Sunday, September 26, 2021
HomeराजनीतिJNU में वीर सावरकर मार्ग, 12 अन्य प्रसिद्ध हस्तियों के नाम भी शामिल: बोर्ड...

JNU में वीर सावरकर मार्ग, 12 अन्य प्रसिद्ध हस्तियों के नाम भी शामिल: बोर्ड देख बौखलाए वामपंथी

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में सुबनसर हॉस्टल के नजदीक एक सड़क का नाम बदलकर वीर सावरकर मार्ग कर दिया गया। इसे देखने के बाद जेएनयू के वामपंथी छात्र...

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में सुबनसर हॉस्टल के नजदीक एक सड़क का नाम बदलकर वीर सावरकर मार्ग कर दिया गया। इसे देखने के बाद जेएनयू के वामपंथी छात्र काफी नाराज हुए। वामपंथी छात्रों के संघ ने इस कदम को शर्मनाक कहा। साथ ही सावरकर के नाम पर मार्ग का नाम रखे जाने की निंदा की।

जेएनयूसू की अध्यक्ष आइशी घोष ने अपने ट्विटर हैंडल से इसकी एक तस्वीर शेयर की। इस तस्वीर में साफ दिखा कि सुबनसर हॉस्टल को जाने वाली सड़क को वीडी सावरकर मार्ग नाम दिया गया है।

आइशी घोष ने इसी पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए लिखा, “ये जेएनयू की विरासत के लिए शर्म की बात है कि इस आदमी का नाम इस विश्वविद्यालय में रखा गया है। सावरकर और उनके लोगों के लिए विश्वविद्यालय के पास न कभी जगह थी और न ही कभी होगी।”

जुलाई 2019 में जेएनयू कैंपस डेवलपमेंट कमिटी ने एग्जिक्यूटिव काउंसिल के समक्ष विभिन्न सड़कों के नामकरण के लिए कई स्वतंत्रता सेनानियों व प्रसिद्ध हस्तियों के नामों की सिफारिश की थी। वो थे:

  1. गुरु रविदास मार्ग (Guru Ravidas Marg)
  2. वीडी सावरकर मार्ग (V. D. Savarkar Marg)
  3. रानी अब्बक्का मार्ग (Rani Abbakka Marg)
  4. अब्दुल हमीद मार्ग (Abdul Hamid Marg)
  5. महर्षि वाल्मीकि मार्ग (Maharishi Valmiki Marg)
  6. गार्गी वाचक्नवी मार्ग (Gargi Vachaknavi Marg)
  7. रानी झाँसी मार्ग (Rani Jhansi Marg)
  8. महर्षि दयानंद सरस्वती मार्ग (Maharishi Dayananda Saraswati Marg)
  9. गोपीनाथ बोरदोलोई मार्ग (Gopinath Bordoloi Marg)
  10. वीर शिवाजी मार्ग (Veer Shivaji Marg)
  11. महाराणा प्रताप मार्ग (Maharana Pratap Marg)
  12. सरदार पटेल मार्ग (Sardar Patel Marg)
  13. लोकमान्य तिलक मार्ग (Lokmanya Tilak Marg)

13 नवंबर 2019 को समिति की उपरोक्त सिफारिशों को विचार और अनुमोदन के लिए आयोजित 283वीं एग्जिक्यूटिव काउंसिल की बैठक से पहले रखा गया था। ज्ञात हो कि काउंसिल ने इन सिफारिशों को मंजूरी दे दी है।

गौरतलब है कि वीर सावरकर को लेकर जेएनयू में मामला गर्माने से पहले दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) में भी हंगामा हुआ था। उस समय विनायक दामोदर सावरकर की मूर्ति लगाए जाने को लेकर मामले ने तूल पकड़ा था।

दरअसल, तब तत्कालीन छात्रसंघ अध्यक्ष शक्ति सिंह ने बगैर अनुमति लिए नॉर्थ कैंपस स्थित आर्ट्स फैकल्टी के गेट पर वीडी सावरकर, सुभाष चंद्र बोस और भगत सिंह की प्रतिमाएँ लगवा दी थीं। जिसके बाद कई छात्र संगठनों ने इस पर ऐतराज जताया था।

साथ ही कॉन्ग्रेस की छात्र इकाई NSUI ने तो सावरकर की मूर्ति पर काली स्याही तक पोत दी थी और उन्हें जूतों का हार भी पहनाया था। भारी हँगामे के बाद और एनएसयूआई की ऐसी हरकतों को देखते हुए आखिरकार मूर्तियों को वहाँ से हटाना पड़ा था।

उल्लेखनीय है कि वीर सावरकर भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे, जिन्हें अंग्रेजों ने कालापानी की कठिन सज़ा दी थी। वह हिंदुत्व विचारक और एक प्रखर लेखक भी थे। वह कॉन्ग्रेस के आलोचक थे, जिन्होंने हिन्दू राष्ट्र की संकल्पना पर जोर दिया। उनके सम्मान में पोर्ट ब्लेयर एयरपोर्ट का नाम 2002 में ‘वीर सावरकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट’ रखा गया था। साथ ही इंदिरा गाँधी ने भी वीर सावरकर को अपने एक पत्र में भारत का वीर सपूत कहा था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़कियों के कपड़े कैंची से काटे, राखी-गहने-चप्पल सब उतरवाए: राजस्थान में कुछ इस तरह हो रही REET की परीक्षा, रोते रहे अभ्यर्थी

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET 2021) की परीक्षा के दौरान सेंटरों पर लड़कियों के फुल बाजू के कपड़ों को कैंची से काट डालने का मामला सामने आया है।

11वीं से 14वीं शताब्दी की 157 मूर्तियाँ-कलाकृतियाँ, चोर ले गए थे अमेरिका… PM मोदी वापस लेकर लौटे

अमेरिका द्वारा भारत को सौंपी गई कलाकृतियों में सांस्कृतिक पुरावशेष, हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म से संबंधित मूर्तियाँ शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,458FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe