Saturday, June 25, 2022
Homeराजनीति'मानव बम जैसे हैं दिल्ली से लौटे तबलीगी जमाती, महाराष्ट्र सरकार जानबूझकर नहीं पेश...

‘मानव बम जैसे हैं दिल्ली से लौटे तबलीगी जमाती, महाराष्ट्र सरकार जानबूझकर नहीं पेश कर रही मरकज से जुड़े संक्रमितों के आँकड़े’

"नई दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित मजहबी कार्यक्रम में कोरोना वायरस से संक्रमित होकर आए लोग ‘मानव बम’ जैसे हैं। वे बड़ी आबादी को संक्रमित कर सकते हैं। इसलिए सरकार को इन लोगों का पता लगाकर जल्दी से इलाज किया जाना चाहिए।"

महाराष्ट्र में लगातार बढ़ते कोरोना के मरीजों की संख्या को देख परेशान हुए पूर्व सीएम देवेन्द्र फडनवीस ने तबलीगी जमातियों को लेकर बढ़ा बयान दिया है। फडनवीस ने कहा है कि दिल्ली के मरकज में शामिल हुए तबलीगी जमात के लोग संक्रमित होकर पूरे देश में घूम रहे हैं, जो कि एक मानव बम की तरह है। इनको पकड़कर इनकी जाँच की जानी चाहिए और इन्हें जल्दी से जल्दी क्वारंटाइन किया जाना चाहिए। फडनवीस ने यह बातें बीते दिन राज्यपाल से मुलाकात के बाद एक वीडियो जारी कर कहीं।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बुधवार शाम को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करने के बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो संदेश जारी किया, वीडियो संदेश में फडणवीस ने कहा, “नई दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित मजहबी कार्यक्रम में कोरोना वायरस से संक्रमित होकर आए लोग ‘मानव बम’ जैसे हैं। वे बड़ी आबादी को संक्रमित कर सकते हैं। इसलिए सरकार को इन लोगों का पता लगाकर जल्दी से इलाज किया जाना चाहिए।”

वीडियो में फडनवीस ने राज्य सरकार पर कई गंभीर आरोप भी लगाए। फडनवीस ने आगे कहा कि सरकार जानबूझकर तबलीगी जमात से जुड़े संक्रमित लोगों के आँकड़े पेश नहीं कर रही है। इतना ही नहीं सरकार के मंत्री तरह-तरह के बयान देकर भ्रामक बातें कर गंदी राजनीति कर रहे हैं। सरकार दिल्ली मरकज में शामिल होकर लौटकर आए लोगों को पकड़ने में असमर्थ है। जरूरी है कि इन लोगों का पता लगाकर जल्दी से जाँच की जाए और फिर इन्हें क्वारंटाइन किया जाए।

पूर्व मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार ने जो राशन लोगों के लिए दिया है वह यहाँ के लोगों को नहीं मिल रहा है। वह भुखमरी के कगार पर हैं। यहाँ तक कि सरकार डॉक्टरों को पीपीई किट भी उपलब्ध नहीं करा पा रही हैं। इस तरह से ऐसे लोगों का मनोबल कम होता है, जो लोग सामने आकर कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं।

आपको बता दें कि देश में सबसे अधिक कोरोना से मरने वालों और इससे संक्रमिल लोगों की संख्या महाराष्ट्र में सबसे अधिक है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाईट के मुताबित महाराष्ट्र में अब तक कोरोना की चपेट में आने से 72 लोगों की मौत, जबकि इससे संक्रमित लोगों की संख्या 1135 से अधिक हो चुकी है।

चौंकाने वाली बात यह कि अकेले मुंबई शहर ही कोरोना का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बना हुआ है यहाँ अकेले लगभग 700 कोरोना संक्रमित मरीज हैं और करीब 40 की मौत हो चुकी है। मुंबई की झुग्गी-झोपड़ियों में जमात के कनेक्शन के चलते कोरोना वायरस फैला है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मुंबई के अस्पतालों में 90 फीसदी मरीजों का तबलीगी जमात से कनेक्शन सामने आया है।

गौरतलब है कि इससे पहले बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने इंदौर में कहा था कि इस दिल्ली मरकज में शामिल और फिर वहाँ से कोरोना संक्रमित हुए तबलीगी जमात के लोग मानव बम की तरह घूम रहे। इन लोगों को खुद ही प्रशासन को सौंप देना चाहिए, ताकि समाज में यह बीमारी न फेंला सकें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गर्भवती का भ्रूण आग में फेंकने से लेकर चूल्हे से गोधरा ट्रेन में आग तक: गुजरात दंगों पर वो 5 झूठ, जो नरेंद्र मोदी...

गुजरात दंगों के बाद नरेंद्र मोदी को बदनाम करने के लिए कई हथकंडे आजमाए गए। यहाँ जानें ऐसे 5 झूठ जो फैलाए गए। साथ ही क्या है उनकी सच्चाई।

झूठे साक्ष्य गढ़े, निर्दोष को फँसाने की कोशिश: तीस्ता सीतलवाड़ के साथ-साथ RB श्रीकुमार और संजीव भट्ट पर भी FIR, गुजरात दंगा मामला

संजीव भट्ट फ़िलहाल पालनपुर जेल में कैद। राज्य सरकार का पक्ष रखते हुए दर्ज FIR में शुक्रवार (24 जून, 2022) को आए सुप्रीम कोर्ट का हवाला दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,266FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe