Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीतिनेहरू-गाँधी परिवार के नाम 450 प्रोजेक्ट्स, लेकिन 'नरेंद्र मोदी स्टेडियम' पर लिबरल्स का 'रवीश...

नेहरू-गाँधी परिवार के नाम 450 प्रोजेक्ट्स, लेकिन ‘नरेंद्र मोदी स्टेडियम’ पर लिबरल्स का ‘रवीश रोना’

उस कॉन्ग्रेस के समर्थक इसका मजाक बना रहे हैं, जिनके नेहरू-गाँधी खानदान के लोगों पर 450 प्रोजेक्ट, स्ट्रक्चर, सड़कें, इमारतें, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के नाम रखे गए हैं।

गुजरात में नरेंद्र मोदी के नाम पर स्टेडियम के उद्घाटन के साथ ही लिबरल गिरोह का रोना-धोना शुरू हो गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मोटेरा के सरदार वल्लवभाई पटेल स्पोर्ट्स एन्क्लेव में इस दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम का उद्घाटन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में बुधवार (फरवरी 24, 2021) को किया। लिबरल गिरोह ने इस दौरान कई गलत अफवाहें भी फैलाईं और जनता को भ्रमित करने का प्रयास किया।

कॉन्ग्रेस के आईटी सेल से जुड़े लोगों ने झूठा दावा किया कि सरदार पटेल के नाम पर बने स्टेडियम का नाम बदल कर नरेंद्र मोदी स्टेडियम कर दिया गया है और कॉन्ग्रेस सत्ता में वापस आते ही इसका नाम वापस बदल देगी। आबशार नामक व्यक्ति ने दावा किया कि उनकी पार्टी एक महान कॉन्ग्रेस नेता का अपमान बर्दाश्त नहीं करेगी। सच्चाई ये है कि पूरे एन्क्लेव का नाम सरदार पटेल के नाम पर ही है, जिसमें ये स्टेडियम सहित कई खेल फैसिलिटीज हैं।

उन्हीं में से एक स्टेडियम का नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर है। ये स्टेडियम महज उस स्पोर्टिंग कॉम्प्लेक्स का एक हिस्सा है। स्वीडिश ‘प्रोफेसर’ और फेक न्यूज़ के लिए कुख्यात अशोक स्वाइन ने कहा कि हिटलर ने भी एक फुटबॉल स्टेडियम का नाम अपने नाम पर रखा था। स्वाति चतुर्वेदी ने दावा किया कि जब मायावती ने अपनी प्रतिमाएँ बनवाई थीं तो ‘भक्तों’ ने उन पर हमला किया था। प्रदेश कॉन्ग्रेस अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने भी झूठा दावा किया

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “दुनिया के सबसे बड़े अहमदाबाद स्थित सरदार पटेल क्रिकेट स्टेडियम का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम रखा गया है, क्या यह सरदार पटेल का अपमान नहीं हैं? सरदार पटेल के नाम पर मत माँगने वाली भाजपा अब सरदार साहब का अपमान कर रही हैं। गुजरात की जनता सरदार पटेल का अपमान नहीं सहेगी।” गौरव पाँधी ने इसे पीएम मोदी का अहंकार बताया। संजुक्ता बसु ने भी इसे दोहराते हुए भारत को दुर्भाग्यशाली देश बताया।

सबसे बड़ी बात तो ये है कि उस कॉन्ग्रेस के समर्थक इसका मजाक बना रहे हैं, जिनके नेहरू-गाँधी खानदान के लोगों पर 450 प्रोजेक्ट, स्ट्रक्चर, सड़कें, इमारतें, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के नाम रखे गए हैं। 2013 में एक RTI से खुलासा हुआ था कि 12 केंद्रीय और 52 राज्य योजनाओं, 28 खेल टूर्नामेंट/ट्रॉफीज, 19 स्टेडियम, 5 एयरपोर्ट/पोर्ट्स, 15 पार्क्स, 39 अस्पतालों और 74 सड़कों के नाम नेहरू, इंदिरा और राजीव के नाम पर हैं।

नए स्टेडियम को दुनिया के सबसे बड़े और सबसे हाइटेक स्टेडियम के तौर पर विकसित किया गया है। इस स्टेडियम पर क्रिकेट मुकाबले की शुरुआत भारत-इंग्लैंड पिंक बॉल टेस्ट से हो रही है। ये दोनों टीमों के बीच चल रही टेस्ट सीरीज का तीसरा मैच चल रहा है। अमित शाह ने कहा कि हमने यहाँ इस तरह की सुविधा कर दी है कि 6 महीने में ओलंपिक, एशियाड और कॉमनवेल्थ जैसे खेलों का आयोजन कर सकता है और अहमदाबाद को अब स्पोर्ट्स सिटी के नाम से जाना जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टोक्यो ओलंपिक: फाइनल में खूब लड़े रवि दहिया, भारत की चाँदी

टोक्यो ओलंपिक 2020 में पुरुषों की 57 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती में रेसलर रवि दहिया ने भारत को सिल्वर मैडल दिलाया है।

जब मनमोहन सिंह PM थे, कॉन्ग्रेस+ की सरकार थी… तब हॉकी टीम के खिलाड़ियों को जूते तक नसीब नहीं थे

एक दशक पहले जब मनमोहन सिंह के नेतृत्व में कॉन्ग्रेस नीत यूपीए की सरकार चल रही थी, तब हॉकी टीम के कप्तान ने बताया था कि खिलाड़ियों को जूते भी नसीब नहीं हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,091FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe