Saturday, April 13, 2024
Homeराजनीतिराँची हिंसा में शामिल दंगाइयों के लिए उमड़ा कॉन्ग्रेस का प्यार: मंत्री उराँव बोले-...

राँची हिंसा में शामिल दंगाइयों के लिए उमड़ा कॉन्ग्रेस का प्यार: मंत्री उराँव बोले- तस्वीर नहीं लगानी चाहिए, MLA अंसारी ने माँगा ‘शहीद’ का दर्जा

वहीं, झारखंड के जामताड़ा से कॉन्ग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने मारे गए दंगाई के लिए शहीद के दर्जे की माँग, 50 लाख रुपए का मुआवजा और उसके परिजनों को सरकारी नौकरी देने की माँग की है। इसके साथ ही उन्होंने फायरिंग की मजिस्ट्रियल जाँच की भी माँग की है।

इस्लाम के पैगंबर मोहम्मद (Prophet Mohammad) के नाम पर देश की सड़कों पर उत्पात मचाने वाले दंगाइयों के लिए कॉन्ग्रेस नेताओं (Congress Leaders) का दर्द उभरकर सामने आ रहा है। झारखंड सरकार (Jharkhand Government) में मंत्री कॉन्ग्रेस के दो नेताओं ने दंगाइयों की तस्वीरों को लगाना गलत बताया। वहीं, एक अन्य मंत्री ने हिंसा के दौरान मारे गए एक दंगाई को शहीद का दर्जा देने की माँग की है।

राँची हिंसा को लेकर झारखंड के वित्त मंत्री रामेश्वर उराँव (Rameshwar Oraon) ने कहा कि हिंसा करने वाली भीड़ के सदस्यों की तस्वीरें प्रदर्शित करना मेरी निजी राय में गलत है। जनता की नजर में भले ही उन पर आरोप लगे हों, लेकिन कानून की नजर में वे अभी तक आरोपित नहीं हैं।

वहीं, झारखंड के जामताड़ा से कॉन्ग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने मारे गए दंगाई के लिए शहीद के दर्जे की माँग, 50 लाख रुपए का मुआवजा और उसके परिजनों को सरकारी नौकरी देने की माँग की है। इसके साथ ही उन्होंने फायरिंग की मजिस्ट्रियल जाँच की भी माँग की है।

इरफान ने कहा, “मैं मजिस्ट्रियल जाँच की माँग करता हूँ। मेरी माँग है कि सरकार मरने वालों को ‘शहीद’ का दर्जा दे। उन्हें 50 लाख रुपये अनुग्रह राशि के साथ-साथ उनके परिवारों को सरकारी नौकरी भी दी जानी चाहिए। मैं इसके लिए लड़ूँगा।”

इरफान अंसारी ने आगे कहा, “मैं घटना की निंदा करता हूँ। झारखंड एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है। यहाँ सब एक साथ रहते हैं। राँची की घटना जाँच का विषय है। मेरी माँग है कि इसकी जाँच हो और सरकार निष्पक्ष जाँच करे।”

बता दें कि पैगंबर के कथित अपमान को लेकर राँची में हिंसा को अंजाम देने वाली भीड़ को नियंत्रित करने के दौरान पुलिस की गोली से दो मुस्लिमों की मौत हो गई थी। जिन 2 दंगाइयों की मौत हुई है, उनके नाम मुदस्सिर उर्फ कैफी और मोहम्मद साहिल हैं। पुलिस को मजबूरन गोली तब चलानी पड़ी, जब उन पर पथराव होना शुरू हुआ और वाहनों को तोड़ा जाने लगा। दंगाइयों की तरफ से भी गोली चलने की बात कही गई है।

झारखंड में जामताड़ा से कॉन्ग्रेस विधायक इरफ़ान अंसारी (Congress MLA Irfan Ansari) ने दंगाइयों की बजाय पुलिस पर ही सवाल खड़े कर दिए। उन्होंने गोली चलाने पर पुलिस की निंदा करते हुए राँची SP सिटी पर कार्रवाई और मरने वालों के परिवार को 50 लाख रुपए तथा सरकारी नौकरी की माँग की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों को MSP की कानूनी गारंटी देने का कॉन्ग्रेसी वादा हवा-हवाई! वायर के इंटरव्यू में खुली पार्टी की पोल: घोषणा पत्र में जगह मिली,...

कॉन्ग्रेस के पास एमएसपी की गारंटी को लेकर न कोई योजना है और न ही उसके पास कोई आँकड़ा है, जबकि राहुल गाँधी गारंटी देकर बैठे हैं।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe