Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीति4 दिनों के इंतजार के बाद भी राहुल और सोनिया गाँधी से नहीं मिल...

4 दिनों के इंतजार के बाद भी राहुल और सोनिया गाँधी से नहीं मिल सके झारखंड के CM हेमंत सोरेन

“हेमंत शनिवार को राँची लौटे। वह बार-बार सोनिया और राहुल को फोन करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन नाकाम रहे। अभी झामुमो से नाराजगी दूर नहीं हुई। इसके अलावा, स्टालिन के साथ उनकी मुलाकात ने घाव पर नमक छिड़का है।”

राजस्थान, पंजाब और महाराष्ट्र में बढ़ते संकट के साथ पूर्वी राज्य झारखंड में कॉन्ग्रेस पार्टी के लिए परेशानी बढ़ती जा रही है। चार दिनों से दिल्ली में डेरा डालकर बैठे झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की ना ही कॉन्ग्रेस प्रमुख सोनिया गाँधी से मुलाकात हो पा रही है और ना ही पार्टी वरिष्ठ नेता राहुल गाँधी से।

दिलचस्प बात यह है कि जब सोरेन मीटिंग की प्रतीक्षा कर रहे थे, तब सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी तमिलनाडु के नए मुख्यमंत्री एमके स्टालिन से मिलने चले गए, जो तमिलनाडु में कॉन्ग्रेस की सहयोगी पार्टी डीएमके के प्रमुख भी हैं। The Daily Pioneer के हवाले से सूत्रों ने दावा किया कि यह दौरा झामुमो प्रमुख के लिए अच्छा नहीं रहा।

The Daily Pioneer की रिपोर्ट में कहा गया, “हेमंत शनिवार को राँची लौटे। वह बार-बार सोनिया और राहुल को फोन करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन नाकाम रहे। अभी झामुमो से नाराजगी दूर नहीं हुई। इसके अलावा, स्टालिन के साथ उनकी मुलाकात ने घाव पर नमक छिड़का है।”

हेमंत सोरेन झामुमो के प्रमुख हैं, जो एक क्षेत्रीय पार्टी है। यह झारखंड में कॉन्ग्रेस पार्टी के साथ गठबंधन में सत्ता में है। हेमंत ने गाँधी परिवार के सदस्यों के साथ एक मुलाकात की माँग की थी। बताया जा रहा है कि उन्होंने कैबिनेट पद पर नियुक्ति और मंत्रिपरिषद में संभावित फेरबदल, निगमों में नियुक्तियों जैसे मुद्दों पर चर्चा करने के लिए मुलाकात का समय माँगा था।

झारखंड के मुख्यमंत्री के अलावा, झारखंड कॉन्ग्रेस के प्रमुख और हेमंत सरकार में वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव भी गाँधी परिवार के साथ पार्टी मामलों पर ‘चर्चा’ करने के साथ-साथ निगमों और आयोगों आदि में नियुक्तियों पर विचार-विमर्श करने के लिए दिल्ली में थे। यह ध्यान देने योग्य है कि दोनों झामुमो और कॉन्ग्रेस की राज्य इकाई ने झारखंड में हेमंत की सरकार में खाली 12वीं कैबिनेट पद पर दावा पेश किया है।

सीएम के साथ, झामुमो के पास पाँच मंत्री हैं, जबकि कॉन्ग्रेस के पास चार और दूसरे सहयोगी राजद के पास एक मंत्री पद है। माना जाता है कि हेमंत और उरांव ने सभी लंबित मुद्दों पर मतभेदों को दूर करने के लिए शीर्ष कॉन्ग्रेस नेतृत्व के साथ बैठक में भाग लिया था।

सूत्रों का दावा है कि हेमंत सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी से मिलने के लिए समय नहीं देने से दुखी हैं। यहाँ जिक्र करना उल्लेखनीय है कि वह अकेले नहीं हैं, जिन्हें माँ-बेटे की जोड़ी ने अपमानित किया है। इससे पहले भी ऐसे कई कॉन्ग्रेसी नेता रहे हैं, जिन्हें गाँधी परिवार के सदस्यों ने मुलाकात करने से मना करके उन्हें पार्टी छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया था।

असम में कॉन्ग्रेस विधायक रूपज्योति कुर्मी ने कॉन्ग्रेस छोड़ी, राहुल गाँधी को बताया जाने का कारण

इससे पहले कल, असम के मरियानी निर्वाचन क्षेत्र से 4 बार के कॉन्ग्रेस विधायक रूपज्योति कुर्मी ने कॉन्ग्रेस नेतृत्व से असंतोष व्यक्त किया। गाँधी परिवार पर तीखा हमला करते हुए कुर्मी ने कहा कि राहुल गाँधी को गूँगे लोगों और उनके कुत्ते का साथ पसंद है। 18 जून को कुर्मी ने यह कहते हुए कॉन्ग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया कि वह राहुल गाँधी के नेतृत्व से ‘निराश और मोहभंग’ हैं।

कुर्मी बाद में असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गए, जिन्होंने इसी तरह की परिस्थितियों में 2015 में खुद कॉन्ग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। सरमा ने ट्वीट किया कि कुर्मी असम में चाय-जनजाति समुदाय के एक प्रमुख नेता हैं और भाजपा में उनका स्वागत किया जाएगा।

गाँधी परिवार द्वारा दरकिनार किए जाने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कॉन्ग्रेस से इस्तीफा दे दिया

मार्च 2020 में ज्योतिरादित्य सिंधिया को सोनिया गाँधी को अपना इस्तीफा ट्वीट करने के कुछ ही मिनटों बाद कॉन्ग्रेस पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। सिंधिया ने अपने द्वारा उठाई गई माँगों के लिए कॉन्ग्रेस नेतृत्व की निष्क्रियता से थक जाने के बाद अपना इस्तीफा देने की बात कही थी। सिंधिया ने सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी को लिखा था कि पार्टी अन्य बातों के अलावा मध्य प्रदेश में चुनावी घोषणा पत्र के अनुसार अपने वादों से मुकर रही है। हालाँकि, गाँधी परिवार के लिए मुद्दों को हरी झंडी दिखाने के बावजूद, कॉन्ग्रेस पार्टी नेतृत्व ने कथित तौर पर अपने पैर खींच लिए।

इसके लिए एक अन्य कारक यह था कि कॉन्ग्रेस के शीर्ष नेता मध्य प्रदेश में नेतृत्व की भूमिका के लिए सिंधिया की लगातार निंदा कर रहे थे। सिंधिया को कथित तौर पर राज्यसभा सीट के लिए कॉन्ग्रेस नेतृत्व द्वारा वादा किया गया था, लेकिन यह अमल में नहीं लाया गया। उनकी माँगों को दरकिनार कर दिया गया और उनके साथ बुरा व्यवहार किया गया, सिंधिया ने आखिरकार पार्टी से इस्तीफा दे दिया और भाजपा में शामिल हो गए। 

राहुल गाँधी के व्यवहार के कारण हिमंत बिस्वा सरमा ने छोड़ी कॉन्ग्रेस

कॉन्ग्रेस के पूर्व दिग्गज हिमंत बिस्वा सरमा, जो अब भाजपा सरकार में असम के मुख्यमंत्री हैं, ने कॉन्ग्रेस में प्रचलित वंशवादी संस्कृति का हवाला देते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। सितंबर 2015 में जब उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी से नाता तोड़ लिया तो सरमा ने कहा कि ‘परिवार-केंद्रित’ राजनीति और कॉन्ग्रेस में ‘लोकतंत्र की कमी’ ने उन्हें पद छोड़ने के लिए मजबूर किया।

दो साल बाद जब राहुल गाँधी ने ट्विटर पर अपने पालतू कुत्ते का एक वीडियो साझा किया तो हिमंत बिस्वा सरमा ने खुलासा किया कि कैसे गाँधी परिवार अपने पालतू जानवरों को बिस्कुट खिलाने में व्यस्त था, जबकि वह और असम के अन्य लोग महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करना चाहते थे।

वहीं, भ्रमित कॉन्ग्रेस समर्थकों का मानना है कि गाँधी परिवार का पार्टी पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है। अधिकांश असंतुष्ट कॉन्ग्रेसी नेताओं, विशेष रूप से जिन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है, ने गाँधी परिवार को उस परिस्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया है जिसमें आज कॉन्ग्रेस है। ऐसा लगता है कि कॉन्ग्रेस गर्त में गोते लगा रही है क्योंकि यह पंजाब, राजस्थान, महाराष्ट्र में संकट का सामना कर रही है। हालिया रिपोर्टों के अनुसार, झारखंड में कॉन्ग्रेस के पास एक और असंतुष्ट गठबंधन सहयोगी भी हो सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘5 अगस्त की तारीख बहुत विशेष’: PM मोदी ने हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन और 370 हटाने का किया जिक्र

हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन, आर्टिकल 370 हटाने का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने 5 अगस्त को बेहद खास बताया है।

आर्टिकल 370 के खात्मे का भारत स्वप्न, जिसे मोदी सरकार ने पूरा किया: जानिए इससे कितना बदला J&K और लद्दाख

आर्टिकल 370 हटाने के मोदी सरकार के ऐतिहासिक फैसले से न केवल जम्मू-कश्मीर में जमीन पर बड़े बदलाव आए हैं, बल्कि दशकों से उपेक्षित लद्दाख ने भी विकास के नए रास्ते देखे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,121FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe