Friday, July 1, 2022
Homeराजनीति'राहुल गाँधी मोदी को नहीं हरा सकते': PM के जन्मदिन पर TMC ने कॉन्ग्रेस...

‘राहुल गाँधी मोदी को नहीं हरा सकते’: PM के जन्मदिन पर TMC ने कॉन्ग्रेस को दिया ‘धोखा’, वामपंथियों को भी लताड़ा

“हम कॉन्ग्रेस के बगैर गठबंधन की बात नहीं कर रहे हैं। मैं काफी लंबे समय से राहुल गाँधी को देख रहा हूँ। उन्होंने अभी तक खुद को मोदी के विकल्प के तौर पर विकसित नहीं किया है।"

लोकसभा चुनाव 2024 में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के खिलाफ विपक्षी दलों के एकजुट होने की खबरें आ रही हैं। इधर, तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) नेता, कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी को विपक्ष का चेहरा नहीं मान रहे हैं। वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को चेहरा बता रहे हैं। 

कोलकाता में हुई टीएमसी की आंतरिक बैठक में यह बात सामने आई। अब जब विपक्षी दलों के एक साथ आने की अटकलें तेज हो रही हैं, तो ऐसे समय में टीएमसी नेता की तरफ से आए इस बयान को काफी अहम माना जा रहा है।

टीएमसी के वरिष्ठ सांसद सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा, “हम कॉन्ग्रेस के बगैर गठबंधन की बात नहीं कर रहे हैं। मैं काफी लंबे समय से राहुल गाँधी को देख रहा हूँ। उन्होंने अभी तक खुद को मोदी के विकल्प के तौर पर विकसित नहीं किया है। पूरा देश ममता को चाहता है, इसलिए हम ममता का चेहरा सामने रखेंगे और प्रचार अभियान चलाएँगे।” 

उन्होंने आगे कहा, “राहुल गाँधी नरेंद्र मोदी को नहीं हरा सकते, वहीं भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-मार्क्सवादी (सीपीआई-एम) का देश में कोई महत्व नहीं है।” हाल ही में सीएम बनर्जी के भतीजे अभिषेक ने भी एक बयान के जरिए कॉन्ग्रेस को कमजोर बताया था।

टीएमसी ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के लिए हमेशा सम्मान रखा है, लेकिन जब भी बात राहुल गाँधी की आती है, तो पार्टी के नेताओं ने आपत्ति जाहिर की है। पार्टी चाहती है कि ममता विपक्ष का चेहरा बनें और पार्टी के नेताओं ने यह माँग बार-बार दोहराई है। हालाँकि, सीएम बनर्जी अब तक यही कह रही हैं कि उनके लिए पद से ज्यादा विपक्ष की एकता मायने रखती है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों ममता बनर्जी ने कहा था कि 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष बीजेपी से ज्यादा मजबूत होगा और इतिहास रचेगा। उनका कहना है कि अगला चुनाव ‘मोदी बनाम पूरा देश’ होगा। पत्रकारों के सवालों पर ममता बनर्जी ने कहा था, “हम पार्टियों से बात करेंगे। एक प्लेटफार्म होना चाहिए, जहाँ से हम साथ चलें। संसद सत्र के बाद सभी पार्टियाँ आपस में बैठ कर बात करेंगी।” उन्होंने यह भी बताया था कि उनकी राहुल और सोनिया गाँधी से मुलाकात अच्छी रही हैं। उन्हें लगता है कि भविष्य में इसका सकारात्मक परिणाम सामने आएगा। मगर अब टीएमसी की कॉन्ग्रेस के साथ बेरुखी दिखाई दे रही है।

उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार (सितंबर 16, 2021) को जोर देकर कहा कि वह देश को पाकिस्तान या तालिबान नहीं बनने देंगी। ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि भगवा पार्टी ने दावा किया है कि भवानीपुर में यदि टीएमसी जीती तो यह यह पाकिस्तान बन जाएगा। टीएमसी सुप्रीमो भवानीपुर से उपचुनाव लड़ रही हैं।

बनर्जी ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा, ”मैं बीजेपी की नीति और राजनीति पसंद नहीं करती हूँ। वे केवल धार्मिक आधार पर लोगों को बाँटने की राजनीति करते हैं। नंदीग्राम में उन्होंने कहा था कि यह पाकिस्तान बन जाएगा (यदि टीएमसी जीती) और अब वह कह रहे हैं कि यह (भवानीपुर) पाकिस्तान बन जाएगा। यह शर्मनाक है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe