Friday, February 3, 2023
Homeराजनीति8 साल पहले शरद पवार को मारा था थप्पड़ : हरविंदर सिंह को दिल्ली...

8 साल पहले शरद पवार को मारा था थप्पड़ : हरविंदर सिंह को दिल्ली पुलिस ने दबोचा

थप्पड़ पड़ने के बाद पवार ने इसके लिए किसी भी पार्टी को दोषी नहीं ठहराया था, पवार की बेटी और एनसीपी से सांसद सुप्रिया सुले ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से शांत रहने को कहा था।

एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार को 2011 में थप्पड़ मारने वाले को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि आरोपित लम्बे समय से फरार चल रहा था जिसके बाद 2014 अदालत ने अधिकारिक रूप से उसे फरार घोषित कर दिया था। आठ साल पहले जब यह घटना हुई थी तब पवार केंद्र की यूपीए सरकार में कृषि एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री हुआ करते थे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार गिरफ्तार किए गए आरोपित शख्स का नाम हरविंदर सिंह है। हरविंदर ने दिल्ली के संसद मार्ग स्थित एनडीएमसी सेंटर में एक कार्यक्रम से लौट रहे तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री को 2011 में थप्पड़ जड़ दिया था। बता दें कि आरोपित हरविंदर ने इस घटना से कुछ ही दिनों पहले पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुखराम पर भी हमला बोला था। मंत्री रहे सुखराम को अदालत ने भ्रष्टाचार का दोषी ठहराया था। उस समय अदालत ने हरविंदर को चेतावनी देते हुए छोड़ दिया था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक हमला करने वाला शख्स प्रणब मुखर्जी पर हमला करना चाहता था मगर उनकी उम्र को देखते हुए उसने यह विचार त्याग दिया। बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक आरोपित ने 2011 में अपनी सफाई पेश करते हुए कहा था, “हर ज़रूरी सामान की क़ीमतें बढ़ती जा रही है। मैं एक आतंकवादी नहीं हूँ क्योंकि आतंकवादी ऐसा क़दम नहीं उठाता। मैं अलग-अलग घोटालों में शामिल भ्रष्ट मंत्रियों से त्रस्त हूँ।”

थप्पड़ पड़ने के बाद पवार ने इसके लिए किसी भी पार्टी को दोषी नहीं ठहराया था, पवार की बेटी और एनसीपी से सांसद सुप्रिया सुले ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से शांत रहने को कहा था। गौरतलब है कि जब सुरक्षाकर्मियों ने हमलावर हरविंदर सिंह को बाहर निकाला तो उसने चिल्लाकर कहा था कि मैं यहाँ पूरी तैयारी के साथ मंत्री को थप्पड़ मारने ही आया था। जब दिल्ली पुलिस ने हरविंदर का इतिहास खंगाला तो पता चला कि वह न तो किसी राजनीतिक दल से जुड़ा था और न ही उसका मानसिक संतुलन बिगड़ा था।

उसने कहा था कि वह कॉन्ग्रेस नीत सरकार में घोटालों और भ्रष्टाचार से आहत था। मीडिया से बातचीत के दौरान हरविन्दर ने कहा था कि उसे किसी नतीजे की कोई परवाह नहीं है और न तो यह काम उसने सुर्ख़ियों में आने के लिए किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

Pfizer की वैक्सीन से महिलाओं का पीरियड हो सकता है प्रभावित: कंपनी के डायरेक्टर ने वीडियो में उगला सब, कहा – ‘बवाल मच जाएगा’

वीडियो में Pfizer के डायरेक्टर जॉर्डन कहते हैं कि महिलाओं के मासिक धर्म चक्र में कुछ अनियमितताएँ देखने को मिली, हमें इसकी जाँच करनी होगी।

PM मोदी फिर बने दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता: अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस… सबके लीडर टॉप-5 से भी बाहर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता सातवें आसमान पर है। वह एक बार फिर दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता चुने गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
243,756FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe