Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीति'मेरे कुत्ते को घर में कैद किया, ताकि CBI को रोक सके': अधिवक्ता ने...

‘मेरे कुत्ते को घर में कैद किया, ताकि CBI को रोक सके’: अधिवक्ता ने महुआ मोइत्रा को घेरा, कमिश्नर से शिकायत – TMC सांसद के इशारे पर धमका रहा दिल्ली पुलिस का SHO

उन पर शिकायत वापस लेने के दबाव बनाए जा रहे हैं। उन्होंने ये भी बताया कि उन्हें नुकसान पहुँचाने की धमकियाँ दी गईं, फिर भी वो तैयार नहीं हुए।

सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता जय अनंत देहाद्राई ने आरोप लगाया था कि तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) सांसद महुआ मोइत्रा ने उनके पालतू कुत्ते को चुरा लिया है। अब उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके कुत्ते को कैद कर लिया गया है। अधिवक्ता जय अनंत देहाद्राई ने सोशल मीडिया के जरिए बताया कि उनके एक हितैषी ने उन्हें जानकारी दी है कि उनके कुत्ते ‘हेनरी’ को जानबूझकर टेलीग्राफ लेन आवास में कैद कर के रखा गया है, ताकि CBI को भीतर घुसने से रोका जा सके।

उन्होंने कहा कि ‘हेनरी’ एक रोटवीलर नस्ल का बड़ा कुत्ता है, जो वैसे तो सीधा-सादा है, लेकिन वो मजबूत रक्षात्मक स्वभाव का भी है। उन्होंने कहा कि वो उसकी सुरक्षा को लेकर सही में चिंतित हैं। भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने महुआ मोइत्रा के खिलाफ लोकपाल से भी शिकायत की है। वहीं उन्होंने दिल्ली के पुलिस कमिश्नर संजय अरोड़ा को पत्र लिख कर खुद की जान को भी खतरा बताया है। उन्होंने कहा है कि वो एक चिंताजनक परिस्थिति में ये पत्र लिख रहे हैं।

पुलिस को भेजे गए पत्र में जय अनंत देहाद्राई ने लिखा है कि CBI को उन्होंने जो शिकायत भेजी गई थी उसके बाद से उन्हें खतरा है। उन पर शिकायत वापस लेने के दबाव बनाए जा रहे हैं। उन्होंने ये भी बताया कि उन्हें नुकसान पहुँचाने की धमकियाँ दी गईं, फिर भी वो तैयार नहीं हुए। उन्होंने बताया कि शिकायत वापस लेने पर उनका कुत्ता वापस करने का वादा भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विरोधियों को दबाने के लिए अपने राजनीतिक रसूख का इस्तेमाल करना महुआ मोइत्रा की पुरानी आदत रही है।

वकील ने बाराखंभा रोड पुलिस थाने के SHO महावीर सिंह पर महुआ मोइत्रा के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया। उन्होंने आरोप लगाया कि महावीर सिंह ने उन्हें 8 बार फोन कॉल किया और कहा, ‘दबाना पड़ेगा (मामले को)’। साथ ही महुआ मोइत्रा की शिकायतों पर आधार बना कर उनके खिलाफ कार्रवाई की धमकी दी। उन पर डील करने के दबाव बनाए गए। उन्होंने बताया कि उन्हें अनजान नंबरों से धमकियाँ भी आ रही हैं। उन्होंने अपने चैंबर के सहयोगी वकीलों की सुरक्षा को लेकर भी चिंता जताई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -