेश ठाकोर भी चुनावों से पहले कॉन्ग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। ठाकोर को भाजपा ने गाँधीनगर दक्षिण सीट से मैदान में उतारा था। अल्पेश का मुकाबला कॉन्ग्रेस के हिमांशु पटेल और आम आदमी पार्टी के देवेंद्र पटेल से है। यहाँ अल्पेश ने यहाँ कॉन्ग्रेस को पराजित किया है।

वहीं, जिग्नेश मेवाणी कॉन्ग्रेस उम्मीदवार के तौर पर वडगाम से चुनावी मैदान में हैं। मेवाणी का मुकाबला भाजपा के मणिलाल वाघेला से था। इस मुकाबले में मेवाणी को कड़ी टक्कर मिल रही है। साल 2017 में जिग्नेश ने इस सीट को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीता था।

साल 2019 के लोकसभा चुनावों के जिग्नेश मेवाणी ने ट्वीट कर कहा था, “किसी ऐसे व्यक्ति को वोट दें जो आपके बच्चों को ऑक्सफोर्ड (Oxford) भेजता है न कि अयोध्या। ऐसे व्यक्ति को वोट दें, जो आपको अच्छे स्कूल और अस्पताल बनाने का वादा करता है, न कि राम मंदिर। ऐसे व्यक्ति के लिए वोट करें, जिसका शासन में ट्रैक रिकॉर्ड है और आतंकवाद में नहीं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -