Friday, February 26, 2021
Home राजनीति विपक्षी दलों की बैठक से ममता का किनारा, कॉन्ग्रेस को लताड़ मोदी से की...

विपक्षी दलों की बैठक से ममता का किनारा, कॉन्ग्रेस को लताड़ मोदी से की मुलाकात

ममता बनर्जी को डर है कि जिस मुस्लिम तुष्टिकरण में उन्होंने कई साल गुजार दिए उनके वोट कॉन्ग्रेस और एआईएमआईएम हड़प न ले। इसीलिए, वो विपक्ष के साथ रहते हुए भी उनसे अलग दिखना दिखना चाहती हैं और ऐसा प्रतीत कराना चाहती हैं कि वो सीएए और एनआरसी के ख़िलाफ़ अकेले लोहा ले रही हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर कोलकाता पहुँचे। राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल कॉन्ग्रेस के मंत्रियों ने उनका स्वागत किया। पीएम से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी मुलाक़ात की। ममता ने बताया कि उन्होंने पीएम से सीएए और एनआरसी को वापस लेने का निवेदन किया। प्रधानमंत्री ने इस पर कहा कि वे दिल्ली आकर अपनी बात रखें, इसके बाद बात होगी। ममता बनर्जी ने बताया कि उन्होंने पीएम मोदी से कह दिया कि उन्हें सीएए और एनआरसी स्वीकार्य नहीं है।

इधर ममता बनर्जी ने वामपंथियों की जम कर आलोचना करते हुए विपक्ष की साझा बैठक में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या ममता बनर्जी को इस बात का डर है कि विपक्षी बैठकों में शामिल होने से उनका मुद्दा हाइजैक हो जाएगा? ममता बनर्जी जहाँ बंगाल में सीएए और एनआरसी के विरोध में लगातार रैलियाँ और पदयात्रा कर रही हैं, दिल्ली में वो विपक्षी एकता के शक्ति-प्रदर्शन में हिस्सा लेने से बच रही हैं। ज्ञात हो कि ये वही ममता हैं, जिन्होंने लोकसभा चुनाव से पहले कोलकाता में विपक्षी नेताओं का जमावड़ा लगाया था।

आख़िर इतने ही दिन में ऐसा क्या बदल गया, जिससे ममता बनर्जी ने विपक्ष की बैठक में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया। दरअसल, इसके पीछे हाल ही में वामपंथी दलों और कॉन्ग्रेस समर्थित ‘भारत बंद’ को पश्चिम बंगाल में सफल बनाने के लिए पूरी ताक़त झोंक दी। ममता चाहती थीं कि ये बंद असफल हो जाए लेकिन वामपंथी और कॉन्ग्रेस समर्थित संगठनों के बंद का असर राज्य में दिखा। इससे घबराईं ममता बनर्जी ने वामपंथियों की जम कर आलोचना की। ममता बंगाल में ये दिखाना चाहती हैं कि वो सीएए व एनआरसी के ख़िलाफ़ सबसे बड़ी आवाज़ हैं।

इन सबके अलावा उन्हें मुस्लिम वोटरों के छिटकने का भी ख़तरा सता रहा है, जिसके कारण वो कॉन्ग्रेस से दूरी बना रही हैं। राज्य में कॉन्ग्रेस विधायक दल के नेता अब्दुल मन्नान को बनाया है, जो राज्य में पार्टी के प्रमुख मुस्लिम चेहरों में से एक हैं। ऐसे में, ममता बनर्जी कॉन्ग्रेस का साथ देकर मुस्लिमों में कन्फ्यूजन या संशय का माहौल नहीं बनाना चाहतीं। ओवैसी की पार्टी भी पश्चिम बंगाल में पूरा ज़ोर लगा रही है और एआईएमआईएम ने कहा है कि कोलकाता में एक भव्य रैली आयोजित होगी, जिसमें ख़ुद हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी शामिल होंगे।

अब ममता बनर्जी को डर है कि जिस मुस्लिम तुष्टिकरण में उन्होंने कई साल गुजार दिए उनके वोट कॉन्ग्रेस और एआईएमआईएम हड़प न ले। इसीलिए, वो विपक्ष के साथ रहते हुए भी उनसे अलग दिखना दिखना चाहती हैं और ऐसा प्रतीत कराना चाहती हैं कि वो सीएए और एनआरसी के ख़िलाफ़ अकेले लोहा ले रही हैं। अब देखना यह है कि दिल्ली में पीएम मोदी और सीएम ममता की बैठक के बाद राज्य की सियासी हवा किस करवट लेती है। ममता बंद को लेकर कॉन्ग्रेस की भी आलोचना कर चुकी हैं। उन्होंने कहा था कि पश्चिम बंगाल में ख़त्म हो चुकी कॉन्ग्रेस बंद के जरिए सस्ती राजनीति कर रही है।

कॉन्ग्रेस और लेफ्ट गंदी राजनीति कर रहे, मैं उनके साथ नहीं: CAA-NRC पर ममता बनर्जी ने विपक्ष को मारी ‘लात’

लेफ्ट की हिंसा ‘दादागिरी’ है न कि आंदोलन, खत्म हो जाऊँगी लेकिन वामपंथियों की तरह नहीं करूँगी: ममता बनर्जी

ममता बनर्जी को झटका: कलकत्ता हाईकोर्ट ने CAA-NRC संबंधी विज्ञापनों को हटाने के दिए निर्देश

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मिशनरी स्कूल प्रिंसिपल ने लाइब्रेरियन पर डाला धर्मांतरण का दबाव: लालच देकर सैलरी रोकी फिर गालियाँ देकर नौकरी से निकाला

जब लाइब्रेरियन रूबी सिंह ने स्कूल प्रिंसिपल सिस्टर भाग्या से वेतन की माँग की तो उन्होंने कहा कि धर्म परिवर्तन कर लो, हम तुम्हारा वेतन दे देंगे और उसमें बढ़ोतरी भी कर देंगे।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

कुरान की आयतें करती हैं सीमित परिवार की पैरवी: पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त कुरैशी ने बताया इस्लाम को परिवार नियोजन का समर्थक

“1,400 साल पहले, जब दुनिया में कहीं भी जनसंख्या का दबाव नहीं था, कुरान में नियोजित परिवारों के बारे में बात हो रही थी"

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,849FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe