Tuesday, August 9, 2022
HomeराजनीतिMP : निर्दलीय प्रत्याशी से हार का गम नहीं हुआ कॉन्ग्रेस नेता को बर्दाश्त,...

MP : निर्दलीय प्रत्याशी से हार का गम नहीं हुआ कॉन्ग्रेस नेता को बर्दाश्त, नतीजे सुनते ही हार्ट अटैक, अस्पताल में मौत

कॉन्ग्रेस नेता का नाम हरिनारायण गुप्ता था। वह हनुमना इलाके में वार्ड नंबर 9 से निगम पार्षद का चुनाव लड़ रहे थे जहाँ उन्हें निर्दलीय उम्मीदवार अखिलेश कुमार ने मात्र 14 वोट ज्यादा पाकर हराया।

मध्य प्रदेश के रीवा में पार्षदी का चुनाव हारने के बाद कॉन्ग्रेस प्रत्याशी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। कॉन्ग्रेस नेता का नाम हरिनारायण गुप्ता था। वह हनुमना इलाके में वार्ड नंबर 9 से निगम पार्षद का चुनाव लड़ रहे थे जहाँ उन्हें निर्दलीय उम्मीदवार अखिलेश कुमार ने मात्र 14 वोट ज्यादा पाकर हराया।

इतने कम फर्क के कारण मिली हार ने हरिनारायण को तोड़ दिया और जैसे ही उन्हें चुनाव के नतीजे सुनने को मिले उन्हें हार्ट अटैक आ गया। खबरों के मुताबिक, पहले उनके सीने में दर्द उठा, जिसे देख कॉन्ग्रेसी कार्यकर्ता उन्हें प्राथमिक उपचार के लिए हनुमना अस्पताल ले गए, लेकिन वहाँ उनका इलाज नहीं हो सका और वह रीवा रेफर किए गए। मगर इसी बीच उनकी साँसे रुक गईं।

मीडिया से बातचीत में ब्लॉक कॉन्ग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नरेंद्र सिंह ने कहा, “गुप्ता हमारी पार्टी के 15 साल पुराने कार्यकर्ता है। उन्होंने ही हनुमना में पार्टी को स्थापित किया था। उनके निधन की भरपाई कभी नहीं हो पाएगी। उन्होंने यहाँ पार्टी को जिताने के लिए दिन रात एक कर दिए थे। कॉन्ग्रेस को यहाँ बहुमत में जीत भी मिली लेकिन वह खुद हार गए।”

जानकारी के मुताबिक हनुमना मंडलम के कॉन्ग्रेस अध्यक्ष 40 वर्षीय हरिनारायण गुप्ता के सामने ओमप्रकाश गुप्ता भाजपा की ओर से मैदान में थे। हालाँकि उन्हें जो हार मिली वो निर्दलीय अखिलेश गुप्ता ने दी। यही गम उनसे बर्दाश्त नहीं हुआ। पहले खबर आई थी कि ये हार का फर्क 45 वोटो का हैं। यानी अखिलेश गुप्ता को 229 वोट मिले हैं जबकि हरिनारायण को केवल 184। हालाँकि अब पता चला है कि ये फर्क 45 नहीं बल्कि 14 वोटों का था।

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश में 16 नगर पालिका निगम, 99 नगर पालिका परिषद और 298 नगर परिषद सहित 413 नगर पालिकाओं के लिए स्थानीय निकाय चुनाव के लिए मतदान दो चरणों में 6 जुलाई और 13 जुलाई को हुए थे। आज उन्हीं चुनावों के नतीजे घोषित हो रहे हैं। भाजपा ने बुरहानपुर, सतना, खंडवा और सागर में जीत हासिल की है जबकि आम आदमी पार्टी ने सिंगरौली से खाता खोला है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पहली कैबिनेट बैठक में ही देंगे 10 लाख नौकरियाँ’: तेजस्वी यादव को याद दिलाया वादा तो किया टाल-मटोल, बेरोजगारी पर नीतीश कुमार को घेरते...

तेजस्वी यादव ने सत्ता में आने पर 10 लाख नौकरियों का वादा किया था, लेकिन अब इस सम्बन्ध में पूछे गए सवाल पर उन्होंने स्पष्ट जवाब नहीं दिया।

सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने श्रीकांत त्यागी को दिया था विधायक वाला VVIP स्टीकर, कार पर लगा कर बनाता था भय का माहौल:...

यूपी के पूर्व मंत्री स्‍वामी प्रसाद मौर्य का खास रहा श्रीकांत त्‍यागी पुराना हिस्‍ट्रीशीटर है। नोएडा के दो थानों में उस पर 9 मुक़दमे दर्ज हैं। महिला से की थी बदसलूकी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,606FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe