Friday, August 6, 2021
Homeराजनीति'चायनीज' कोरोना देने के बाद चीन ने चली कश्मीर पर चाल: भारत ने दिया...

‘चायनीज’ कोरोना देने के बाद चीन ने चली कश्मीर पर चाल: भारत ने दिया करारा जवाब, कहा- हमारे घर में न दें दखल, हमारा आंतरिक मामला

"चीन को इस मुद्दे पर हमारा रुख पता है। जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और रहेगा। जम्मू-कश्मीर से जुड़ा मुद्दा भारत का आंतरिक मसला है। कश्मीर मुद्दे पर भारत किसी भी देश की टिप्पणी को स्वीकार नहीं कर सकता।"

एक तरफ पूरा विश्व कोरोना की महामारी से जूझ रहा है। लेकिन पूरे विश्व को कोरोना की सौगात देने वाला चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। चीन ने एक बार फिर अपना असली चेहरा दिखाते हुए पाकिस्तान की भाषा में कश्मीर राग अलापा है, लेकिन इस बार भारत ने साफ शब्दों में जवाब देते हुए कहा है कि चीन को अच्छी तरह पता है कश्मीर पर भारत का रुख क्या है, लिहाजा चीन हमारे आंतरिक मामले में दखल न दे।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने चीन के प्रवक्ता द्वारा कश्मीर पर दिए गए बयान को खारिज करते हुए कहा कि कहा, “चीन को इस मुद्दे पर हमारा रुख पता है। जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और रहेगा। जम्मू-कश्मीर से जुड़ा मुद्दा भारत का आंतरिक मसला है। कश्मीर मुद्दे पर भारत किसी भी देश की टिप्पणी को स्वीकार नहीं कर सकता।”

श्रीवास्तव ने आगे कहा कि इसलिए हमारी अपेक्षा है कि चीन सहित सभी देशों को हमारे आतंरिक मामले से दूर रहना चाहिए और भारत की क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करना चाहिए। हम चीन से यह भी उम्मीद करते हैं कि वह सीमा पार से हो रहे आतंकवाद और इससे भारत में जीवन पर पड़ रहे असर को समझेगा।

आपको बता दें कि इससे पहले चीनी प्रवक्ता ने कहा था कि पेइचिंग कश्मीर के हालात पर नजर रखे हुए हैं और हमारा रुख इस पर नहीं बदला है। कश्मीर मुद्दे का इतिहास शुरू से ही विवादित रहा है और इसका समाधान संयुक्त राष्ट्र के चार्टर, सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और द्विपक्षीय तरीके से होना चाहिए।” याद रहे कि कश्मीर पर चीन की यह कोई पहली टिप्पणी नहीं बल्कि पाकिस्तान को भारत के खिलाफ इस्तेमाल करने के लिए चीन समय-समय पर पाक के साथ कश्मीर राग अलापता रहता है।

गौरतलब है कि पिछले वर्ष गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में विशेष बिल पेश कर जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने की सिफारिस की थी। इसके बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा अनुमोदित होते ही जम्मू-कश्मीर के सभी विशेष अधिकार समाप्त हो गए थे। तभी से जम्मू-कश्मीर में पूरे देश के समान कानून लागू होते हैं। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद से ही चीन और पाकिस्तान कश्मीर पर अपना-अपना राग अलापते रहते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,169FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe