Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीति'सपा-कॉन्ग्रेस पर लोगों को विश्वास नहीं': BSP अकेले लड़ेगी UP विधानसभा चुनाव, मायावती ने...

‘सपा-कॉन्ग्रेस पर लोगों को विश्वास नहीं’: BSP अकेले लड़ेगी UP विधानसभा चुनाव, मायावती ने कहा- इस बार समझौता नहीं

मायावती ने कहा, "बीएसपी, किसी भी पार्टी के साथ कोई चुनावी समझौता नहीं करेगी। हम अपने दम पर लड़ेंगे। हमारा समझौता समाज के हर वर्ग की जनता से होगा ताकि उन्हें एकजुट लाएँ- यही गठबंधन पर्मानेंट है। हमारी इच्छा नहीं है कि हम किसी पार्टी के साथ गठबंधन करें।"

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने ऐलान कर दिया है कि वो साल 2022 में किसी भी दल के साथ समझौता नहीं करेंगी और अकेले चुनाव लड़ेंगी। उनका कहना है कि इस बार बसपा का गठबंधन जनता से होगा और प्रदेश में उनकी ही सरकार बनेगी।

मायावती ने कहा, “बीएसपी, किसी भी पार्टी के साथ कोई चुनावी समझौता नहीं करेगी। हम अपने दम पर लड़ेंगे। हमारा समझौता समाज के हर वर्ग की जनता से होगा ताकि उन्हें एकजुट लाएँ- यही गठबंधन पर्मानेंट है। हमारी इच्छा नहीं है कि हम किसी पार्टी के साथ गठबंधन करें।”

यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वह ताबड़तोड़ सरकारी योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण कर रही है। लेकिन ये योजनाएँ अभी आधी-अधूरी ही हैं और जनता इनके झांसे में नहीं आएगी। इसी तरह कॉन्ग्रेस व समाजवादी पार्टी को आड़े हाथों लेते हुए बसपा सुप्रीमो ने कहा, “कॉन्ग्रेस भी भाजपा की राह पर है इसलिए लगातार लोकलुभावन घोषणाएँ कर रही है। अगर उन्होंने सत्ता में रहते हुए 50 फीसदी भी अपने वादे पूरे किए होते तो आज केंद्र की सत्ता से बाहर न होते।” मायावती ने कहा कि जनता सपा के चुनावी वादों पर यकीन नहीं करेगी और उन्हें वोट नहीं देगी।

बता दें कि 2022 विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मायावती ने भले ही अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया है लेकिन अभी पिछले लोकसभा चुनावों में उन्होंने अखिलेश की सपा से समझौता कर पार्टी की किस्मत को आजमाया था। दोनों पार्टियों ने साल 2019 में 12 जनवरी को साथ आने का ऐलान किया था और भाजपा की प्रचंड जीत व अन्य पार्टियों की हार के बाद 23 जून को ये गठबंधन टूट गया था। मायावती ने तब कहा था कि लोकसभा चुनावों में सपा का व्यवहार ठीक नहीं था। अतः पार्टी के हित में बसपा आगे सभी चुनाव अकेले लड़ेगी।

मायावती ने ट्वीट कर कहा था, “बसपा ने प्रदेश में सपा सरकार के दौरान हुए दलित विरोधी फ़ैसलों को दरकिनार कर देशहित में पूरी तरह गठबंधन धर्म निभाया। चुनावों के बाद सपा का व्यवहार सोचने के लिए मजबूर करता है कि क्या ऐसा करके बीजेपी को आगे हरा पाना संभव होगा? जो संभव नहीं है। अतः पार्टी के हित में बसपा आगे होने वाले सभी छोड़े-बड़े चुनाव अकेले अपने बूते पर ही लड़ेगी।”

साल 2017 के विधानसभा चुनावों की बात करें उस दौरान सपा-कॉन्ग्रेस ने एक दूसरे के साथ गठबंधन किया था लेकिन उसके बाद भी 403 सीटों में से 324 पर बीजेपी गठबंधन, 54 पर एसपी-कॉन्ग्रेस गठबंधन, 19 पर बीएसपी और 6 सीटें अन्य के खाते में गई थीं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

UGC-NET जून 2024 परीक्षा रद्द, 18 जून को 11.21 लाख छात्रों ने दी थी परीक्षा: साइबर क्राइम सेल से मिला सेंधमारी का इनपुट,...

परीक्षा प्रक्रिया की उच्चतम स्तर की पारदर्शिता और पवित्रता सुनिश्चित करने के लिए भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय ने निर्णय लिया है कि यूजीसी-नेट जून 2024 परीक्षा रद्द की जाए।

मंच से उड़ा रहे थे भगवान राम और माता सीता का मजाक, नीचे से बज रही थी सीटी: एक्शन में IIT बॉम्बे, छात्र पर...

भगवान का मजाक उड़ाने वाले छात्रों के खिलाफ 1.20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया। वहीं कुछ छात्रों को हॉस्टल से निलंबित भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -