Monday, June 17, 2024
Homeराजनीतिजब राजीव गाँधी ने INS विराट की स्टोरी दबाने के लिए मीडिया का गला...

जब राजीव गाँधी ने INS विराट की स्टोरी दबाने के लिए मीडिया का गला घोंटने की ठानी थी

राजीव गाँधी की सरकार ने इंडियन एक्सप्रेस से बदला लेने के लिए एक्सप्रेस के दिल्ली कार्यालय में रेड मारने के लिए दिल्ली पुलिस और सीआरपीएफ के इतने सिपाही तैनात किए थे जितने टैक्स रेड में कहीं भी नहीं भेजे जाते थे।

बीते दिनों चुनाव प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी की लक्षद्वीप यात्रा का जिक्र करके मामले को दोबारा से जीवित कर दिया। आइएनएस विराट पर पूरे परिवार सहित छुट्टी मनाने पहुँचे राजीव गाँधी की यात्रा ‘वृत्तांत’ पर उस समय इंडियन एक्सप्रेस और इंडियन टुडे ने स्टोरी कवर की थी। अब चूँकि इन दिनों इस मामले ने तूल पकड़ा हुआ है तो इंडियन एक्सप्रेस ने उस पूरे समय को दोबारा से याद किया और बताया कि कैसे उस समय स्टोरी छपने के बाद राजीव गाँधी ने इंडियन एक्सप्रेस से बदला लेने की ठान ली थी।

निरूपमा सुब्रह्मण्यन द्वारा इंडियन एक्सप्रेस में लिखे गए लेख में राजीव गाँधी की उन छुट्टियों पर कवर हुई स्टोरी पर प्रकाश डाला गया। इस लेख की हेडलाइन ही स्पष्ट करती है कि प्रधानमंत्री मोदी ने इस किस्से पर बात करके हमारे समक्ष सवाल छोड़े हैं ताकि हम पूछें कि वास्तव में अपने पद की शक्तियों का दुरुपयोग किसने किया है?

लेख में सुब्रह्मण्यन ने न केवल राजीव गाँधी की उन छुट्टियों को याद किया, बल्कि राजीव गाँधी की उन जरूरतों पर सवाल भी दागे जिनके कारण उन्होंने (राजीव) देश को जरूरी न समझकर, साल भर के लिए छुट्टी पर जाना आवश्यक समझा था। खास बात ये है कि इस रिपोर्ट में निरूपमा ने यह भी बताया कि किस तरह INS विराट पर छुट्टियाँ बिताने के बाद राजीव गाँधी और उनकी सरकार ने इंडियन एक्सप्रेस को सबक सिखाने की सोची थी।

इसका कारण उन दिनों इंडियन एक्सप्रेस में छपा एक कार्टून था। इस कार्टून में राजीव गाँधी नारियल के पेड़ के नीचे बैठकर नारियल पी रहे थे और कह रहे थे,“Ah! To get away from it all!” और देश उनसे पूछ रहा था “कब?”

इस कार्टून के प्रकाशित होने के बाद राजीव गाँधी और उनकी सरकार ने कई महीनों बाद इंडियन एक्सप्रेस पर निशाना साधते हुए एंटी डिफेमेशन बिल 1988 पेश करने की कोशिश की थी जिसका मीडिया समूहों ने जमकर
विरोध किया था। लेकिन, जुलाई 1988 में राजीव गाँधी ने अपमानजनक लेखन पर अंकुश लगाने के लिए एक कड़ा बिल पास कर ही दिया। हालाँकि बाद में मीडिया की प्रतिक्रिया ने उन्हें बिल को रद्द करने के लिए मजबूर कर दिया था।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक कार्टून के छपने के बाद दफ्तर के परिसर में कई बार रेड पड़ी। इसकी फर्जी जाँच करने के लिए कि संस्थान ने कस्टम ड्यूटी से बचने की कोशिश की है। गौरतलब है कि इस लेख में
सुब्रह्मण्यन ने अपने अनुभव साझा करते हुए यह भी बताया है कि उस दौरान इंडियन एक्सप्रेस के दिल्ली कार्यालय में रेड मारने के लिए दिल्ली पुलिस और सीआरपीएफ के इतने सिपाही तैनात किए गए थे जितने टैक्स रेड में कहीं भी नहीं भेजे जाते होंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -