‘J&K पुलिस ने शाह फैसल और सज्जाद लोन की जम कर की पिटाई’: सहमी महबूबा ने कहा- ये मार्शल लॉ

जम्मू कश्मीर पुलिस ने महबूबा मुफ़्ती के दावों को नकार दिया है। आईपीएस इम्तियाज हुसैन ने कहा कि कुछ ट्विटर हैंडल्स द्वारा श्रीनगर स्थित एमएलए हॉस्टल में नेताओं के साथ मारपीट की बातें फैलाई जा रही हैं।

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने राज्य की पुलिस पर बड़ा आरोप लगाया है। पूर्व सीएम ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश घोषित होते ही राज्य की पुलिस सत्ता के मद में चूर हो गई है। मुफ़्ती ने आरोप लगाया कि पुलिस ने सज्जाद लोन और शाह फैसल जैसे नेताओं की पिटाई भी की है। शाह फैसल ने नई राजनीतिक पार्टी का गठन किया था लेकिन अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त किए जाने के बाद उनके मंसूबों पर पानी फिर गया। शाह फैसल भारत के बारे में अंतरराष्ट्रीय मंचों पर नकारात्मकता फैलाने के लिए तुर्की भाग रहे थे लेकिन ऐन मौके पर उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट से धर दबोचा गया

सत्ता की वासना में जब नौकरशाही की निष्ठा शीघ्रपतित होती है तो लोग शाह फ़ैसल बन जाते हैं

वहीं सज्जाद लोन ‘जम्मू कश्मीर पीपल्स कॉन्फ्रेंस’ के मुखिया हैं और विधायक रह चुके हैं। अभी इन नेताओं को पुलिस ने अपने ऐहतियान हिरासत में ले रखा है। इन्हें हाउस अरेस्ट में रखा गया है। वहीं तीनों पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती, उमर अब्दुल्ला और फ़ारूक़ अब्दुल्ला भी हाउस अरेस्ट के बाद अलग-अलग जगहों पर रखे गए हैं। महबूबा मुफ़्ती ने अपने ट्विटर हैंडल से आरोप लगाया कि सज्जाद लोन और शाह फैसल जैसे नेताओं को श्रीनगर एमएलए हॉस्टल में शिफ्ट करते समय पुलिस ने उनके साथ हाथापाई की। महबूबा मुफ़्ती ने आरोप लगाया कि पुलिस ने इन कश्मीरी नेताओं की जम कर पिटाई की।

महबूबा मुफ़्ती ने आरोप लगाया कि जम्मू कश्मीर में अभी मार्शल लॉ चल रहा है और जनप्रतिनिधियों को अपमानित किया जा रहा है। वहीं पीडीपी के प्रवक्ता वहीद पारा की पिटाई किए जाने की बात भी महबूबा मुफ़्ती ने कही है। महबूबा ने बताया कि ये वही वहीद पारा हैं, जिन्हें जम्मू कश्मीर में लोकतंत्र मजबूत करने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सराहा था। महबूबा ने पूछा कि सिविल सर्विस की परीक्षा में शीर्ष स्थान पाने के बाद जिस शाह फैसल को राज्य का रोल मॉडल बताया गया था, आज उन्हें इस तरह अपमानित क्यों किया जा रहा है? उनके साथ दुर्व्यवहार क्यों हो रहा है?

शाह फैसल! भाई साब किस लाइन में आ गए आप?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

सज्जाद लोन के बारे में महबूबा मुफ़्ती ने कहा कि वो 2014 से ही नरेंद्र मोदी की नज़र में खटक रहे हैं। उन्होंने बताया कि सज्जाद लोन पहले अलगाववादी थे लेकिन बाद में उन्होंने लोकतान्त्रिक राजनीति में क़दम रखा। हालाँकि, जम्मू कश्मीर पुलिस ने महबूबा मुफ़्ती के दावों को नकार दिया है। आईपीएस इम्तियाज हुसैन ने कहा कि कुछ ट्विटर हैंडल्स द्वारा श्रीनगर स्थित एमएलए हॉस्टल में नेताओं के साथ मारपीट की बातें फैलाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई भी घटना नहीं हुई है। साथ ही इम्तियाज ने ये भी बताया कि पुलिस ने बस ज़रूरी सुरक्षा ड्रिल को अंजाम दिया है, जो नियमित तौर पर होता रहता है।

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के बाद से ही कई अलगाववादियों व कश्मीरी नेताओं को हिरासत में रखा गया है। इनमें से कई नेताओं को गिरफ़्तार कर के किसी गेस्ट हाउस या होटलों में भी रखा गया है। अलगाववादियों को यूपी के जेल में भेजने की भी ख़बरें आई थीं।

हुर्रियत नेताओं के पक्ष में उतर आए शाह फैसल, बच्चों को विदेश भेजने का किया खुला समर्थन

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

उद्धव ठाकरे-शरद पवार
कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी के सावरकर को लेकर दिए गए बयान ने भी प्रदेश की सियासत को गरमा दिया है। इस मसले पर भाजपा और शिवसेना के सुर एक जैसे हैं। इससे दोनों के जल्द साथ आने की अटकलों को बल मिला है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,575फैंसलाइक करें
26,134फॉलोवर्सफॉलो करें
127,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: