Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीति'हेमा मालिनी के गाल जैसी सड़कें नहीं तो इस्तीफा': महाराष्ट्र सरकार के मंत्री के...

‘हेमा मालिनी के गाल जैसी सड़कें नहीं तो इस्तीफा’: महाराष्ट्र सरकार के मंत्री के बयान का राउत ने किया बचाव, कहा- ‘यह उनका सम्मान है’

"जो 30 साल से विधायक हैं, वे मेरे निर्वाचन क्षेत्र में आएँ और सड़कें देखें। अगर वे हेमा मालिनी के गाल की तरह नहीं हैं, तो मैं इस्तीफा दे दूँगा।"

महाराष्ट्र (Maharashtra) के जलापूर्ति मंत्री गुलाबराव रघुनाथ पाटिल ( Gulabrao Raghunath Patil) ने अभिनेत्री और भाजपा सांसद हेमा मालिनी (Hema Malini) को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने जलगाँव जिले की सड़कों की तुलना हेमा मालिनी के गाल से की है। मंत्री का कहना है कि अगर जिले की सड़कें हेमा मालिनी के गाल की तरह चिकनी नहीं हुई तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। लेकिन बाद में विवाद बढ़ने के बाद उस पर माफी भी माँग ली।

रिपोर्ट के मुताबिक, शिवसेना (Shivsena) के वरिष्ठ नेता और राज्य के जलापूर्ति और स्वच्छता मंत्री गुलाबराव रघुनाथ पाटिल शनिवार (11 दिसंबर 2021) को उत्तरी महाराष्ट्र में अपने जिले में बोडवाड़ नगर पंचायत चुनाव के लिए एक चुनावी सभा में शामिल हुए थे। उसी दौरान उन्होंने यह आपत्तिजनक टिप्पणी की। उनके इस कमेंट का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। दरअसल, अपने भाषण के दौरान मंत्री विपक्ष पर निशाना साधते हुए यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि उनके निर्वाचन क्षेत्र में सड़कों की स्थिति बहुत ही अच्छी है।

पाटिल ने पूर्व भाजपा (BJP) नेता एकनाथ खडसे (Eknath khadse) की ओर इशारा करते हुए कहा, “जो 30 साल से विधायक हैं, वे मेरे निर्वाचन क्षेत्र में आएँ और सड़कें देखें। अगर वे हेमा मालिनी के गाल की तरह नहीं हैं, तो मैं इस्तीफा दे दूँगा।”

हालाँकि, विवाद बढ़ने के बाद शिवसेना नेता ने अपने बयान के लिए माफी माँगी है। उन्होंने धुले में पत्रकारों से बात करते हुए सफाई दी कि अगर मेरे बयान से किसी को ठेस पहुँची है तो मैं इसके लिए माफी माँगता हूँ। मेरा उद्देश्य कुछ और था।

वहीं इस मामले में महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष रूपाली चाकणकर (Rupali Chakankar) ने टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए मंत्री को सार्वजनिक तौर पर माफी माँगने को कहा है। इसके साथ ही उन्होंने कानूनी कार्रवाई की भी चेतावनी दी।

मंत्री के बयान को जस्टिफाई करने की कोशिश

गुलाबराव पाटिल के बयानों से मचे सियासी बवाल के बीच शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत (Shiv Sena MP Sanjay Raut) ने मंत्री के बयान को जस्टिफाई करने की कोशिश की। उन्होंने कहा, “इस तरह की तुलना पहले भी हो चुकी है। यह हेमा मालिनी का सम्मान है। इसलिए इसे नकारात्मक रूप से न देखें। इससे पहले लालू यादव ने भी ऐसा ही उदाहरण दिया था। हम हेमा मालिनी का सम्मान करते हैं।”

उद्धव सरकार के मंत्री के बयान को अधिक तवज्जो नहीं देते हुए बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने कहा कि इसकी शुरुआत कई साल पहले लालू यादव (Lalu Yadav) ने की थी। इस तरह की टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। हालाँकि, उन्होंने इस पर माफी की माँग से इनकार कर दिया।

कैटरीना कैफ (Katina Kaif) पर भी किया था कमेंट

पिछले महीने नवंबर 2021 में राजस्थान सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने कहा था कि हेमा मालिनी अब बूढ़ी हो गई हैं, इसीलिए कैटरीना कैफ के गाल जैसे सड़कें बननी चाहिए। उन्होंने ‘लोक निर्माण विभाग (PWD)’ के चीफ इंजीनियर से कहा कि हमारे गाँव में सड़कें एकदम कैटरीना कैफ (Katina Kaif) के गाल जैसी बननी चाहिए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -