Thursday, September 23, 2021
Homeराजनीति'मोदी में भगवान दिखता है': प्रशांत किशोर ने लुटियंस मीडिया को बताया बंगाल में...

‘मोदी में भगवान दिखता है’: प्रशांत किशोर ने लुटियंस मीडिया को बताया बंगाल में TMC के खिलाफ कितना गुस्सा

"अगर वोट है तो मोदी के नाम पर है। वोट है तो हिंदू होने के नाम पर। ध्रुवीकरण, मोदी, हिंदीभाषी, ये फैक्टर्स हैं। शुभेंदु चले गए, प्रशांत आ गए, इसका कोई फैक्टर नहीं है। वो यहाँ मुद्दा है ही नहीं। मोदी यहाँ पॉपुलर है। हिंदीभाषियों का एक करोड़ से ज्यादा वोट है। दलित यहाँ पर 27% है और वो पूरी तरह से बीजेपी के साथ खड़ा है।"

पश्चिम बंगाल में चौथे चरण के मतदान के बीच कुछ ऑडियो क्लिप वायरल हुए हैं। ये क्लिप लुटियंस मीडिया और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (PK) के बीच बातचीत के हैं। प्रशांत किशोर इन चुनावों में तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के लिए रणनीति तैयार कर रहे हैं और कई दिग्गज नेता उनका विरोध करते हुए पार्टी छोड़ चुके हैं।

मैसेजिंग एप क्लबहाउस की इस बातचीत में लुटियंस मीडिया के कई चेहरे शामिल हैं। मसलन, रवीश कुमार, साक्षी जोशी, आरफा खानम शेरवानी, रोहिणी सिंह, स्वाति चतुर्वेदी वगैरह। यानी मोदी और बीजेपी से घृणा करने वाला पूरा कुनबा इसमें शामिल है।

इस बातचीत में PK बता रहे हैं कि तृणमूल कॉन्ग्रेस के आंतरिक सर्वेक्षणों में भाजपा जीत रही है। प्रशांत किशोर से पूछा जाता है कि मोदी पश्चिम बंगाल में इतने लोकप्रिय क्यों हैं और क्या उनके खिलाफ एंटी-इनकंबेंसी नहीं है?

प्रशांत किशोर ने इसका जवाब देते हुए कहा, “मोदी के खिलाफ एंटी-इनकंबेंसी नहीं है। मोदी का पूरे देश में एक कल्ट बन गया है। 10 से 25 प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जिनको मोदी में भगवान दिखता है। चाहे वो सही दिखे या गलत, वो एक अलग बहस का मुद्दा हो सकता है। यहाँ का हिंदी भाषी मोदी का कोर बेस सपोर्ट है और मोदी काफी पॉपुलर हैं। अगर आप इधर सर्वे कर कर रहे हैं तो मोदी-ममता समान रूप से पॉपुलर हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “यहाँ पर मोदी इसलिए भी पॉपुलर है, क्योंकि बंगाल ने बीजेपी का स्वाद अभी चखा नहीं, तो वो एक फैक्टर है कि जो लोगों ने 30-35 सालों से नहीं देखा उसे ऐसा लग रहा है कि बीजेपी एक ऐसा चीज है, जो कुछ ऐसा कर देगी, जो हमलोगों को पहले नहीं मिला है। लोग उस लड्डू को टेस्ट करना चाहते हैं। मोदी का भाषण सुनने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। मोदी पॉपुलर है। इसमें कोई दोमत नहीं है। तृणमूल के खिलाफ गुस्सा है। वो एक फैक्टर है। ध्रुवीकरण एक फैक्टर है और मोदी की पॉपुलैरिटी भी एक फैक्टर है। ये तीनों चीज बेसिक चीजें हैं।”

आगे प्रशांत किशोर ने कहा, “अगर वोट है तो मोदी के नाम पर है। वोट है तो हिंदू होने के नाम पर। ध्रुवीकरण, मोदी, हिंदीभाषी, ये फैक्टर्स हैं। शुभेंदु चले गए, प्रशांत आ गए, इसका कोई फैक्टर नहीं है। वो यहाँ मुद्दा है ही नहीं। मोदी यहाँ पॉपुलर है। हिंदीभाषियों का एक करोड़ से ज्यादा वोट है। दलित यहाँ पर 27% है और वो पूरी तरह से बीजेपी के साथ खड़ा है।”

वहीं मतुआ समुदाय के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उनका सारा वोट बीजेपी को जा रहा है। उनका मानना था कि मतुआ का 75% वोट बीजेपी को जाएगा, जबकि 25% वोट तृणमूल कॉन्ग्रेस को। उन्होंने माना कि उन लोगों के सर्वे में भी यही बात सामने आ रही है कि बीजेपी की सरकार बनेगी। ऐसा इसलिए कि बीजेपी को वोट करने वालों के अलावा लेफ्ट के लोगों का भी मानना है कि बीजेपी की सरकार बन रही है।

उन्होंने कहा पहले माना जाता था कि बीजेपी के ग्राउंड पर वर्कर नहीं है। लेकिन ऐसा नहीं है, बीजेपी के ग्राउंड पर बहुत वर्कर हैं। पश्चिम बंगाल के एक-दो जिलों को छोड़ दें तो ऐसा कोई भी क्षेत्र नहीं है, जहाँ बीजेपी का मजबूत कैडर नहीं है।

ममता बनर्जी के चुनावी रणनीतिकार यह बात भी कह रहे थे कि वाम दलों, कॉन्ग्रेस और टीएमसी ने हालात के हिसाब से पिछले 20 सालों में मुस्लिम तुष्टिकरण किया है। उन्होंने कहा कि इसे लेकर लोगों में बहुत ही गुस्सा है।

प्रशांत किशोर ने वायरल हो रहे इस चैट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वो इस बात से खुश हैं कि बीजेपी उनके क्लब हाउस चैट को अपने नेताओं के शब्दों से अधिक गंभीरता से ले रही है।

वहीं हुगली से भाजपा नेता लॉकेट चटर्जी ने कहा, “प्रशांत किशोर भी जानते हैं कि पीएम मोदी सर्वश्रेष्ठ हैं और उनके नेतृत्व में ‘सोनार बांग्ला’ बनाई जाएगी। लेकिन लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए वह टीएमसी से जुड़े।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,821FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe