Friday, July 23, 2021
Homeदेश-समाजहाथरस केस: देखिए, वारदात की जगह से 14 सितंबर का Video, मृतका से 3...

हाथरस केस: देखिए, वारदात की जगह से 14 सितंबर का Video, मृतका से 3 मीटर की दूरी पर थी उसकी माँ…

पुलिस ने इस वीडियो को लेकर यह दावा किया है कि मौका-ए-वारदात पर कम से कम चार लोग मौजूद थे और लड़की की माँ भी महज 3 मीटर की दूरी पर थी। ऐसे में अगर लड़की चीखती-चिल्लाती तो उसकी आवाज इतनी दूरी से साफ सुनी जा सकती थी।

हाथरस केस में एक नया वीडियो सामने आया है। कहा जा रहा है कि यह वीडियो 14 सितंबर 2020, यानी घटना वाले दिन का ही है। इसे तब शूट किया गया था जब पुलिस मौके पर जाँच करने पहुँची थी। वीडियो में खेत में कई सामान बिखरे नजर आ रहे हैं।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने इस वीडियो को लेकर यह दावा किया है कि मौका-ए-वारदात पर कम से कम चार लोग मौजूद थे और लड़की की माँ भी महज 3 मीटर की दूरी पर थी। ऐसे में अगर लड़की चीखती-चिल्लाती तो उसकी आवाज इतनी दूरी से साफ सुनी जा सकती थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस ने घटनास्थल पर मिली चीजों को लेकर खुलासा किया है कि वहाँ आसपास 4 हसियाँ पड़ी हुई थीं। इसके अलावा वीडियो में चप्पल और अन्य सामान पड़े देखे जा सकते हैं। आजतक की खबर का दावा है कि इस वीडियो के सामने आने के बाद यूपी पुलिस का कहना है कि वह इसे सबूत के तौर पर सीबीआई को सौंपेंगे, ताकि घटना के बाद की स्थिति की जानकारी जाँच एजेंसी को मिल सके। वहीं वीडियो को रिकॉर्ड किए जाने पर पुलिस ने बताया है कि जब उन्हें इस घटना की पहली दफा सूचना मिली थी, तभी यह वीडियो शूट किया गया था।

गौरतलब है कि पूरे मामले में ये बातें पहले से सामने आ रही हैं कि हाथरस में घटना वाले दिन खेत में कई लोग मौजूद थे। मृतका के साथ ही उसकी माँ भी कुछ दूरी पर ही घास काट रही थी। चारों आरोपितों में से एक आरोपित, लवकुश की माँ का यह बयान भी सोशल मीडिया पर सामने आया था कि घटना के बाद वह और उनका बेटा लड़की की मदद करने गए थे। मगर, पीड़िता के परिवार ने उनके बेटे यानी लवकुश को ही फर्जी केस में फँसा दिया। लवकुश की माँ ने इस पूरे मामले में सच्चाई को सामने लाने के लिए सीबीआई जाँच की माँग की थी। साथ ही नार्को जाँच करवाने की भी माँग की थी।

बता दें कि 14 सितंबर को हाथरस में हुई इस घटना के बाद से सवर्ण बनाम दलित की बहस ने जोर पकड़ा हुआ है। अब तक मीडिया ये कहती रही कि मृतका के साथ गैंगरेप हुआ था। हालाँकि, इस वीडियो के सामने आने के बाद और पुलिस के दावों को देख कर सवाल उठ रहा है कि जब मृतका से उसकी माँ मात्र 3 मीटर की दूरी पर थी तो कैसे उन तक आवाज नहीं पहुँची।

इस मामले में यह भी गौर करने वाली बात है कि आरोपित पक्ष की ओर से लगातार मृतका के साथ कुछ भी गलत किए जाने की बात से इनकार किया जा रहा है। आरोपितों ने आज इस बाबत जेल से एसपी को पत्र भी लिखा है। अपने पत्र में उन्होंने बताया है कि मृतका की माँ और भाई ने ही उसकी पिटाई की, जिसके कारण उसकी मौत हो गई।

इस पत्र में लिखा है कि मृतका की मुख्‍य आरोपित संदीप से दोस्‍त थी और वे फोन पर भी एक-दूसरे से बात करते थे। यह दोस्‍ती उसके घरवालों को पसंद नहीं थी और इसी नफरत में परिवार के लोगों ने ही उसे मार दिया।

पत्र में हाथरस कांड के चारों आरोपितों– लवकुश, रवि, रामकुमार उर्फ रामू और संदीप उर्फ चंदू, के हस्ताक्षर और उनके अँगूठे के निशान भी हैं। आरोपितों ने पत्र में कहा है कि उन्हें झूठे आरोप में फँसाया गया है। इन सभी ने पत्र के माध्यम से यूपी पुलिस से निष्पक्ष जाँच की माँग की है। उन्‍होंने एफआईआर में अलग-अलग दिन आरोपितों के नाम बढ़ाने और धाराएँ जोड़ने का भी उल्‍लेख किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी विश्वनाथ मंदिर की हुई ज्ञानवापी मस्जिद की 1700 फीट जमीन

काशी विश्‍वनाथ मंदिर प्रशासन और ज्ञानवापी मस्जिद पक्ष की ओर से पहले ही इस मामले पर सहमति बातचीत के दौरान बनी थी।

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,891FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe