Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस नेता के घर से बरामद हुए 17 पिस्टल, 2 कार्बाइन, 1478 कारतूस: ₹4...

कॉन्ग्रेस नेता के घर से बरामद हुए 17 पिस्टल, 2 कार्बाइन, 1478 कारतूस: ₹4 करोड़ का है घर, लगा NSA

कॉन्ग्रेस नेता और मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस कमिटी के पूर्व सचिव गजेंद्र सोनकर ने अपने यहाँ 15000 रुपए की नौकरी करने वाले व्यक्ति के नाम पर 2 शस्त्रों का लाइसेंस ले रखा था। पुलिस गई थी जुआ को लेकर कार्रवाई करने, लेकिन हथियारों का जखीरा...

मध्य प्रदेश के जबलपुर में कॉन्ग्रेस नेता के घर से बड़ी मात्रा में हथियार बरामद हुए थे, जिनमें से दो लाइसेंसी भी हैं। मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस कमिटी के पूर्व सचिव गजेंद्र सोनकर के घर पुलिस गई थी जुआ को लेकर कार्रवाई करने, लेकिन हथियारों का जखीरा बरामद हो गया। भानतलैया स्थित उनके आवास से प्रतिबंधित 9 एमएम की दो कार्बाइन सहित 17 पिस्टल, 1478 कारतूस, 19 मैग्जीन, खड्ग, फरसा, कुल्हाड़ी, ‘बका’ और दो जंगली जानवर के सींग भी मिले

एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने जानकारी दी थी कि हनुमानताल थाने में उक्त कॉन्ग्रेस नेता, उनके भाई व मैनेजर के विरुद्ध आर्म्स एक्ट और वन्य जीव अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया। दोनों भाइयों को गिरफ्तार कर रिमांड पर भेज दिया गया था। कई थानों की पुलिस ने मिल कर कार्रवाई को अंजाम दिया, बावजूद इसके इसे गोपनीय रखा गया था। कॉन्ग्रेस नेता ने अपने घर के आसपास सीसीटीवी के अलावा कंट्रोल रूम भी बना रखे हैं और गार्ड तैनात कर रखा है।

अब पता चला है कि कॉन्ग्रेस नेता ने अपने स्टोन क्रशर प्लांट में काम करने वाले एक कर्मचारी के नाम पर 2 शस्त्रों का लाइसेंस ले रखा था। 15 हजार रुपए की नौकरी करने वाले व्यक्ति के नाम पर इतने महँगे लाइसेंसी हथियारों के मिलने से पुलिस हैरान है और बताया जा रहा है कि वो तो बस एक मोहरा भर था। 2014 में एक आपराधिक प्रकरण आने के बाद गजेंद्र के लाइसेंस रद्द कर दिए गए थे, जिसके बाद उसने कर्मचारी के नाम पर लाइसेंस लिया।

दोनों शस्त्रों का लाइसेंस रद्द किया जाना है। खतरनाक हथियार रखने के आरोप में कॉन्ग्रेस नेता गजेंद्र सोनकर और उनके भाई सोनू सोनकर पर NSA के तहत कार्रवाई की जा रही है। मैनेजर रजनीश वर्मा, गोटेगाँव नरसिंहपुर निवासी भाईलाल पटेल, ओमकार उर्फ बबुआ सोनकर फरार चल रहे हैं। प्रत्येक पर 5-5 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया है। गजेंद्र सोनकर की आय के स्रोत का पता लगाने के लिए इनकम टैक्स विभाग को भी पुलिस ने पत्र लिखा है।

उसका घर ही 4 करोड़ रुपए का है। उनके पास से 7.41 लाख रुपए 42 मोबाइल जब्त किए गए थे। वहाँ पर कई जुआरी भी शामिल थे, जिन्हें थाने ले जाकर उन पर कार्रवाई की गई। कॉन्ग्रेस नेता का घर भी अवैध हो सकता है, क्योंकि इसे कब्ज़ा की गई जमीन पर बनाया गया है। जाँच के बाद उसे भी तोड़ने की कार्रवाई की जा सकती है। एक जुआरी 15 लाख रुपए लेकर फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है।

हाल ही में कई छोटे-बड़े अपराधों में कॉन्ग्रेस नेताओं के नाम आ रहे हैं। कुछ दिनों पहले उत्तर प्रदेश के जालौन में कॉन्ग्रेस जिलाध्यक्ष अनुज मिश्रा पर लड़कियों के साथ छेड़छाड़ और उनके साथ फोन पर अश्लील बातचीत करने का आरोप लगा था। इसके बाद लड़कियों ने ही मिल कर उनकी धुनाई कर दी थी। दोनों पीड़ित लड़कियों ने पुलिस को सबूत उपलब्ध कराए थे। उन्होंने पुलिस को कॉल रिकॉर्डिंग्स देकर बताया था कि वो अकेले में मिलने के लिए भी बुलाते थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe