Saturday, July 24, 2021
Homeराजनीतिटिकट नहीं मिला.. निराश क्यों? बिहार चुनाव में वामदल CPI के स्टार प्रचारक बनेंगे...

टिकट नहीं मिला.. निराश क्यों? बिहार चुनाव में वामदल CPI के स्टार प्रचारक बनेंगे कन्हैया कुमार-आइशी घोष

जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार और वर्तमान अध्यक्ष आइसी घोष भी बिहार चुनाव में प्रचार करने जा रहे हैं। ऐसा कयास भी लगाया जा रहा है कि राजद नेता तेजस्वी यादव और कन्हैया कुमार चुनाव प्रचार के लिए एक मंच पर साथ भी दिख सकते हैं।

बिहार विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है। वैसे-वैसे सूबे में सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। सभी राजनीतिक पार्टियों ने चुनाव के लिए अपनी कमर कस ली है और अपने पार्टी के स्टार प्रचारकों को मैदान में उतारना शुरू कर दिया है। जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार भी बिहार चुनाव में प्रचार करते हुए नजर आएँगे। जानकारी के मुताबिक भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) ने साफ कर दिया है कि कन्हैया कुमार महागठबंधन के चुनावी अभियान में शरीक होंगे।

बिहार के चुनावी मैदान में इस बार छात्र नेता भी अपना रण कौशल दिखाने वाले हैं। प्राप्त जानकारी के मुताबिक जेएनयू और दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र नेताओं बिहार चुनाव में सक्रिय भूमिका निभाने जा रहे हैं। खबरों के अनुसार जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार और वर्तमान अध्यक्ष आइशी घोष भी बिहार चुनाव में प्रचार करने जा रहे हैं। ऐसा कयास भी लगाया जा रहा है कि राजद नेता तेजस्वी यादव और कन्हैया कुमार चुनाव प्रचार के लिए एक मंच पर साथ भी दिख सकते हैं।

लोकसभा चुनाव के दौरान बिहार से सबसे ज्यादा एक बेगूसराय लोकसभा सीट की चर्चा हुई थी। मीडिया का फोकस भी इसी सीट पर था। यहाँ से सीपीआई ने अपने स्टार नेता कन्हैया कुमार को उम्मीदवार बनाया था। कन्हैया मुकाबला बेगूसराय में बीजेपी के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह से थे। कन्हैया को जीत दिलाने के जेएनयू के उनके साथी और गुजरात से विधायक जिग्नेश मेवानी समेत तमाम दिग्गज नेताओं ने ताकत झोंक दी थी। लेकिन नतीजे उनके पक्ष में नहीं आए।

2019 में जिस तरीके से कन्हैया कुमार ने एंट्री की थी। उससे लग रहा था कि वह बिहार की राजनीति में एक्टिव रहेंगे। जेएनयू विवाद में नाम सामने आने के बाद जब पहली बार कन्हैया बिहार आए थे, तब वह आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से आर्शीवाद लेने उनके घर पर गए थे। लेकिन लोकसभा चुनाव में कन्हैया जब मैदान में उतरे, तो आरजेडी ने उनका साथ नहीं दिया।

इस बार लोकसभा चुनाव में कन्हैया की पार्टी का आरजेडी के साथ गठबंधन है। आरजेडी ने सीपीआई को 6 सीट दिए हैं। सीपीआई ने अपने सभी सीटों पर उम्मीदवार उतार दिए हैं।  लेकिन, इस सूची में भाकपा नेता कन्हैया कुमार का नाम नहीं है। सीपीआई उम्मीदवारों की सूची जारी होने के बाद यह साफ हो गया है कि कन्हैया कुमार बिहार चुनाव नहीं लड़ेंगे

बेगूसराय से लोकसभा चुनाव हार चुके कन्हैया के बछवाड़ा से विधानसभा चुनाव लड़ने की अटकलें थी। 2020 के शुरू से ही कन्हैया कुमार बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर खासे एक्टिव रहे और अक्सर बताते रहे कि चुनावी मुद्दा क्या होने वाला है। कन्हैया कुमार CAA, NPR और NRC के विरोध में बिहार दौरे पर निकले थे और कई जगह उनको लोगों का विरोध भी झेलना पड़ा था।

एक-दो जगह तो काफिले पर लोगों के हमले के बाद पुलिस को उन्हें सुरक्षित निकालने के लिए मशक्कत करनी पड़ी थी। कुछ जगहों पर तो जूते-चप्पल, अंडे, मोबिल और पत्थर वगैरह भी चले थे। कुछ जगहों पर ‘कॉमरेड कन्हैया मुर्दाबाद’ के नारे भी लगाए गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हंगामा 2 देखिए, राज की वजह से नुकसान न हो: फैन्स से शिल्पा शेट्टी की गुजारिश, घर पहुँच मुंबई पुलिस ने दर्ज किया बयान

राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के केस में मुंबई पुलिस के समक्ष आज बयान दर्ज करवाने के बीच शिल्पा शेट्टी ने अपनी फिल्म हंगामा 2 के लिए अपील की।

‘CM अमरिंदर सिंह ने किसानों को संभाला, दिल्ली भेजा’: जाखड़ के बयान से उठे सवाल, सिद्धू से पहले थे पंजाब कॉन्ग्रेस के कैप्टन

जाखड़ की टिप्पणी के बाद यह आशय निकाला जा रहा है कि कॉन्ग्रेस ने मान लिया है कि उसी ने किसानों को विरोध के लिए दिल्ली की सीमाओं पर भेजा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,931FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe