Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतिबंगाल में खून-खराबे का नया दौर: हत्या, लूट, आगजनी... नंदीग्राम वाले शुभेंदु और पत्रकारों...

बंगाल में खून-खराबे का नया दौर: हत्या, लूट, आगजनी… नंदीग्राम वाले शुभेंदु और पत्रकारों को भी नहीं छोड़ा

बेलिहाता विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के 30 वर्षीय कार्यकर्ता अभिजीत सरकार की पीट पीटकर हत्या कर दी गई। बिशुनपुर में एक भाजपा के पोलिंग एजेंट के घर को भी आग के हवाले कर दिया गया। बेलघाटा में भाजपा उम्मीदवार काशीनाथ विश्वास के घर और गाड़ियों को फूँक दिया गया।

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के बहुमत में आते ही हिंसा का दौर फिर से शुरू हो गया है। राज्य में TMC ने 213 तो भाजपा ने 77 सीटें जीती हैं। लेकिन, काँटे की टक्कर में भाजपा के शुभेंदु अधिकारी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नंदीग्राम में 1956 वोटों से हरा दिया। तृणमूल समर्थक इस हार से आग-बबूला हो गए और उन्होंने हल्दिया में शुभेंदु अधिकारी के काफिले पर हमला कर दिया।

इसके अलावा कई अन्य जगहों से भी भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने की खबरें आई हैं। बेलिहाता विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के 30 वर्षीय कार्यकर्ता अभिजीत सरकार की पीट पीटकर हत्या कर दी गई। पत्रकारों को भी निशाना बनाने की खबरें हैं। न्यूज 18 की पत्रकार पायल मेहता ने ट्विटर पर शुभेंदु अधिकारी के कार पर हुए हमले का वीडियो शेयर किया है। उन्होंने टीएमसी के गुंडों द्वारा पत्रकारों पर हमले का भी वीडियो साझा किया है। इस दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी रही।

शुभेंदु पर हमला तब हुआ, जब वे काउंटिंग सेंटर से निकल रहे थे। हमले का आरोप TMC कार्यकर्ताओं पर लगा है। पार्टी ने चुनाव आयोग को पत्र लिख कर नंदीग्राम में वोटों की फिर से गणना करने की माँग भी की है। शुभेंदु की गाड़ी का पीछा कर रहे बदमाश गालियाँ भी बक रहे थे। खुद शुभेंदु अधिकारी ने भी इस हमले का वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि जब एक जनप्रतिनिधि पर ऐसा हमला हो सकता है तो आम आदमी की व्यथा के बारे में सोचिए।

शुभेंदु ने कहा कि ये राज्य में बदले और हिंसा का माहौल बनाने का एक घृणित प्रयास है। उधर मतगणना वाली शाम ही आरामबाग में भाजपा के दफ्तर को ही आग के हवाले कर दिया गया। भाजपा की स्थानीय यूनिट का आरोप है कि वहाँ से TMC उम्मीदवार सुजाता मंडल के हारने के बाद उनके समर्थक आग-बबूला हो गए और उन्होंने भाजपा दफ्तर को फूँक डाला, जबकि ममता बनर्जी का कहना है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनके उम्मीदवार को खदेड़ा और सिर पर वार किया।

इसके अलावा बिशुनपुर में एक भाजपा के पोलिंग एजेंट के घर को भी आग के हवाले कर दिया गया। बेलघाटा में भाजपा उम्मीदवार काशीनाथ विश्वास के घर और गाड़ियों को फूँक दिया गया। उन्होंने इस घटना के पीछे तृणमूल कार्यकर्ताओं का हाथ बताया है। आसनसोल में भी TMC कार्यकर्ताओं के गुस्से का ठीकरा वहाँ के एक भाजपा दफ्तर पर ही फूटा, जिसे तहस-नहस कर दिया गया। वहाँ भाजपा कार्यकर्ता भी निशाना बने। कुछ जगहों पर बीजेपी समर्थकों के दुकानों में लूटपाट भी की गई।

भाजपा नेताओं ने कहा है कि इस तरह की घटनाएँ अगले 5 सालों के लिए और ज्यादा भय पैदा करती हैं, क्योंकि सत्ता के संरक्षण में ऐसी हरकतें बार-बार की जाएगी। हालाँकि, TMC ने कहा है कि ये उनके कार्यकर्ताओं का काम नहीं है और भाजपा ही बौखलाहट ये सब कुछ कर रही है। भाजपा और तृणमूल का अलग-अलग प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से भी मिला। ये सब तब हो रहा है, जब ECI ने नतीजों का जश्न मनाने पर रोक लगा रखी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe