Friday, May 20, 2022
Homeराजनीतिबाप तक पहुँची MP की टाइगर पॉलिटिक्स: दिग्विजय सिंह पर शिवराज के मंत्री ने...

बाप तक पहुँची MP की टाइगर पॉलिटिक्स: दिग्विजय सिंह पर शिवराज के मंत्री ने साधा निशाना

राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा था कि टाइगर जिंदा है। सिंधिया का ये बयान काफी वायरल हुआ था। इस पर दिग्विजय सिंह ने पलटवार करते हुए कहा था कि हम और माधवराव सिंधिया साथ में शेर का शिकार करते थे।

मध्य प्रदेश में ‘टाइगर’ पॉलिटिक्स जारी है। शिवराज सिंह चौहान के मंत्री अरविंद भदौरिया ने कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर पलटवार करते हुए विवादित बयान दिया है।

मध्य प्रदेश के सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया ने दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए कहा, “मैं बेंगलुरु में था, तब दिग्विजय सिंह मेरे भाई पर केस रजिस्टर्ड करके पुलिस से उठवा रहे थे, तेरे बाप में हिम्मत है। मैं चंबल की माटी में पैदा हुआ हूँ, किसी से डरता नहीं हूँ। दिग्विजय सिंह कहते हैं कि 2-2 टाइगर मारेंगे, तेरे बाप ने भी कभी टाइगर नहीं मारे होंगे।”

उनके इस बयान वीडियो वायरल हो रहा है। दरअसल, भदौरिया मंत्री बनने के बाद पहली बार भिंड पहुँचे थे। जिले की सीमा में प्रवेश करते ही गर्मजोशी के साथ कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। स्वागत का सिलसिला मालनपुर से शुरू होकर भिंड तक चला। भिंड बस स्टैंड पर उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इसी दौरान दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए उन्होंने यह बात कही।

राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा था कि टाइगर जिंदा है। सिंधिया का ये बयान काफी वायरल हुआ था। इसके बाद एक कार्यक्रम में उनसे पूछा गया कि शिवराज सिंह चौहान और उनमें टाइगर कौन है, तो सिंधिया ने कहा था- दोनों टाइगर हैं। इस पर दिग्विजय सिंह ने पलटवार करते हुए कहा था कि हम और माधवराव सिंधिया साथ में शेर का शिकार करते थे।

सबसे पहले इसका इस्तेमाल शिवराज सिंह चौहान ने किया था। 2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार के बाद जब वे सीएम हाउस छोड़ रहे थे, तो कहा था कि टाइगर अभी जिंदा है। इसके बाद से उनको ‘मामा शिवराज’ के साथ ‘टाइगर शिवराज’ भी कहा जाने लगा था। इसी टाइगर वाले बयान को लेकर दिग्विजय सिंह चौहान ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर लिखा था कि उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता माधवराव सिंधिया के साथ पहले टाइगर का खूब शिकार किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

औरंगजेब मंदिर विध्वंस का चैंपियन, जमीन आज भी देवता के नाम: सुप्रीम कोर्ट को बताया क्यों ज्ञानवापी हिंदुओं का, कैसे लागू नहीं होता वर्शिप...

सुप्रीम कोर्ट में जवाबी याचिका में हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मामले में कहा कि औरंगजेब ने मंदिर ध्वस्त कर भूमि को किसी को सौंपा नहीं था।

जुमे पर ज्ञानवापी के विवादित ढॉंचे में भारी जुटान, गेट बंद करना पड़ा: इलाहाबाद हाई कोर्ट में सुनवाई 6 जुलाई तक टली

वाराणसी की ज्ञानवापी विवादित ढाँचे में जुमे की नमाज अदा करने के लिए बड़ी संंख्या में लोग पहुँच गए। परिसर के अंदर जगह नहीं होने के बाद गेट बंद करने पड़े।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,408FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe