Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीति'स्वतंत्र भारत का पहला आतंकवादी एक हिन्दू था': कमल हासन का वाहियात बयान

‘स्वतंत्र भारत का पहला आतंकवादी एक हिन्दू था’: कमल हासन का वाहियात बयान

कमल हासन ने कहा कि वो इसलिए ये नहीं कह रहे हैं, क्योंकि ये मुस्लिम बहुल इलाका है, बल्कि वो ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि महात्मा गाँधी की प्रतिमा सामने है।

कॉन्ग्रेस शासनकाल में उछाला गया शब्द ‘हिंदू आतंकवाद’ इस लोकसभा चुनाव में अहम मुद्दा बन गया है। इसको लेकर सियासत काफी गर्म रही है। जब से भाजपा ने मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से मालेगाँव ब्लास्ट की आरोपित साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को उतारा है, तब से इस मुद्दे ने और भी ज्यादा तूल पकड़ लिया। विपक्षी पार्टियाँ लगातार इसका इस्तेमाल वोट बटोरने के लिए कर रही हैं। इसी बीच नेता से अभिनेता बने कमल हासन ने हिंदू आतंकवाद को लेकर एक विवादित बयान दिया है। दरअसल, कमल हासन ने तमिलनाडु में अपनी पार्टी मक्कल निधि मय्यम के उम्मीदवार के लिए चुनाव प्रचार के दौरान कहा कि स्वतंत्र भारत का पहला आतंकवादी एक हिंदू था और उसका नाम नाथूराम गोडसे था। उन्होंने कहा कि वो इसलिए ये नहीं कह रहे हैं, क्योंकि ये मुस्लिम बहुल इलाका है, बल्कि वो ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि महात्मा गाँधी की प्रतिमा सामने है।

हिंदू आतंकवाद के नाम पर वोटबैंक की राजनीति करने को लेकर पीएम मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, वित्त मंत्री अरुण जेटली समेत पूरी भाजपा कॉन्ग्रेस को जमकर घेरती रही है। पीएम मोदी ने रविवार (मई 12, 2019) को भी मध्य प्रदेश के खंडवा में कॉन्ग्रेस पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि कॉन्ग्रेस ने हमारी धार्मिक विरासत को बदनाम करने के लिए ‘हिंदू आतंकवाद’ की साजिश रची। इससे पहले भी उन्होंने एक रैली में कहा था कि वोट-बैंक की राजनीति के लिए एनसीपी और कॉन्ग्रेस किसी भी हद तक जा सकती हैं। इस देश के करोड़ों लोगों पर हिंदू आंतकवाद का दाग लगाने का प्रयास कॉन्ग्रेस ने ही किया है।

अमित शाह ने भी कॉन्ग्रेस को इसी मुद्दे पर घेरा था। यूपी के नगीना में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए शाह ने कहा था, “समझौता ब्लास्ट को हिन्दू आतंकवाद बोलकर कॉन्ग्रेस ने अपने वोट बैंक के लिए पूरी दुनिया में शांति और सौहार्द के प्रतीक हिन्दू धर्म को बदनाम किया। आतंकवाद को हिंदू धर्म के साथ जोड़ने का पाप कॉन्ग्रेस ने किया। राहुल बाबा, आपको पता नहीं है हम तो चींटियों को भी आटा खिलाने वाले लोग हैं। कॉन्ग्रेस ने इसके साथ ही पाक प्रेरित लश्कर-ए-तैयबा के ब्लास्ट करने वाले असली गुनहगारों को छोड़कर देश की सुरक्षा के साथ भी खिलवाड़ किया।” अरुण जेटली ने भी कहा था कि कॉन्ग्रेस द्वारा इस शब्द का प्रयोग केवल वोटों के लिए किया गया था। उन्होंने कहा कि केवल राजनीतिक लाभ के लिए हिंदू समाज को कलंकित किया गया। इसके साथ ही उन्होंने इसके लिए पूरे हिन्दू समाज से कॉन्ग्रेस को माफी माँगने की भी बात कही थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe