Tuesday, September 28, 2021
Homeराजनीतिबसपा से आए पूर्व MLA जितेंद्र सिंह बबलू को UP बीजेपी ने दिखाया बाहर...

बसपा से आए पूर्व MLA जितेंद्र सिंह बबलू को UP बीजेपी ने दिखाया बाहर का रास्ता, इस वजह से रीता बहुगुणा जोशी ने किया था विरोध

उन्हें बसपा सुप्रीमो और तत्कालीन यूपी की सीएम मायावती का करीबी सहयोगी माना जाता था। उनके भाई को मायावती ने एमएलसी बनाया था। तत्कालीन प्रदेश कॉन्ग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के घर को जलाने की कोशिश के बाद बबलू कई दिनों तक सुर्खियों में छाए रहे।

बीजेपी ने हाल ही में पार्टी में शामिल हुए बसपा के पूर्व नेता जितेंद्र सिंह बबलू को बाहर कर दिया है। बीजेपी नेता रीता बहुगुणा जोशी ने जितेंद्र सिंह बबलू के 4 अगस्त को पार्टी में शामिल होने पर खुलकर विरोध जताया था।

बबलू को पार्टी से निकाले जाने के बाद बीजेपी नेता रीता बहुगुणा जोशी ने समाचार एजेंसी ANI से कहा, “मैंने उनके (यूपी बीजेपी अध्यक्ष) पास अपना विरोध दर्ज कराया था। उनके द्वारा की गई कार्रवाई से मैं काफी संतुष्ट हूँ।” रिपोर्ट्स के मुताबिक, दर्जनों मुकदमे झेल रहे जितेंद्र सिंह बबलू मायावती सरकार में बीएसपी के दबंग विधायक थे। उन पर साल 2009 में रीता बहुगुणा का घर जलाने का आरोप है।

उन्हें बसपा सुप्रीमो और तत्कालीन यूपी की सीएम मायावती का करीबी सहयोगी माना जाता था। उनके भाई को मायावती ने एमएलसी बनाया था। तत्कालीन प्रदेश कॉन्ग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के घर को जलाने की कोशिश के बाद बबलू कई दिनों तक सुर्खियों में छाए रहे।

बबलू और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। इस मामले में उन्हें जेल भी जाना पड़ा था। रीता बहुगुणा अब बीजेपी में हैं। वह प्रयागराज से पार्टी की लोकसभा सांसद हैं। उन्होंने योगी सरकार में मंत्री के रूप में भी काम किया।

गौरतलब है कि 4 अगस्त को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में जितेंद्र सिंह बबलू को पार्टी ज्वॉइन कराई थी। उस दौरान रीता बहुगुणा ने बबलू के भाजपा में शामिल होने पर आपत्ति जताई थी। जोशी ने पार्टी नेतृत्व को बबलू के संबंध में शिकायत की थी। पिछले साल भी बबलू को पार्टी में लाने की कोशिश की गई थी, लेकिन पार्टी कार्यकर्ताओं के कड़े विरोध के बाद फैसला टाल दिया गया था।

बता दें कि बीजेपी की वरिष्ठ नेता जोशी ने अपनी शिकायत में कहा था, ”जितेंद्र सिंह बबलू के पार्टी में आने पर मुझे काफी दुख हुआ है। शायद पार्टी अध्यक्ष को बबलू की करतूतों के बारे में पता नहीं होगा। मैं जल्द से जल्द उनसे मिलकर इससे अवगत करवाउंगी। मैं उम्मीद करुँगी कि जल्द से जल्द उसे बाहर किया जाएगा।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe