Friday, October 7, 2022
Homeराजनीतिराहुल गाँधी पर जो कहा उस पर कायम हूँ: जबरन छुट्टी पर भेजे गए...

राहुल गाँधी पर जो कहा उस पर कायम हूँ: जबरन छुट्टी पर भेजे गए मुंबई यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर

सोमन मुंबई यूनिवर्सिटी के एकेडमी ऑफ आर्ट के डायरेक्टर हैं। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा था कि राहुल गाँधी पर टिप्पणी करने वाले प्रोफेसर के खिलाफ जल्द ही बड़ा एक्शन लिया जाएगा।

जबरन छुट्टी पर भेजे गए मुंंबई यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर योगेश सोमन ने कहा है कि उन्होंने जो कहा उस पर वे कायम हैं। कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी को लेकर कथित तौर पर विवादित टिप्पणी के बाद उन्हें अनिवार्य छुट्टी पर भेज दिया गया था। सोमन मुंबई यूनिवर्सिटी के एकेडमी ऑफ आर्ट के डायरेक्टर हैं।

उन्होंने कहा कि जबरन अवकाश पर भेजे जाने की मुझे जानकारी नहीं है। इस संबंध में जो भी जानकारी मिली है वह मीडिया के माध्यमों से मिली है। मामले में आधिकारिक जॉंच होने के बाद ही मैं अपना आधिकारिक बयान दूँगा। इससे पहले बताया गया था कि विश्वविद्यालय ने प्रोफेसर को इस मामले में दोषी मानते हुए अवकाश पर जाने का आदेश दे दिया है।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार प्रोफेसर सोमन ने 14 दिसंबर को फेसबुक पर एक वीडियो ब्लॉग लिखा था। इस वीडियो में इस्तेमाल किए गए कुछ शब्दों को NSUI द्वारा और कुछ शब्दों को विश्वविद्यालय के अधिकारियों द्वारा आपत्तिजनक बताया गया था। बताया गया था कि NSUI ने प्रोफेसर योगेश सोमन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। इसके बाद विश्वविद्यालय की फैक्ट-फाइंडिंग ने उन्हें दोषी पाया और छुट्टी पर जाने के लिए कह दिया गया।

इस वीडियो में सोमन ने सावरकर को लेकर राहुल गॉंधी के बयान पर प्रतिक्रिया दी थी। 51 सेकंड के इस वीडियो में वे राहुल गाँधी से कहते हुए दिखाई दे रहे हैं, “आप वास्तव में सावरकर नहीं हैं, आपके अंदर उनके कोई गुण मोजूद नहीं हैं। सच तो यह है कि आप एक सच्चे गाँधी ही नहीं हैं…।” गौरतलब है कि राहुल गाँधी ने दिल्ली में एक रैली के दौरान कहा था, “मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं है, मैं माफी नहीं माँगूँगा”।

भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने इस मुद्दे पर कहा था कि प्रोफेसर को जबरन अवकाश पर भेजना असहिष्णुता है। वहीं महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि राहुल गाँधी पर टिप्पणी करने वाले प्रोफेसर के खिलाफ जल्द ही बड़ा एक्शन लिया जाएगा। देशमुख ने आगे कहा कि एक प्रोफेसर का काम छात्रों को पढ़ाना होता है न कि इस तरह की बयानबाजी करना। अभी उन्हें जबरन छुट्टी पर भेजा गया है, लेकिन जल्द ही उनके खिलाफ बड़ी कार्रवाई भी की जाएगी।

वहीं, यूनिवर्सिटी का कहना था कि प्रोफेसर के खिलाफ फेसबुक पोस्ट के अलावा और भी कई अन्य आरोप थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंदिर में नमाज गंगा-जमुनी तहजीब, कर्नाटक के बीदर में पारंपरिक दशहरा पूजा मस्जिद-मुस्लिमों पर हमला: इस्लामी प्रलाप कब तक भोगते रहेंगे हिंदू

कर्नाटक के बीदर में दशहरा पूजा की जो परिपाटी निजाम काल से चल रही है, उस पर इस्लामी प्रलाप चल रहा है। इसके दबाव में पुलिस ने 9 हिंदुओं पर एफआईआर की है।

राजस्थान में छाया बिजली संकट: 23 थर्मल स्टेशनों में से 11 बंद, प्रदेश में बचा है सिर्फ 4 दिन का कोयला

राजस्थान में बिजली संकट का खतरा बढ़ता जा रहा है। कोयले की आपूर्ति न होने के कारण प्रदेश में 23 थर्मल स्टेशनों में से 11 ने बिजली उत्पादन करना बंद कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,731FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe