Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीति'मेरे घर सरकारी मेहमान आने वाले हैं': महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के ट्वीट...

‘मेरे घर सरकारी मेहमान आने वाले हैं’: महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के ट्वीट में ‘डरने-मरने’ की चर्चा, गाँधी से की खुद की तुलना

"साथियों, सुना है, मेरे घर आजकल में सरकारी मेहमान आने वाले हैं। हम उनका स्वागत करते है। डरना मतलब रोज रोज मरना। हमें डरना नहीं, लड़ना है। गाँधी लड़े थे गोरों से, हम लड़ेंगे चोरों से।"

महाराष्ट्र (Maharashtra) सरकार में मंत्री और NCP नेता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने इशारों में अपने घर पर ‘सरकारी मेहमानों’ के आने की संभावना जताई है। सरकारी मेहमानों से केंद्रीय जाँच एजेंसियों का अनुमान लगाया जा रहा है। इस आशय का ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा है कि, ‘साथियों, सुना है, मेरे घर आजकल में सरकारी मेहमान आने वाले हैं। हम उनका स्वागत करते है। डरना मतलब रोज रोज मरना। हमें डरना नहीं, लड़ना है। गाँधी लड़े थे गोरों से, हम लड़ेंगे चोरों से। यह ट्वीट उन्होंने 10 दिसम्बर (शुक्रवार) को रात 9 बजकर 41 मिनट पर किया है।

गौरतलब है कि इस से पहले भी नवाब मलिक कई बार केंद्र सरकार पर केंद्रीय जाँच एजेंसियों के दुरूपयोग का आरोप लगा चुके हैं। इसी साल 27 नवंबर को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा था कि, ‘कुछ अनजान और संदिग्ध लोग उनका लगातार मेरा कर रहे हैं। मेरे परिवार की गतिविधियों को निगरानी की जा रही है। मैं मुंबई के पुलिस कमिश्नर से इस मामले की शिकायत करूँगा। उन्हें पता लगाने के लिए कहूँगा कि इस साजिश के पीछे कौन लोग हैं। महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) की तरह मुझे भी ‘गलत मामले में फँसाने’ की साजिश रची जा रही है।

इससे पहले NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के खिलाफ लगातार बयानबाजी के चलते मुंबई हाईकोर्ट (Mumbai High Court) से नवाब मलिक को फटकार लगी है। उन्होंने हाईकोर्ट से बिना शर्त माफ़ी भी माँगी है। उन्होंने कोर्ट को आश्वासन भी दिया है कि आगे से वो समीर वानखेड़े के खिलाफ कोई बयान नहीं देंगे। माफ़ी माँगते हुए उन्होंने कहा कि उनका कोर्ट की अवममानना करने का कोई मकसद नहीं था। समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े ने इसकी शिकायत हाईकोर्ट में की थी। यह सुनवाई न्यायमूर्ति एसजे काथावाला और न्यायमूर्ति मिलिंद जाधव की खंडपीठ में हुई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -