Monday, December 6, 2021
Homeराजनीतिदिल्ली पहुँच पवार का यू टर्न: हमारे खिलाफ लड़ी शिवसेना, उसके साथ सरकार कैसे...

दिल्ली पहुँच पवार का यू टर्न: हमारे खिलाफ लड़ी शिवसेना, उसके साथ सरकार कैसे बना लें

महाराष्ट्र में एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ सरकार बनाने की शिवसेना की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है। सोनिया गॉंधी के साथ बैठक से पहले शरद पवार ने कहा है कि शिवसेना को भाजपा के साथ अपना रास्ता तलाशना है।

महाराष्ट्र में एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ सरकार बनाने की शिवसेना की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है। सोनिया गॉंधी के साथ बैठक से पहले शरद पवार ने कहा है कि शिवसेना को भाजपा के साथ अपना रास्ता
तय करना है।

उन्होंने कहा, “बीजेपी-शिवसेना ने हमारे खिलाफ चुनाव लड़ा था। फिर कॉन्ग्रेस, एनसीपी और शिवसेना का गठबंधन कैसे हो सकता है। हमने कॉन्ग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था, इसलिए आज बैठक करने जा रहे हैं। शिवसेना और भाजपा अलग हैं। हम और कॉन्ग्रेस अलग हैं। उनको उनका रास्ता तय करना है और हम अपनी राजनीति कर रहे हैं।”

जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि शिवसेना तो कह रही है कि पवार साहब के साथ मिलकर सरकार बना रहे हैं, तो शरद पवार ने सिर्फ ‘अच्छा’ कह आगे बढ़ गए। पवार के इस बयान ने महाराष्ट्र में सरकार गठन पर सस्पेंस और बढ़ा दिया है। इससे पहले खबर आ रही थी कि शिवसेना को समर्थन देने पर कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गॉंधी असमंजस में हैं।

कॉन्ग्रेस और एनसीपी के नेताओं की ओर से बताया गया था कि सोमवार को शाम 4 बजे पवार और सोनिया गॉंधी की बैठक में सरकार बनाने को लेकर आखिरी फैसला होगा। कॉन्ग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा था कि इस बैठक के बाद यह स्पष्ट हो जाएगा कि कॉन्ग्रेस शिवसेना के साथ सरकार गठन के लिए आगे बढ़ेगी या नहीं। इससे पहले रविवार को एनसीपी की एक बैठक हुई थी। इस बैठक के बाद पार्टी प्रवक्ता नवाब मलिक ने बताया कि एनसीपी चाहती है कि राज्य में जल्द से जल्द राष्ट्रपति शासन खत्म हो। लेकिन, सरकार गठन को लेकर आखिरी फैसला सोनिया गॉंधी और शरद पवार के बीच होने वाली बैठक के बाद ही होगा।

राज्य की राजनीतिक तस्वीर बदलने के कयास भाजपा की सहयोगी पार्टी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया (RPI) के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले के एक बयान से भी लगने शुरू हो गए थे। अठावले ने रविवार को कहा था, “मैंने अमित भाई (भाजपा अध्यक्ष अमित शाह) से कहा कि अगर वह मध्यस्थता करते हैं तो एक रास्ता निकाला जा सकता है, जिस पर उन्होंने (अमित शाह) जवाब दिया कि चिंता मत करो, सब ठीक हो जाएगा। भाजपा और शिवसेना मिलकर सरकार बनाएँगे।” इससे पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी संकेतों में इशारा किया था कि भाजपा अब भी राज्य में सरकार बना सकती है। महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने भी कहा था कि पार्टी के पास 119 विधायकों का समर्थन है।

ये भी पढ़ें: बिगड़ रही शिवसेना-कॉन्ग्रेस-NCP की बात?
ये भी पढ़ें: शिवसेना के 16, एनसीपी के 14 और कॉन्ग्रेस के 12 मंत्री होंगे

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

21 दिसंबर से धर्मांतरण के खिलाफ VHP का ‘धर्मयुद्ध’: भारत में बन रहे ‘मिनी Pak’ और ‘मिनी वेटिकन’ पर शिकंजा, हो रहा सर्वे

21 दिसंबर, 2021 से देश भर में धर्मांतरण के खिलाफ अभियान चलेगा। इसके तहत घर-घर जाकर विहिप के कार्यकर्ता घर-घर जाएँगे। सिख, जैन बौद्ध भी पीड़ित।

‘मुस्लिम बाबरी विध्वंस को नहीं भूलेंगे, फिर से बनेगी मस्जिद’: केरल के स्कूल में बाँटा गया ‘मैं बाबरी हूँ’ का बैज

केरल के एक 'सेंट जॉर्ज स्कूल' की कुछ तस्वीरें भी सामने आई हैं, जिसमें एक SDPI कार्यकर्ता बच्चों की शर्ट पर बाबरी वाला बैज लगाता हुआ दिख रहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,998FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe