Friday, September 17, 2021
Homeराजनीतिकोरोना+ कॉरपोरेटर इमरान पाशा ने आइसोलेशन में जाने से पहले जुटाई भीड़, कॉन्ग्रेस MLA...

कोरोना+ कॉरपोरेटर इमरान पाशा ने आइसोलेशन में जाने से पहले जुटाई भीड़, कॉन्ग्रेस MLA पिता की भी नहीं सुनी

इमरान पाशा जहॉं के पार्षद हैं वहाँ पर सप्ताह भर पहले फ्रंटलाइन वर्करों पर मुस्लिम भीड़ ने हमला किया था। अब इमरान ने आइसोलेशन में जाने से पहले जो हाई वोल्टेज ड्रामा किया उससे इलाके में डर का माहौल बन गया है।

सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन के आरोप में शनिवार (मई 30, 2020) को जेडीएस (JDS) नेता इमरान पाशा के खिलाफ FIR दर्ज की गई। वे बेंगलुरु के पदरायनपुरा वार्ड से पार्षद हैं।

कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बावजूद उन्होंने अपने घर के पास लोगों की भीड़ इकट्ठा की थी। यह सब उन्होंने आइसोलेशन में जाने से पहले किया था।

जानकारी के मुताबिक इमरान पाशा को शुक्रवार (मई 28, 2020) को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। इसके बाद पूरे इलाके को सील करने के साथ ही स्वास्थ्यकर्मी इमरान पाशा को आइसोलेशन में ले जाने के लिए आए। इस दौरान जेडीएस पार्षद ने अपने घर के पास काफी ड्रामा किया। सैकड़ों की संख्या में समर्थकों ने इकट्ठा होकर नारे लगाए।

जर्नलिस्ट शिव अरूर ने इसका एक वीडियो शेयर किया है। इसमें जेडीएस नेता को समर्थकों को हाथ हिलाते हुए और कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद एक महिला के पाँव छूते हुए देखा जा सकता है।

एक कोरोना पॉजिटिव मरीज के इस तरह से सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन कर अपने समर्थकों से मिलने की वजह से इलाके में डरावनी स्थिति उत्पन्न हो गई है। उन्हें विक्टोरिया हॉस्पिटल जाने के दौरान एंबुलेंस से पीपीई किट पहने हाथ हिलाते हुए देखा गया।

इमरान पाशा के खिलाफ बेंगलुरु के जेजे नगर पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 188, 270 और 271 के तहत मामला दर्ज किया गया है। बता दें कि पदरायनपुरा इलाका, जहाँ के पार्षद इमरान पाशा है, वहाँ पर सप्ताह भर पहले फ्रंटलाइन वर्करों पर मुस्लिम भीड़ द्वारा आक्रामक हमला किया गया था। इमरान ने कोरोना पॉजिटिव होने के बाद आइसोलेशन जाने की बजाय हाई वोल्टेज ड्रामा किया और इलाके में डर का माहौल बना दिया।

स्टैंडर्ड प्रोटोकॉल के अनुसार, पाशा को तुरंत शहर के कोरोना वायरस अस्पताल विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती हो जाना चाहिए था। मगर, उन्हें एक मरीज के रूप में अस्पताल में दाखिल होने में 15 घंटे लग गए।

जेडीएस नेता से अस्पताल में भर्ती होने के लिए आशा कार्यकर्ताओं समेत वरिष्ठ अधिकारियों को गुहार लगानी पड़ी। यहाँ तक कि पाशा के पिता और चामराजपेट से कॉन्ग्रेस के विधायक ज़मीर अहमद ने भी उन्हें आइसोलेशन में रहने का आग्रह किया, मगर फिर भी वह अस्पताल जाने के लिए तैयार नहीं थे। वह जोर देकर कह रहे थे कि वह घर में ही क्वारंटाइन में रहेंगे।

इसके बाद जब वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने संक्रमण फैलाने के लिए आईपीसी के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज करने की धमकी दी, तब जाकर जेडीएस पार्षद विक्टोरिया अस्पताल में क्वारंटाइन में रहने के लिए तैयार हुए।

बताया जा रहा है कि जेडीएस नेता के संपर्क में आने के बाद कम से कम एक वरिष्ठ अधिकारी को क्वारंटाइन में रखने की जरूरत होगी। कई अन्य बीबीएमपी अधिकारी जेडीएस नेता के संपर्क में थे। पाशा की प्राइमरी कॉन्टैक्ट लिस्ट में 19 लोग और सेकेंडरी कॉन्टैक्ट लिस्ट में 21 लोग शामिल हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘फर्जी प्रेम विवाह, 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का यौन शोषण व उत्पीड़न’: केरल के चर्च ने कहा – ‘योजना बना कर हो रहा...

केरल के थमारसेरी सूबा के कैटेसिस विभाग ने आरोप लगाया है कि 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का फर्जी प्रेम विवाह के नाम पर यौन शोषण किया गया।

डॉ जुमाना ने किया 9 बच्चियों का खतना, सभी 7 साल की: चीखती-रोती बच्चियों का हाथ पकड़ लेते थे डॉ फखरुद्दीन व बीवी फरीदा

अमेरिका में मुस्लिम डॉक्टर ने 9 नाबालिग बच्चियों का खतना किया। सभी की उम्र 7 साल थी। 30 से अधिक देशों में है गैरकानूनी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,891FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe