Monday, June 17, 2024
HomeराजनीतिCM योगी की घोषणा के बाद अब हरियाणा में भी बनेगा लव जिहाद के...

CM योगी की घोषणा के बाद अब हरियाणा में भी बनेगा लव जिहाद के खिलाफ कानून: गृह मंत्री अनिल विज ने ट्वीट कर दी जानकारी

"योगी आदित्यनाथ जी जो कहते हैं, जब कहते हैं, सत्य कहते हैं, ये लव जिहाद का इलाज करना जरूरी है बच्चियों को बचाने के लिए। अगर इसके लिए कानून बनाना पड़े, कुछ और करना पड़े तो, किया जाना आवश्यक है। हम इस पर विचार कर रहे हैं।"

उत्तर प्रदेश के बाद अब हरियाणा में भी लव जिहाद को रोकने के लिए कानून बनाया जाएगा। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने प्रदेश में लव जिहाद को रोकने के लिए कानून बनाने पर विचार की बात की है। उन्होंने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। बता दें कि निकिता हत्याकांड के बाद से लव जिहाद का मामला चर्चा में है। अनिल विज ने ट्वीट कर कहा कि हरियाणा में लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने पर विचार चल रहा है।

विज ने एक टीवी चैनल से कहा, “योगी आदित्यनाथ जी जो कहते हैं, जब कहते हैं, सत्य कहते हैं, ये लव जिहाद का इलाज करना जरूरी है बच्चियों को बचाने के लिए। अगर इसके लिए कानून बनाना पड़े, कुछ और करना पड़े तो, किया जाना आवश्यक है। हम इस पर विचार कर रहे हैं।”

इससे पहले शनिवार (अक्टूबर 31, 2020) को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने का ऐलान किया था। सीएम योगी ने कहा कि इससे कोर्ट के आदेश का पालन भी होगा और बहन-बेटियों का सम्मान भी होगा।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था, “हम लव जिहाद के मामलों को रोकने के लिए एक प्रभावशाली क़ानून बनाएँगे। छद्म वेश में, चोरी-छिपे नाम बदल कर जो लोग बहन-बेटियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ करते हैं, उनके लिए पहले से मेरी चेतावनी है। अगर वह सुधरे नहीं तो राम नाम सत्य है की यात्रा अब निकलने वाली है। बता दें कि शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा था कि महज शादी के लिए धर्म परिवर्तन वैध नहीं है।

गौरतलब है कि फरीदाबाद हत्याकांड की सुनवाई फास्ट ट्रैक में करवाने का निर्णय हरियाणा सरकार पहले ही ले चुकी है। इस बात की जानकारी भी गृह मंत्री विज ने दी थी। विज ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि मामले के आरोपित को जल्द सजा मिलेगी। विज के अनुसार बल्लभगढ़ प्रकरण की जाँच एसआईटी अब 2018 से करेगी। मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में दिन प्रतिदिन की जाएगी। हरियाणा के मुख्यमंत्री भी इस मामले में कह चुके हैं कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। 

लव जिहाद के एंगल से होगी जाँच

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि बल्लभगढ़ मामले की जाँच 2018 से एसआईटी करेगी। क्योंकि 2018 में बेटी के अपहरण की शिकायत दर्ज करवाने के बाद ऐसी क्या नौबत आई कि परिजनों ने खुद ही शपथ पत्र देकर केस वापस ले लिया। उन्होंने कहा कि इस केस को भी पुनर्जीवित किया जाएगा। इतना ही नहीं विज ने यह भी साफ किया कि इस मामले की धर्म-परिवर्तन और लव जिहाद की दृष्टि से भी जाँच करवाई जाएगी।

विज के निशाने पर कॉन्ग्रेस

बल्लभगढ़ मामले को लेकर अनिल विज कॉन्ग्रेस पर हमलावर हैं। उन्होंने कहा था कि बल्लभगढ़ की घटना कॉन्ग्रेस के दबाव में हुई। आरोपित कॉन्ग्रेस नेताओं का रिश्तेदार है। कॉन्ग्रेस नेताओं के दबाव में ही 2018 में दर्ज करवाया मुकदमा परिजनों ने रद्द करवा दिया। 

‘किसी की दबंगई नहीं चलने दूँगा’

गृहमंत्री ने कहा था, “मैं एक बात साफ बता देना चाहता हूँ कि मैं किसी की दबंगई नहीं चलने दूँगा। मैं सिसक-सिसक कर लड़कियों को मरने नहीं दूँगा। मैं इस प्रकार प्रदेश में किसी को दादागिरी करने नहीं दूँगा। जो भी यह लोग हैं, उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी।”

निकिता हत्याकांड 

बता दें कि बीते 26 अक्तूबर को बीकॉम अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता तोमर की तौसीफ ने गोली मारकर हत्या कर दी। तौसीफ ने इस घटना को तब अंजाम दिया जब वह बल्लभगढ़ स्थित अग्रवाल कॉलेज में परीक्षा देने पहुँची थी। पहले तो मुख्य आरोपित तौसीफ और रेहान ने छात्रा को जबरदस्ती कार के अंदर डालना चाहा था, लेकिन निकिता के साथ मौजूद छात्रा ने हत्यारों का विरोध किया, जिसके बाद तौसीफ ने छात्रा की गोली मारकर हत्या कर दी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -