Wednesday, October 20, 2021
Homeबड़ी ख़बर'हमारी लड़ाई बंग्लादेशियों से है, ना कि भारतीय अल्पसंख्यकों से'- हेमंत बिस्वा शर्मा

‘हमारी लड़ाई बंग्लादेशियों से है, ना कि भारतीय अल्पसंख्यकों से’- हेमंत बिस्वा शर्मा

'बांग्लादेशी घुसपैठिए हमारे देश में आकर राजनीतिक समस्या को जन्म देते हैं क्योंकि वो यहाँ के समाज को अपना नहीं मानते हैं।'

केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक 2016 पारित होने के साथ ही इसका विरोध भी देखने को मिला। इस मुद्दे पर इंडियन एक्सप्रेस ने हेमंत बिस्वा शर्मा से बातचीत की। बता दें कि हेमंत बिस्वा शर्मा 23 साल तक कॉन्ग्रेस के साथ काम करने के बाद बीजेपी में शामिल हो गए थे। हेमंत ने दावा किया है कि आशंकाओं के बावजूद, पूर्वोत्तर के लोग मोदी सरकार के विकास कार्यों के लिए भाजपा को वोट देंगे।

इस दौरान जब हेमंत बिस्वा शर्मा से पूछा गया कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2016 के विरोध के बावजूद, भाजपा ने पूर्वोत्तर के लगभग सभी राज्यों में प्रमुख गठबंधन किए हैं। ये करने में वे कैसे सफल रहे? तो उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा कि जब पार्टी ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक को पारित करने की कोशिश की, तो कुछ लोगों ने इसका समर्थन किया और कुछ लोगों ने आरक्षण को मुद्दा बनाया। लेकिन उन्होंने परिणाम की चिंता किए बिना इस विधेयक को पारित करवाया, क्योंकि उनका मानना है कि किसी एक मुद्दे पर चुनाव नहीं लड़ा जा सकता है। और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वहाँ पर जो विकास कार्य हुआ है, उसके बाद कोई भी भाजपा के खिलाफ नहीं है। सभी को ऐसा लगता है कि उन्होंने सही किया है।

उनसे पाकिस्तान के बालाकोट पर भारतीय वायुसेना की तरफ से किए गए एयर स्ट्राइक पर पूछा गया कि क्या राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा चुनाव के सभी मुद्दों पर भारी पड़ेगा। क्या इससे भाजपा को कोई फायदा मिल सकता है? इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि सिर्फ इसी मुद्दे पर लोग वोट करेंगे। लोग सरकार के पूरे कामकाज के आधार पर वोट देंगे। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि अभी अगर सिर्फ पिछले 6 महीने की ही बात की जाए, तो आयुष्मान भारत, आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को 10% आरक्षण आदि कई ऐसे मुद्दे हैं, जो पीएम मोदी के पक्ष में है। सरकार जहाँ राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर सक्रिय है, वहीं स्वास्थ्य और आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को लेकर गंभीर भी। ऐसे में मतदाता पीएम मोदी को पूरे कामकाज के लिए वोट देंगे।

असम में हुए आंदोलन को लेकर जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने इसके धार्मिक और सामाजिक दोनों पहलूओं को जवाब के तौर पर रखा। हेमंत बिस्वा शर्मा ने बताया कि असम आंदोलन में उन मजहबी प्रवासियों का हवाला दिया गया था, जिनकी वजह से असम के लोग अपनी पहचान खो रहे हैं। उनका कहना है कि हमारी पहचान से जुड़ा संकट बांग्लादेशियों से है, ना कि भारतीय समुदाय विशेष से। भारतीय अल्पसंख्यक हों या हिंदू या सिख-बौद्ध-जैन… इनसे आपको समस्याएँ इसलिए नहीं होती क्योंकि ये सभी लोग राजनीतिक रूप से भारतीय होते हैं और आपके सामाजिक ताने-बाने को तोड़ते नहीं हैं। जबकि बांग्लादेशी घुसपैठिए हमारे देश में आकर राजनीतिक समस्या को जन्म देते हैं क्योंकि वो यहाँ के समाज को अपना नहीं मानते हैं।

हेमंत बिस्वा शर्मा ने यह भी बताया कि पहले पूरे भारत में लोग इस बारे में खुलकर नहीं बोलना चाहते थे। क्योंकि उन्हें लगता था कि अगर वो कुछ बोलेंगे तो उनको धर्मनिरपेक्ष नहीं समझा जाएगा। मगर पिछले 10 वर्षों में, और खासकर भाजपा के सत्ता में आने के बाद, लोगों ने थोड़ा और खुलकर बोलना शुरू कर दिया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘…पूरी पार्टी ही हैक कर ली है मोटा भाई ने’: सपा कार्यकर्ता ने मंच से किया BJP का प्रचार, लोगों ने लिए मजे; वीडियो...

SP के धरना प्रदर्शन का एक वीडियो क्लिप वायरल हो रहा है, जिसमें पार्टी का एक कार्यकर्ता अनजाने में बीजेपी के लिए प्रचार करता दिखाई दे रहा है।

स्मृति ईरानी ने फैबइंडिया के ट्रायल रूम से पकड़ा था हिडन कैमरा, ‘खादी’ के अवैध इस्तेमाल सहित कई मामले: ब्रांड का विवादों से है...

फैबइंडिया का विवादों से पुराना नाता रहा है। एक मामले में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने गोवा के कैंडोलिम में स्थित फैबइंडिया आउटलेट के ट्रायल रूम में हिडन कैमरा पकड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,110FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe