Wednesday, August 4, 2021
Homeराजनीतिभ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी का इस्तीफा: तेजस्वी यादव पर...

भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी का इस्तीफा: तेजस्वी यादव पर करेंगे 50 करोड़ की मानहानि का केस

"जो हमारे खिलाफ बोल रहे हैं और यह कह रहे है कि मेरी पत्नी की मौत के लिए मैं जिम्मेवार हूँ, उनके खिलाफ आज ही 50 करोड़ की मानहानि का केस करूँगा और आज ही उनके पास लीगल नोटिस जाएगा।"

भ्रष्टाचार के आरोपों के बीच बिहार के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने आज (नवंबर 19, 2020) अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उनके बाद इस विभाग का अतिरिक्त प्रभार प्रदेश मंत्री अशोक चौधरी को दिया गया है। अशोक चौधरी के पास शिक्षा विभाग के अलावा भवन निर्माण और समाज कल्याण विभाग की भी जिम्मेदारी है यानी राज्यपाल के अगले आदेश तक अब वह तीन विभागों को संभालेंगे।

कुछ देर पहले ही अशोक चौधरी ने अपने ट्वीट पर कुछ तस्वीरें पोस्ट करके जानकारी दी है कि उन्होंने आज ही सुबह विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भवन निर्माण विभाग, समाज कल्याण विभाग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग का कार्यभार ग्रहण किया।

उल्लेखनीय है कि डॉ मेवालाल चौधरी ने आज ही 1 बजे शिक्षामंत्री का पदभार संभालते हुए शपथ ली थी लेकिन कुछ ही देर बाद ही यह खबर आई कि उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

उन्होंने तेजस्वी यादव पर पलटवार करते हुए कहा, “जो हमारे खिलाफ बोल रहे हैं और यह कह रहे है कि मेरी पत्नी की मौत के लिए मैं जिम्मेवार हूँ, उनके खिलाफ आज ही 50 करोड़ की मानहानि का केस करूँगा और आज ही उनके पास लीगल नोटिस जाएगा।”

उन्होंने कहा कि कोई भी केस तब साबित होता है जब आपके खिलाफ़ कोई चार्जशीट हुई हो या कोर्ट ने कुछ फैसला किया हो। न उनके खिलाफ अभी कोई चार्जशीट हुई है न ही उनके ऊपर कोई आरोप दर्ज़ हुआ है। अपने ऊपर लगे इल्जामों को डॉ मेवालाल ने ख़ारिज करते हुए कहा कि वो तेजस्वी यादव पर 50 करोड़ का मानहानि का केस करेंगे।

जानकारी के लिए बता दें कि डॉ मेवालाल चौधरी पर आरोप है कि बिहार कृषि विश्वविद्यालय (बीएयू) के कुलपति रहते समय उन्होंने प्रोफेसरों की भर्ती में भ्रष्टाचार किया था। इस मामले में उन पर एफआईआर भी हुई थी। इसके बाद जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) से उन्हें निलंबित कर दिया गया था।

डॉ मेवालाल चौधरी पर भवन निर्माण मामले में भी आरोप लगे हुए हैं। नियुक्ति घोटाले में फरवरी 2017 में IPC 409, 420, 467, 468, 471 और 120B के तहत मुक़दमा दर्ज किया गया था। इसलिए जब उनके शिक्षामंत्री बनने की बात खबरों में आई तो विपक्ष ने उनके साथ नीतिश सरकार पर भी निशाना साधना शुरू कर दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

5 करोड़ कोविड टीके लगाने वाला पहला राज्य बना उत्तर प्रदेश, 1 दिन में लगे 25 लाख डोज: CM योगी ने लोगों को दी...

उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य बन गया है, जिसने पाँच करोड़ कोरोना वैक्सीनेशन का आँकड़ा पार कर लिया है। सीएम योगी ने बधाई दी।

अ शिगूफा अ डे, मेक्स द सीएम हैप्पी एंड गे: केजरीवाल सरकार का घोषणा प्रधान राजनीतिक दर्शन

अ शिगूफा अ डे, मेक्स द CM हैप्पी एंड गे, एक अंग्रेजी कहावत की इस पैरोडी में केजरीवाल के राजनीतिक दर्शन को एक वाक्य में समेट देने की क्षमता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,863FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe