‘…अगर कॉन्ग्रेस राज्य में सभी सीटें नहीं जीत पाती है, तो सीएम को इस्तीफा दे देना चाहिए’

सिद्धू ने बठिंडा में कॉन्ग्रेस उम्मीदवार अमरिंदर सिंह राजा के समर्थन में प्रचार करते हुए कहा था कि यदि 2015 की बेअदबी की घटनाओं के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो वह इस्तीफा दे देंगे।

पंजाब में मतदान के दिन ही कॉन्ग्रेस के खेमे में भूचाल सा आ गया। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कल (मई 19, 2019) अपने कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पर हमला बोला। अमरिंदर सिंह ने कहा कि सिद्धू उन्हें हटाकर मुख्‍यमंत्री बनना चाहते हैं। जिसके बाद अब सिद्धू की पत्नी नवजोर कौर का बयान सामने आया है। इसमें उन्होंने कैप्टन पर निशाना साधा है। उन्होंने अमृतसर में वोट डालने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि अगर कॉन्ग्रेस राज्य की सभी सीटें नहीं जीत पाती है, तो सीएम को इस्तीफा दे देना चाहिए।

कल अमरिंदर सिंह ने सिद्धू द्वारा चुनाव प्रचार के अंतिम दिन बठिंडा में दिए गए विद्रोही बयान की तरफ इशारा करते हुए कहा था कि मतदान से ठीक पहले उनकी गलत टिप्पणी से कॉन्ग्रेस को नुकसान होगा। इसके साथ ही कैप्‍टन ने सिद्धू के खिलाफ बड़ी कार्रवाई के संकेत भी दिए थे। उन्होंने कहा कि अगर वह सच्चे कॉन्ग्रेसी होते, तो अपनी शिकायत रखने के लिए सही समय का चयन करते, न कि मतदान से ठीक पहले इस तरह का बयान देते। पार्टी में अलग-अलग विचार के लोग होते हैं, लेकिन सिद्धू ने जो तरीका अपनाया वह गलत है। वह मुख्‍यमंत्री बनने के लिए इतने उतावले हैं कि उनको समय और मौके का भी ध्‍यान नहीं रहता।

हालाँकि अमरिंदर और सिद्धू के बीच अंदरूनी खींचतान काफी दिनों से जारी है, मगर सीएम अमरिंदर के बयान के बाद दोनों के बीच की नाराजगी अब खुल कर सबके सामने आ गई है। गौरतलब है कि सिद्धू ने 7 मई को बठिंडा में कॉन्ग्रेस उम्मीदवार अमरिंदर सिंह राजा के समर्थन में प्रचार करते हुए कहा था कि यदि 2015 की बेअदबी की घटनाओं के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो वह इस्तीफा दे देंगे। इस दौरान उन्होंने सवाल भी किया था कि 2015 में बेअदबी और पुलिस गोलीबारी की घटनाओं के सिलसिले में बादल परिवार के जिम्मेदार सदस्यों के खिलाफ प्राथमिकी क्यों नही दर्ज की गई?

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

SC और अयोध्या मामला
"1985 में राम जन्मभूमि न्यास बना और 1989 में केस दाखिल किया गया। इसके बाद सोची समझी नीति के तहत कार सेवकों का आंदोलन चला। विश्व हिंदू परिषद ने माहौल बनाया जिसके कारण 1992 में बाबरी मस्जिद गिरा दी गई।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,623फैंसलाइक करें
15,413फॉलोवर्सफॉलो करें
98,200सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: