Saturday, December 4, 2021
Homeराजनीतिगोडसे की पूजा करने वाले हिन्दू महासभा के नेता को कमलनाथ ने दिलाई कॉन्ग्रेस...

गोडसे की पूजा करने वाले हिन्दू महासभा के नेता को कमलनाथ ने दिलाई कॉन्ग्रेस की सदस्यता

जब बाबूलाल चौरसिया ने ग्वालियर में गोडसे की मूर्ति की पूजा कर हिंदू महासभा भवन की स्थापना की थी, तब यही कॉन्ग्रेस इन पर राजद्रोह का मामला चलाने की माँग कर रही थी‌।

मध्य प्रदेश में निकाय चुनाव की सुगबुगाहट अब तेज़ हो चली है। अब ग्वालियर के वार्ड-44 से पार्षद बाबूलाल चौरसिया पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए। चौरसिया हिन्दू महासभा के नेता हैं और महात्मा गाँधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे में विश्वास रखते हैं। जब बाबूलाल चौरसिया ने ग्वालियर में गोडसे की मूर्ति की पूजा कर हिंदू महासभा भवन की स्थापना की थी, तब यही कॉन्ग्रेस इन पर राजद्रोह का मामला चलाने की माँग कर रही थी‌।

ग्वालियर हाल ही में राज्य में कॉन्ग्रेस की सरकार गिरा कर भाजपा में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ माना जाता है, जो फ़िलहाल राज्यसभा सांसद हैं। बाबूलाल चौरसिया नाथूराम गोडसे की प्रतिमा का अभिषेक भी कर चुके हैं और पूजा भी करते रहे हैं। इस मौके पर ग्वालियर दक्षिण से विधायक प्रवीण पाठक और ब्लॉक अध्यक्ष संतोष शर्मा सहित कई अन्य कॉन्ग्रेस के स्थानीय नेता भी उपस्थित रहे।

बता दें कि बाबूलाल चौरसिया पहले भी कॉन्ग्रेसी ही हुआ करते थे, लेकिन पिछले निकाय चुनाव में टिकट न मिलने के कारण वो बागी हो गए थे और जीत भी दर्ज की थी। वार्ड-44 से पिछली बार कॉन्ग्रेस ने शम्मी शर्मा को टिकट दिया था, जिन्हें हार का मुँह देखना पड़ा था। उन्हें चौरसिया के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। कॉन्ग्रेस से पुराने जुड़ाव के कारण उनके पार्टी में आने की अटकलें कई दिनों से लगाई जा रही थीं।

इस मौके पर बाबूलाल ने कहा कि कॉन्ग्रेस ही उनकी पार्टी है और युवाओं को इससे जोड़ने के लिए वो पूरी मेहनत करेंगे। नवंबर 2019 में चौरसिया ने गोडसे की तस्वीर की आरती उतार कर माल्यार्पण किया था और उनके अंतिम अदालती बयान को पाठ्यक्रम में शामिल करने की माँग की थी। उन्होंने इस बयान को 1 लाख लोगों तक पहुँचाने का संकल्प लिया था। इसके लिए प्रशासन को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया था।

हिन्दू महासभा ने तब ‘नाथूराम गोडसे का 70वाँ बलिदान दिवस’ नामक कार्यक्रम का आयोजन किया था। तब कॉन्ग्रेस पार्टी ने इसके खिलाफ धरना प्रदर्शन की चेतावनी देते हुए भाजपा पर आरोप लगाए थे। शहर के कॉन्ग्रेस कमिटी की आपात बैठक बुला कर विरोध की रणनीति तय की गई थी। दूध, शहद और गंगाजल से हिन्दू महासभा ने गोडसे की प्रतिमा का अभिषेक किया था। आज वही कॉन्ग्रेस उनका स्वागत कर रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आतंक का कोई मजहब नहीं होता’ – एक आदमी जिंदा जला कर मार डाला गया और मीडिया खेलने लगी ‘खेल’

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैलाया जा रहा प्रोपगेंडा जिन स्थानीय खबरों पर चल रहा है उनमें बताया जा रहा है कि ये सब अराजक तत्वों ने किया था, इस्लामी भीड़ ने नहीं।

‘महिला-पुरुष की मालिश का मतलब यौन संबंध नहीं होता, इस पर कार्रवाई से परहेज करें’: HC ने दिल्ली सरकार को फटकारा

दिल्ली सरकार स्पा में क्रॉस-जेंडर मसाज पर रोक लगा चुकी है। इसके अलावा रिहायशी इलाकों में नए मसाज सेंटर खोलने पर भी रोक लगा दी गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,510FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe