Wednesday, September 29, 2021
Homeराजनीतिचुनाव लड़ने का मतलब CM बनना नहीं: बेटे आदित्य की दावेदारी पर उद्धव ठाकरे

चुनाव लड़ने का मतलब CM बनना नहीं: बेटे आदित्य की दावेदारी पर उद्धव ठाकरे

"एक दिन शिवसैनिक जरूर राज्य का सीएम बनेगा। शिवसैनिक को सीएम बनाने का वचन मैंने अपने पिता (बाला साहेब ठाकरे) को दिया था। जब तक यह पूरा नहीं होगा चैन से नहीं बैठूंगा।"

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा है कि उनके बेटे आदित्य के चुनाव मैदान में उतरने का मतलब यह नहीं कि वे मुख्यमंत्री या उपमुख्यमंत्री बनेंगे। उद्धव का यह रुख महाराष्ट्र में शिवसेना और भाजपा के बीच असहज स्थिति होने की खबरों के बीच आया है।

21 अक्टूबर को होने वाले महाराष्ट्र चुनाव के लिए भाजपा और शिवसेना के बीच आधिकारिक रुप से सीटों के बँटवारा हो चुका है। भाजपा 150 और शिवसेना 124 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। बाकी 14 सीटें अन्य सहयोगी पार्टियों के लिए छोड़ी गई हैं। शिवसेना को 2 विधान परिषद की सीटें भी मिलेंगी।

भाजपा से कम सीटों पर चुनाव लड़ने की कसक तो शिवसेना में है, लेकिन उसे उम्मीद है कि गठबंधन की सरकार बनने पर उसे बराबर की भागीदारी मिलेगी। उद्धव ठाकरे ने कहा है कि उन्हें यकीन है कि बीजेपी अपने वादों पर खरा उतरेगी।

शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक संजय राउत को दिए साक्षात्कार में उद्धव ने मुख्यमंत्री पद पर पार्टी की दावेदारी को लेकर भी जवाब दिया। उन्होंने कहा कि ठाकरे परिवार से किसी के पहली बार चुनाव लड़ने का मतलब यह नहीं है कि वो तुरंत सीएम या डिप्टी सीएम बन जाएँगे।

उन्होंने कहा कि आदित्य विधायी कार्यों का तजुर्बा लेना चाहते हैं। इसमें उनकी काफी रूचि है। वह अभी राजनीति में आए ही हैं और यह उनकी शुरुआत है। राजनीति में पहले कदम का मतलब यह नहीं होता कि आप राज्य के सीएम बन जाएँ। उल्लेखनीय है कि आदित्य चुनाव मैदान में उतरने वाले पहले ठाकरे हैं। उनके चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद से ही कई तरह के कयास लग रहे हैं। पिछले दिनों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने कहा था कि आदित्य को डिप्टी सीएम बनाने में उन्हें खुशी होगी।

साक्षात्कार के दौरान उद्धव ने कहा कि एक दिन शिवसैनिक जरूर राज्य का सीएम बनेगा। उन्होंने कहा कि शिवसैनिक को सीएम बनाने का वचन मैंने अपने पिता (बाला साहेब ठाकरे) को दिया था। जब तक यह पूरा नहीं होगा चैन से नहीं बैठूंगा।

इस दौरान उद्धव ठाकरे ने कहा कि बीजेपी से शिवसेना का गठबंधन हिंदुत्व पर आधारित है। साथ ही ठाकरे ने यह भी कबूला कि उन्होंने बीजेपी के साथ गठबंधन में आने के लिए कंप्रोमाइज किया है और ऐसा उन्होंने सिर्फ महाराष्ट्र की भलाई के लिए किया है। ठाकरे ने कहा, “हम कम सीटों पर लड़ रहे हैं, क्योंकि मुख्यमंत्री देवेंद्र
फड़णवीस और राज्य भाजपा प्रमुख चंद्रकांत पाटिल ने मुझसे अपनी समस्या समझने का अनुरोध किया था। भले ही शिवसेना कम सीटों पर लड़ रही है, लेकिन पार्टी ज्यादातर सीटों पर जीत दर्ज करेगी।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,032FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe