Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिहाथरस: राहुल गाँधी के करीबी श्योराज जीवन से पूछताछ, जातीय हिंसा की साजिश रचने...

हाथरस: राहुल गाँधी के करीबी श्योराज जीवन से पूछताछ, जातीय हिंसा की साजिश रचने को लेकर दर्ज है FIR

7 अक्टूबर को रिपब्लिक टीवी के एक स्टिंग ऑपरेशन में कॉन्ग्रेस नेता के द्वारा रची जा रही पूरी साजिश का खुलासा हुआ था। उन्होंने इस वीडियो में कबूला था कि जातीय हिंसा की पूरी तैयारी हो चुकी है।

राहुल गाँधी के करीबी व कॉन्ग्रेस नेता श्योराज जीवन वाल्मीकि से हाथरस पुलिस ने पूछताछ की है। उनके ख़िलाफ़ बुधवार (अक्टूबर 7, 2020) को जातीय हिंसा भड़काने के आरोप में मामला दर्ज हुआ था।

एएनआई यूपी के अनुसार, आगरा जोन के एडीजी अजय आनंद ने बताया कि उन्हें (कॉन्ग्रेस नेता श्योराज जीवन) पूछताछ के लिए बुलाया गया था। उन पर हाथरस में कथित तौर पर जातिगत हिंसा के लिए उकसाने का मामला दर्ज है। वहीं समाचार एजेंसी से बातचीत में श्योराज जीवन ने कहा कि पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया है।

गौरतलब है कि 7 अक्टूबर को रिपब्लिक टीवी के एक स्टिंग ऑपरेशन में कॉन्ग्रेस नेता के द्वारा रची जा रही पूरी साजिश का खुलासा हुआ था। उन्होंने इस वीडियो में कबूला था कि जातीय हिंसा की पूरी तैयारी हो चुकी है।

इसके अलावा वह कहते सुने गए थे कि पीएल पुनिया और सपा नेता अखिलेश यादव भी आंदोलन में शामिल हो सकते हैं। वहीं उनके नेता, राहुल गाँधी तभी सामने आएँगे, जब गोलियाँ चलने लगेंगी।

पूरी वीडियो में कॉन्ग्रेस नेता श्योराज जीवन वाल्मीकि को कहते सुना जा सकता है:

“दंगा तो कोई भी रोक नहीं पाएगा, जो स्थिति बनती जा रही है। वाल्मीकि समाज ही मार्शल कौम है। हमलोगों को आप गाँव में मार सकते हैं। बहुत काट दिए जाएँगे, बहुत मार दिए जाएँगे। शहर में हमलोग अच्छी-खासी तादाद में हैं। तैयारी पूरी है। इसके लिए हम पूरे तरीके से लगे हुए हैं।”

‘रिपब्लिक’ के अनुसार, श्योराज जीवन ने ये भी खुलासा किया कि हाथरस में जाति के नाम पर माहौल बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है और पीड़ित परिवार पर दबाव बनाया जा रहा है। चैनल का कहना है कि ये वीडियो इस बात का पक्का सबूत है और ये इस केस का सबसे बड़ा कबूलनामा है। वीडियो में कॉन्ग्रेस नेता कहते हैं, “ये केस नहीं दबेगा। मैं इस मामले में 4 दिन बाद पड़ा था। परिवार हताश हो गया था।“

इसी स्टिंग ऑपरेशान के ऑन एयर हो जाने के बाद हाथरस पुलिस ने श्योराज के ख़िलाफ मामला दर्ज किया और उन्हें बुलाकर उनसे पूछताछ की।

बता दें कि इन दिनों हाथरस घटना में विपक्षी पार्टियों की सक्रियता देख कर स्पष्ट मालूम चल रहा है कि विपक्षी नेता इस घटना को तूल देकर इसका राजनैतिक फायदा लेना चाहते हैं। पिछले दिनों राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी की वीडियो से लेकर पीएफआई से जुड़े कई लिंक का इसमें खुलासा हुआ था।

उल्लेखनीय है कि 29 सितंबर 2020 को 19 वर्षीय हाथरस पीड़िता ने दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ा था। मृतका के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म के आरोप लगाए गए थे लेकिन फोरेंसिक रिपोर्ट में इसकी पुष्टि नहीं हुई। सीएम योगी ने जाँच के लिए एसआईटी टीम का गठन किया था। सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई में योगी सरकार ने सीबीआई जाँच का भी समर्थन किया। इस मामले में एक नया वीडियो सामने आया है, जिसे लेकर दावा किया जा रहा है कि ये 14 सितंबर यानी घटना के दिन की ही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाम: नूर मुहम्मद, काम: रोहिंग्या-बांग्लादेशी महिलाओं और बच्चों को बेचना; 36 घंटे चला UP पुलिस का ऑपरेशन, पकड़ा गया गिरोह

देश में रोहिंग्याओं को बसाने वाले अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी के गिरोह का उत्तर प्रदेश एटीएस ने भंडाफोड़ किया है। तीन लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है।

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe