Saturday, September 25, 2021
Homeराजनीतिउमर ने कबाब से तो महबूबा ने चिकन सूप से की तौबा: नजरबंदी में...

उमर ने कबाब से तो महबूबा ने चिकन सूप से की तौबा: नजरबंदी में कश्मीरी नेताओं का बदला जायका

बताया जाता है कि उमर अब्दुल्ला को कबाब बेहद पसंद है। वहीं महबूबा मुफ़्ती को चिकन, चिकन सूप और वाजवान में रिसता व गोश्तबा के अलावा चाइनीज़ खाना पसंद रहा है। लेकिन, एक महीने से दोनों ने मासांहार चखा तक नहीं है।

अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को निरस्त किए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में एहतियातन नजरबंद किए नेताओं को रिहा करने का क्रम जारी है। शुक्रवार को चार नेता रिहा किए गए। इनमें नेशनल कॉन्फ्रेंस के अशफ़ाक़ जब्बार और गुलाम नबी, पीडीपी के जहूर मीर और यासिर रेशी तथा कॉन्ग्रेस के बशीर मीर शामिल हैं। सरकार ने कहा है कि धीरे-धीरे सभी नेता रिहा कर दिए जाएँगे।

24 नेता अभी भी नज़रबंद हैं। इनमें पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती भी शामिल हैं। इनके अलावा, सज्जाद लोन, नईम अख्तर और शाह फैसल सहित अन्य नेता श्रीनगर के एमएलए हॉस्टल में नज़रबंद हैं। मीडिया की खबरों की मानें तो नजरबंदी ने नेताओं के जीवनशैली को काफी हद तक बदल दिया है। पूर्व मुख्यमंत्रियों नेशनल कॉन्फ्रेन्स के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला और PDP अध्यक्ष महबूबा मुफ़्ती का ज़ायका तक बदल गया है। उमर अब्दुल्ला न अब कबाब की इच्छा जताते हैं और न महबूबा को चिकन सूप या गोश्ताबा और रिसता चाहिए।

दैनिक जागरण की ख़बर के अनुसार, उमर अब्दुल्ला को कबाब बेहद पसंद है। वहीं महबूबा मुफ़्ती को चिकन, चिकन सूप और वाजवान में रिसता व गोश्तबा के अलावा चाइनीज़ खाना पसंद है। ख़बर के अनुसार दोनों नेताओं को जब हिरासत में लिया गया था, तब उन्हें कई दिनों तक उनकी इच्छानुसार मांसाहारी खाना दिया गया था। दरअसल, जेल मैन्युअल के मुताबिक़ शाकाहारी और मांसाहारी दोनो तरह का खाना क्रमानुसार उपलब्ध कराया जाता है। लेकिन, पिछले एक महीने से दोनों नेता मांसाहार को छू तक नहीं रहे।

दोनों नेताओं की सुरक्षा में तैनात अधिकारियों ने बताया कि उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती की खुराक में साग, दाल, सब्जी, चपाती और चावल शामिल है। इसके अलावा, वो फलों का सेवन भी करते हैं। उन्होंने बताया कि दोनों नेताओं को जहाँ रखा गया है वहाँ खाना पकाने की अनुमति नहीं है। लेकिन, चाय के लिए प्रावधान किया गया है। दोनों नेताओं को जब चाय और हल्का नाश्ता लेने की इच्छा होती है तो संबंधित कर्मियों द्वारा उनके लिए चाय व हल्का नाश्ता दिया जाता है। यह सुविधा उनसे मिलने-जुलने वाले लोगों के लिए भी है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि इन नेताओं से मिलने वाला कोई निकट संबंधी हो तो वो खाना भी ला सकता है, लेकिन उस खाने की जाँच अनिवार्य होती है।

महबूबा मुफ़्ती का अजीत डोभाल के कश्मीर दौरे पर कटाक्ष: पिछली बार बिरयानी, क्या इस बार हलीम?

J&K: बाप-दादा की करनी पर लड़े उमर अब्दुल्ला-महबूबा मुफ्ती, अब अलग रखे गए

370 तो गियो लेकिन J&K में तिरंगा सुरक्षित हाथों में, आँखें फाड़ कर देखो महबूबा कंधे की ज़रूरत किसे है

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ममता बनर्जी के खिलाफ खड़ी BJP उम्मीदवार प्रियंका टिबरेवाल पर बंगाल पुलिस ने किया ‘शारीरिक हमला’: पार्टी ने EC को लिखा पत्र

बंगाल बीजेपी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि कोलकाता पुलिस के डीसीपी साउथ ने प्रियंका टिबरेवाल पर ‘हमला और छेड़छाड़’ की।

अलीगढ़ में मौलवी ने मस्जिद में किया 12 साल के बच्चे का रेप, कुरान पढ़ने जाया करता था छात्र: यूपी पुलिस ने भेजा जेल

अलीगढ़ के एक मस्जिद में एक नाबालिग के यौन शोषण का मामला सामने आया है। मौलवी ने ही इस वारदात को अंजाम दिया। बच्चा कुरानशरीफ पढ़ने गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,162FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe