Tuesday, May 17, 2022
HomeराजनीतिSP-BSP रैली में घुसा सांड, मायावती ने कहा BJP ने ही भेजा होगा

SP-BSP रैली में घुसा सांड, मायावती ने कहा BJP ने ही भेजा होगा

"अब तो बीजेपी के जो आवारा जानवर हैं, हमारी चुनावी जनसभा में उनको छोड़े जा रहे हैं। कल कन्नौज में हमारी जनसभा थी वहाँ हमारे आने से पहले बीजेपी के लोगों ने ऐसा लगता है शरारत के तहत वहाँ पर आवारा जानवरों को भेजा।"

सपा-बसपा गठबंधन जबसे हुआ है, मायावती और अखिलेश यादव को आए दिन किसी न किसी मुश्किल में पड़ते देखा जा सकता है। लेकिन हालिया परेशानी किसी इंसान को लेकर नहीं, बल्कि एक ‘मनचले’ सांड के कारण पैदा हुई है।

इन दिनों उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक सांड घुस आया है, जो चर्चा और हंसी-मजाक का विषय बन गया है।
अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव के चुनाव क्षेत्र कन्नौज में बृहस्पतिवार (अप्रैल 25, 2019) को आयोजित सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन की रैली में एक सांड ने जमकर आतंक मचाया था। इस पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी पर कटाक्ष भी किया है। कन्नौज में अखिलेश यादव और मायावती, दोनों चुनाव प्रचार के लिए आने वाले थे। लेकिन सांड के खलल डालने से, उनकी रैली आधे घंटे लेट में शुरू हुई।

रैली के दौरान एक सांड के आ जाने से पूरी रैली में आफरा तफरी मच गई थी। सांड ने इस कदर आतंक मचाया कि अखिलेश और मायावती के हेलीकॉप्टर भी नीचे नहीं उतर पाए। बताया जा रहा है कि पुलिस के साथ कार्यकर्ता और फायर ब्रिगेड की आधे घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद सांड पर काबू पाया जा सका। इसके बाद उनकी रैली शुरू हो पाई।

सांड के आने और आतंक मचाने की घटना को मायावती ने बीजेपी की साजिश बताया। इस प्रकरण को लेकर शुक्रवार (अप्रैल 26, 2019) को उरई की एक जनसभा में मायावती ने बीजेपी पर वार किया। उन्होंने कहा, “अब तो बीजेपी के जो आवारा जानवर हैं, हमारी चुनावी जनसभा में उनको छोड़े जा रहे हैं। कल कन्नौज में हमारी जनसभा थी वहाँ हमारे आने से पहले बीजेपी के लोगों ने ऐसा लगता है शरारत के तहत वहाँ पर आवारा जानवरों को भेजा।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मथुरा के शाही ईदगाह में साक्ष्य मिटाए जाने की आशंका, मस्जिद को तुरंत सील करने के लिए नई याचिका दायर: ज्ञानवापी का दिया हवाला

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे में शिवलिंग मिलने के बाद अब मथुरा के शाही ईदगाह मस्जिद को लेकर नई याचिका दायर हुई है, जिसमें इसे सील करने की माँग की गई।

हनुमान मूर्ति से लेकर गणेश मंदिर और परिक्रमा पथ से लेकर पुस्ती तक: 26 साल पहले भी हुआ था एक ज्ञानवापी सर्वे, जानें क्या-क्या...

ज्ञानवापी में पहली बार सर्वे नहीं हुआ है। इससे पहले साल 1996 में भी एक दिन का सर्वे हुआ था जिसमें सामने आया था कि विवादित ढाँचे के भीतर मंदिरों के चिह्न हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,366FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe