Friday, July 30, 2021
Homeराजनीतिजहाँ से आएँगे पत्थर, उन्हीं के घर के पत्थर निकाले जाएँगे: MP के गृहमंत्री...

जहाँ से आएँगे पत्थर, उन्हीं के घर के पत्थर निकाले जाएँगे: MP के गृहमंत्री ने कानून बनाने के दिए संकेत

नया कानून कैसा और क्या होगा, इसके बारे में गृहमंत्री ने ज्यादा जानकारी नहीं दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में जिस तरह लव जिहाद से निपटने के लिए कानून बनाया गया है उसी तरह सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुॅंचाने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा।

मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान की सरकार दंगाइयों और पत्थरबाजों पर नकेल कसने की तैयारी में है। राज्य के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस दिशा में कानून बनाने के संकेत देते हुए कहा, “जहाँ से पत्थर आएँगे, उन्हीं के घर के पत्थर निकाले जाएँगे।”

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुए कहा, “जहाँ से पत्थर आएँगे, उन्हीं के घर के पत्थर निकाले जाएँगे। राज्य की सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुँचाने का किसी को अधिकार नहीं है। अब पत्थर चलाने वालों के खिलाफ सख्ती से निपटा जाएगा। सूबे की सरकार ऐसे लोगों से निपटने के लिए कानून बनाने पर विचार कर रही है।”

नया कानून कैसा और क्या होगा, इसके बारे में गृहमंत्री ने ज्यादा जानकारी नहीं दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में जिस तरह लव जिहाद से निपटने के लिए कानून बनाया गया है उसी तरह सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुॅंचाने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा। मुख्यमंत्री भी ऐसे मामलों में आरोपितों के घर और संपत्ति पर कार्रवाई के आदेश दे चुके हैं।

इससे पहले गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने अभिनेत्री कंगना रनौत की फिल्म की शूटिंग नहीं होने की धमकी देने वाले कॉन्ग्रेसियों को भी जमकर लताड़ा था। मध्य प्रदेश के बैतूल जिले के कॉन्ग्रेस नेता ने धमकी दी थी कि यदि कंगना किसानों के लिए कही गई बातों पर माफी नहीं माँगती हैं तो उन्हें फिल्म ‘धाकड़’ की शूटिंग नहीं करने दी जाएगी।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए मिश्रा ने कहा था, “फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को चिचोली (बैतूल) के कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा धमकाए जाने के मामले में मैंने बैतूल एसपी से चर्चा की है। मध्य प्रदेश में कानून का राज है। बेटी कंगना रनौत को किसी से डरने की जरूरत नहीं है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

रामायण की नेगेटिव कैरेक्टर से ममता बनर्जी की तुलना कंगना रनौत ने क्यों की? जावेद-शबाना-खान को भी लिया लपेटे में

“...बंगाल मॉडल एक उदाहरण है… इसमें कोई शक नहीं कि देश में खेला होबे।” - जावेद अख्तर और ममता बनर्जी की इसी मीटिंग के बाद कंगना रनौत ने...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe