Wednesday, September 29, 2021
Homeराजनीति'पूरे देश में खेला होबे': सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024...

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी का कहना है कि 2024 के आम चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूरे देश के बीच आमना-सामना होगा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री व तृणमूल कॉन्ग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने आज (जुलाई 28, 2021) दिल्ली में 2024 के लोकसभा चुनावों को लेकर बयान दिया। उन्होंने कहा, साल 2024 में ‘पूरे देश में खेला होबे (पूरे देश में खेल होगा)।’ अपने पाँच दिवसीय दिल्ली के दौरे में वह विपक्ष के कई नेताओं के साथ बैठक कर रही हैं।

ममता बनर्जी का कहना है कि 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष बीजेपी से ज्यादा मजबूत होगा और इतिहास रचेगा। उनका कहना है कि अगला चुनाव ‘मोदी बनाम पूरा देश’ होगा। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पत्रकारों के सवालों पर ममता बनर्जी ने कहा, “हम पार्टियों से बात करेंगे। एक प्लेटफार्म होना चाहिए, जहाँ से हम साथ चलें। संसद सत्र के बाद सभी पार्टियाँ आपस में बैठ कर बात करेंगी।”

उल्लेखनीय है कि पेगासस जासूसी मामले समेत कई अन्य मामलों पर केंद्र और विपक्ष के बीच चल रहे विवाद के बीच, बनर्जी ने कहा, “हम ‘सच्चे दिन’ देखना चाहते हैं, ‘अच्छे दिन’ काफी देख लिए।” कॉन्ग्रेस अध्यक्ष के साथ बैठक पर उन्होंने कहा कि विपक्ष एकजुटता चाहता है। उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस को क्षेत्रीय पार्टियों पर यकीन करना चाहिए और क्षेत्रीय पार्टियों को कॉन्ग्रेस पर। वह बताती हैं कि उनकी राहुल और सोनिया गाँधी से मुलाकात अच्छी रही हैं। उन्हें लगता है कि भविष्य में इसका सकारात्मक परिणाम सामने आएगा।

उन्होंने कहा, “भाजपा को हराने के लिए सभी का साथ आना जरूरी है। अकेले, मैं कुछ भी नहीं। सबको मिलकर काम करना होगा। मैं नेता नहीं हूँ। मैं एक कैडर हूँ। मैं सड़क पर खड़ी शख्स हूँ।”

‘साल 2024 में मोदी बनाम कौन’ के सवाल पर वह कहती हैं, “क्या मैं राजनीतिक ज्योतिष हूँ? यह परिस्थितियों पर निर्भर करेगा। किसी को तो नेतृत्व करना ही है। समय आने पर चर्चा करेंगे। मैं अपनी राय नहीं थोपना चाहती हूँ। मैं सोनिया गाँधी और केजरीवाल से मिल रही हूँ। लालू प्रसाद यादव ने मंगलवार को फोन पर बात की। रोज हम बात कर रहे हैं। अभी तीन साल है। हम चर्चा कर रहे हैं।” उन्होंने कई नेताओं के नाम लिए और कहा कि आज भले ही सब साथ नहीं है लेकिन कल आ सकते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe